मद्रास उच्च न्यायालय ने रम्मी व पोकर के ऑनलाइन खेल से हटाया प्रतिबंध

Last Updated: मंगलवार, 3 अगस्त 2021 (21:28 IST)
हमें फॉलो करें
चेन्नई। ने 1930 में पारित तमिलनाडु गेमिंग अधिनियम में हाल में किए गए एक संशोधन को मंगलवार को रद्द कर दिया। इस संशोधन के तहत दांव लगाए जाने के साथ रम्मी और पोकर के ऑनलाइन गेमिंग पर लगा दिया गया था। मुख्य न्यायाधीश संजीव बनर्जी और न्यायमूर्ति सेंथिलकुमार राममूर्ति की प्रथम पीठ ने जंगली गेम्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड और अन्य की जनहित याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए इस साल किए गए संशोधन को रद्द कर दिया।
ALSO READ:

IT एक्ट की धारा 66A में दर्ज हो रहे मामले, Supreme Court ने राज्यों से मांगा जवाब

पीठ ने टीएन गेमिंग और पुलिस कानून (संशोधन) अधिनियम, 2021 के भाग 2 को असंवैधानिक घोषित किया जिसके तहत साइबर जगत में सट्टेबाजी या दांव लगाने पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। पीठ ने कहा कि जिस संशोधन को रद्द किया गया है, उसे कुछ ऐसा माना जाना चाहिए, जो कि तर्कहीन रूप किया गया हो। पीठ ने कहा कि इसलिए, यह अदालत संविधान के उल्लंघन के रूप में संशोधन को पूरी तरह से रद्द कर देती है।(भाषा)



और भी पढ़ें :