शनिवार, 20 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. धर्म-संसार
  2. व्रत-त्योहार
  3. शारदीय नवरात्रि
  4. Shubh muhurat of durga saptami ashtami navami and dashami 2021
Written By
Last Updated : मंगलवार, 12 अक्टूबर 2021 (15:41 IST)

शारदीय नवरात्रि में सप्तमी, अष्टमी, नवमी और दशमी के मुहूर्त जानिए

शारदीय नवरात्रि में सप्तमी, अष्टमी, नवमी और दशमी के मुहूर्त जानिए - Shubh muhurat of durga saptami ashtami navami and dashami 2021
शारदीय नवरात्रि में घटस्थापना, कलश पूजा, माता की पूजा, आरती, सभी कुछ मुहूर्त में किया जाता है। नवरात्रि में अष्‍टमी नवमी और दशमी की पूजा बहुत महत्वपूर्ण होती है। इस पूजा में मुहूर्त का बड़ा महत्व होता है। आओ जानते हैं तीनों महत्वपूर्ण दिनों के शुभ मुहूर्त।
 
 
1. सप्तमी : यह तिथि अश्विन मास शुक्ल पक्ष अर्थात 11 अकटूबर सोमवार को रात 11 बजकर 50 से प्रारंभ होकर 12 अक्टूबर 2021 दिन मंगलवार को रात 09 बजकर 47 मिनट तक सप्तमी रहेगी।
 
योग : शोभन योग।
पूजा के मुहूर्त : अभिजीत मुहूर्त- 11:50 AM से 12:36 PM तक।
ब्रह्म मुहूर्त : 04:48 AM से 05:36 AM तक।
 
दिन का चौघड़िया :
लाभ– 10:46 AM से 12:13 PM तक।
अमृत– 12:13 PM से 13:40 PM तक।
शुभ – 15:06 PM से 16:33 PM तक।
 
रात का चौघड़िया :
लाभ – 19:33 PM से 21:06 PM तक।
शुभ– 22:40 PM से 00:13 PM तक।
अमृत– 00:13 PM से 01:46 PM तक।
 
2. अष्टमी तिथि : यह तिथि अश्विन मास शुक्ल पक्ष अर्थात 12 अक्टूबर 2021 दिन मंगलवार को रात 09 बजकर 49 मिनट 38 सेकंड से प्रारंभ होकर 13 अक्टूबर 2021 दिन बुधवार को रात 08 बजकर 09 मिनट और 56 सेकंड पर समाप्त होगी। अत: अष्टमी का पूजन 13 अक्टूबर 2021, दिन बुधवार को किया जाएगा।
 
योग : सुकर्मा योग।
पूजा के मुहूर्त : अमृत काल- 03:23 AM से 04:56 AM है और ब्रह्म मुहूर्त– 04:48 AM से 05:36 AM तक है। 
 
दिन का चौघड़िया :
लाभ – 06:26 AM से 07:53 PM तक।
अमृत – 07:53 AM से 09:20 PM तक।
शुभ – 10:46 AM से 12:13 PM तक।
लाभ – 16:32 AM से 17:59 PM तक।
 
रात का चौघड़िया :
शुभ – 19:32 PM से 21:06 PM तक।
अमृत – 21:06 PM से 22:39 PM तक।
लाभ – 03:20 PM से 04:53 PM तक।
 
 
3. नवमी तिथि : यह तिथि का प्रारंभ 13 अक्टूबर 2021 दिन बुधवार को रात 08 बजकर 09 मिनट और 56 सेकंड से प्रारंभ होकर 14 अक्टूबर 2021 दिन बृहस्पतिवार को शाम 06 बजकर 54 मिनट और 40 सेकंड पर समाप्त होगी। अत: नवमी का पूजन 14 अक्टूबर 2021, दिन गुरुवार को किया जाएगा।
 
योग : धृति योग।
पूजा के मुहूर्त :- 
अभिजीत मुहूर्त- प्रात: 11 बजकर 43 मिनट और 57 सेकंड से दोपहर 12 बजकर 30 मिनट और 6 सेकंड तक रहेगा।
अमृत काल – 11:00 PM से 12:35 AM
ब्रह्म मुहूर्त – 04:49 AM से 05:37 AM
 
दिन का चौघड़िया :
शुभ – 06:27 AM से 07:53 PM तक।
लाभ – 12:12 PM से 13:39 PM तक।
अमृत – 13:39 PM से 15:05 PM तक।
शुभ – 16:32 PM से 17:58 PM तक।
 
रात का चौघड़िया :
अमृत– 17:58 PM से 19:32 PM तक।
लाभ – 00:13 PM से 01:46 PM तक।
शुभ – 03:20 PM से 04:54 PM तक।
अमृत – 04:54 PM से 06:27 PM तक।
 
4. दशमी तिथि : यह तिथि 14 अक्टूबर 2021 दिन गुरुवार को शाम 06 बजकर 52 मिनट से प्रारंभ होकर 15 अक्टूबर 2021 दिन शुक्रवार को शाम 06 बजकर 02 मिनट पर समाप्त होगी। अत: विजय दशमी का त्योहार 15 अक्टूबर 2021 दिन शुक्रवार को मनाया जाएगा।
 
योग : सर्वार्थसिद्धि योग।
 
अभिजीत मुहूर्त : सुबह 11 बजकर 43 मिनट से दोपहर 12 बजकर 30 मिनट तक।
विजय मुहूर्त : दोपहर 2 बजकर 01 मिनट 53 सेकंड से दोपहर 2 बजकर 47 मिनट और 55 सेकंड तक।
अपराह्न मुहूर्त : 1 बजकर 15 मिनट 51 सेकंड से 3 बजकर 33 मिनट और 57 सेकंड तक तक।
अमृत काल मुहूर्त: शाम 6 बजकर 44 मिनट से रात 8 बजकर 27 मिनट तक।
 
दिन का चौघड़िया :
लाभ – 07:53 एएम से 09:20 एएम तक
अमृत – 09:20 एएम से 10:46 एएम तक
शुभ – 12:12 पीएम से 13:38 पीएम तक
 
रात का चौघड़िया :
लाभ – 21:05 पीएम से 22:39 पीएम तक
शुभ – 00:12 एएम से 01:46 एएम तक
अमृत – 01:46 एएम से 03:20 एएम तक
 
नोट : स्थानीय पंचांग के अनुसार तिथि-मुहूर्त के समय घट-बढ़ होती है।