0

जन्माष्टमी पर प्लान कर सकते हैं श्री कृष्ण से जुड़ी इन 7 जगहों पर जाने का

शुक्रवार,अगस्त 12, 2022
0
1
श्रावण मास के कृष्ण पक्ष की पंचमी को नागपंचमी का त्योहार मनाया जाता है। इस बार 2 अगस्त 2022 मंगलवार को यह पर्व है। उज्जैन स्थित महाकालेश्वर के शीखर के नीचे स्थित नागचंद्रेश्वर मंदिर वर्ष में एक बार ही खुलता है।
1
2
जो मनुष्य इस ज्योतिर्लिंग के दर्शन करता है तथा उत्पत्ति और माहात्म्य की कथा सुनता है, वह सारे पापों से छुटकारा पाकर समस्त सुखों का भोग करता हुआ अंत में भगवान शिव के परम पवित्र दिव्य धाम को प्राप्त होता है। तो आइए जानें नागेश्वर ज्योतिर्लिंग के बारे ...
2
3
Nagpanchami 2022: 2 अगस्त 2022 मंगलवार को यानी श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी को नागपंचमी का पर्व मनाया जाएगा। देशभर में यूं तो सैंकड़ों प्राचीन नाग मंदिर है। जैसे नागचंद्रेश्वर मंदिर उज्जैन, कर्कोटक मंदिर उज्जैन, वासुकि नाग मंदिर प्रयागराज, ...
3
4
यदि आप मानसून में घूमना चाहते हैं लेकिन पहाड़ों पर नहीं जाना चाहते हैं तो आपको ऐसी जगहें खोजना होगी जहां पर खतरा ज्यादा न हो। यानी बारिश का मजा भी हो, प्रकृति का आनंद भी हो और तीर्थाटन भी हो जाए तो इस बार के मानसून में जानिए उत्तर प्रदेश की इन खास 5 ...
4
4
5
Lord Shiva Statues In India हिन्दू धर्म में भगवान शिव का विशेष महत्व है और देश भर में उनके कई शिवालय, ज्योतिर्लिंग तथा छोटे-बड़े मंदिर और बड़ी-बड़ी विशालकाय मूर्तियां विराजित हैं। अभी सावन का महीना जारी है और इन दिनों उनके भक्त शिव पूजा में व्यस्त ...
5
6
भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिंगों में शामिल उत्तरप्रदेश की प्राचीन धार्मिक नगरी वाराणसी में हजारों साल पूर्व स्थापित श्री काशी विश्वनाथ मंदिर (Kashi Vishwanath Temple) विश्वप्रसिद्ध है।
6
7
Bhagwan krishna ka dil kahan per hai: हिन्दू धर्म के बेहद पवित्र स्थल और चार धामों में से एक जगन्नाथ पुरी की धरती को भगवान विष्णु का स्थल माना जाता है। जगन्नाथ मंदिर से जुड़ी एक बेहद रहस्यमय कहानी प्रचलित है। स्थानीय मान्यताओं अनुसार कहते हैं कि इस ...
7
8
शिमला से मनाली लगभग 275 किलोमीटर दूर है। चारों ओर से पहाड़ों से घिरे मनाली को देखकर रोमांच और रोमांस का अनुभव होता है। मनाली न केवल अपने अद्‍भुत प्राकृतिक सौंदर्य के कारण पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है, बल्कि कुल्लू घाटी का असली सौंदर्य मनाली में ...
8
8
9
Uttarakhand Tourism: उत्तराखंड में कई तीर्थ स्थल है। खासाकर छोटा चार धाम यहीं पर स्थिति है। जैसे केदारनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री और बद्रीनाथ धाम। गंगा नदी गंगोत्री से निकलकर पहाड़ों से बहती हुई जब मैदान यानी हरिद्वार में बहती है तो उसे देखा बहुत ही ...
9
10
मां वैष्णोदेवी का मंदिर जनमानस में प्रचलित नाम है। यहां लाखों श्रद्धालु दर्शन करने आते हैं। यहां पवित्र गुफा में तीन पिंडियां है, जो कि पवित्रतम स्थान है। यह पवित्र गुफा ही माता वैष्णोदेवी के मंदिर (vaishno devi story) के रूप में विश्व प्रसिद्ध है।
10
11
देवी लक्ष्मी को धन और समृद्धि प्रदान करने वाली देवी माना जाता है। मान्यता है कि माता लक्ष्मी के मंदिर में जाकर पूजन-अर्चन करने से आर्थिक संकट समाप्त हो जाता है। खासकर शुक्रवार को यहां जाना चाहिए। महालक्ष्मी और लक्ष्मी के कई प्राचीन और प्रसिद्ध मंदिर ...
11
12
पंजाब भारत का एक प्रमुख राज्य है परंतु यह दुर्भाग्य है कि विभाजन के समय इसका आधा हिस्सा पाकिस्तान में चला गया है। भारतीय पंजाब में देखने लायक सैकड़ों टूरिज्म स्पॉट है। आओ जानते हैं यहां के 10 बेहतरीन पर्यटन स्थल जहां पर आपको जरूर घूमने जाना चाहिए।
12
13
महाराष्‍ट्र में देश के सबसे प्राचीन और खास गणेश मंदिर विद्यमान है। पूरे महाराष्ट्र में अन्य राज्यों की अपेक्षा गणेश उत्सव की सबसे ज्यादा धूम रहती है। यहां गणेशजी के अष्ट विनायक रूप के प्रसिद्ध मंदिर भी है। महाराष्ट्र में पुणे के समीप अष्टविनायक के ...
13
14
भगवान गणेशजी के मुख्यत: अष्टरूप है जिन्हें अष्‍ट विनायक कहते हैं। 1. महोत्कट विनायक, 2. मयूरेश्वर विनायक, 3. गजानन विनायक, 4. गजमुख विनायक, 5. मयुरेश्वर विनायक, 6. सिद्धि विनायक, 7. बल्लालेशवर विनायक और 8. वरद विनायक। इन अष्ट विनायक में सबसे ...
14
15
दक्षिण भारत में गणेश पूजा का बहुत प्रचलन है। वहां पर भगवान कार्तिकेय और महालक्ष्मी की पूजा के साथ ही गणेश पूजा भी की जाती है। आओ जानते हैं वहां के 5 खास मंदिरों की जानकारी।
15
16
जिस तरह बंगाल में माता दुर्गा, काली और पार्वती की भक्ति का प्रचलन है उसी तरह महाराष्ट्र में भगवान गणेश और महालक्ष्मी की भक्ति का प्रचलन है। पूरे महाराष्ट्र में अन्य राज्यों की अपेक्षा गणेश उत्सव की सबसे ज्यादा धूम रहती है। यहां गणेशजी के अष्ट विनायक ...
16
17
गहन अंधेरी कंदरा में प्रवेश करते ही सामने एक विशाल शिवलिंग शक्तिपुंज-सा दृष्टिगोचर होता है। नीचे जलराशि में झिलमिलाते दीप एवं खिले कमल मन मंदिर को उल्लास से भर देते हैं। पुष्पों की सुवास से सुरभित पवन, तांबे के स्वर्ण जड़ित पात्र से लिंग पर टप-टप ...
17
18
भारत के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है विश्‍व प्रसिद्ध सबरीमाला का मंदिर। यहां हर दिन लाखों लोग दर्शन करने के लिए आते हैं। हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर लगा प्रतिबंध हटा दिया है। करीब 800 साल पुराने इस मंदिर में ...
18
19
कलियुग में गोवर्धन पर्वत, जिन्हें गिरिराज भी कहा जाता है, की परिक्रमा बहुत ही महत्वपूर्ण मानी गई है। गिरिराज गोवर्धन की परिक्रमा श्रद्धालुओं के सभी मनोरथों को पूर्ण करने वाली होती है। गोवर्धन पर्वत को योगेश्वर भगवान कृष्ण का साक्षात स्वरूप माना गया ...
19