अमरिंदर ने चन्नी सरकार को लिया निशाने पर, कहा- 2 महीने में बढ़ा भ्रष्टाचार

Last Updated: सोमवार, 6 दिसंबर 2021 (23:49 IST)
हमें फॉलो करें
चंडीगढ़। पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री ने सोमवार को चरणजीत सिंह चन्नी की अगुवाई वाली सरकार को निशाने पर लेते हुए लगाया कि पिछले 2 महीने में राज्य में बढ़ गया है। अमरिंदर सिंह ने यह भी आरोप लगाया कि राज्य सरकार कल्याणकारी कामों को लेकर 'नाटक' कर रही है और दावा किया कि उनके शासनकाल में अधिकतर चुनावी वादों को पूरा कर दिया गया है।
ALSO READ:

कैप्टन अमरिंदर का ऐलान, पंजाब में BJP के साथ लड़ेंगे चुनाव

अमरिंदर सिंह ने यह टिप्पणी यहां सेक्टर 9 में अपनी पार्टी पंजाब लोक कांग्रेस के नए कार्यालय के उद्घाटन के बाद पत्रकारों से बातचीत के दौरान की। अमरिंदर सिंह को सितंबर में पंजाब के मुख्यमंत्री पद से हटा दिया गया था जिसके बाद उन्होंने कांग्रेस छोड़ दी थी और पंजाब लोक कांग्रेस नाम से अपनी पार्टी बना ली थी।
चन्नी सरकार के दावों के बारे में पूछे जाने पर अमरिंदर सिंह ने कहा कि उन्हें अखबारों में सरकार के पूरे पन्नों के विज्ञापनों पर हंसी आती है। उन्होंने आगामी विधानसभा चुनाव के संदर्भ में कहा कि वे सिर्फ नाटक कर रहे हैं। वे अच्छी तरह जानते हैं कि कुछ होने वाला नहीं है और सिर्फ 2 हफ्ते में आदर्श आचार संहिता लागू हो जाएगी। पूर्व मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि प्रदेश में पिछले 2 माह में भ्रष्टाचार बढ़ा है।


अवैध बालू खनन पर किए गए एक सवाल के जवाब में अमरिंदर सिंह ने कहा कि जब वे मुख्यमंत्री थे तब उन्होंने इसकी जांच के लिए एक विशेष कार्यबल का गठन किया था। उन्होंने आम आदमी पार्टी के चमकौर साहिब में अवैध खनन होने के दावे पर कहा कि कल रविवार को मुख्यमंत्री के निर्वाचन क्षेत्र में अवैध खनन होता मिला।
आम आदमी पार्टी (आप) पर निशाना साधते हुए सिंह ने सवाल किया कि अगर वे जमीन पर मजबूत हैं तो उनके विधायक पार्टी क्यों छोड़ रहे हैं? आप की विधायक रूपिंदर कौर रूबी और जगतार सिंह हाल में कांग्रेस में शामिल हुए हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर किए गए एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि हम पंजाब में उनके जैसा व्यक्ति नहीं चाहते। वे बहुत ही डरपोक चरित्र के व्यक्ति हैं, उन्हें वहीं रहने की जरूरत है। अमरिंदर सिंह के बेटे रनिंदर सिंह और बेटी इंदर कौर भी इस मौके पर मौजूद थी। रनिंदर सिंह ने कहा कि वे पार्टी के लिए काम करेंगे लेकिन विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे।



और भी पढ़ें :