हवलदार बलजीत सिंह को मरणोपरांत सेना मेडल

पुनः संशोधित बुधवार, 13 जनवरी 2021 (12:57 IST)
नई दिल्ली। वर्ष 2019 में आतंकवादियों से लोहा लेते समय शहीद हुए को से सम्मानित किया गया। वीरता का यह सम्मान शहीद बलजीत की पत्नी अरुण रानी को बुधवार को परेड के दौरान प्रदान किया गया।

हवलदार बलजीत (50 आरआर) 12 फरवरी 2019 को जम्मू कश्मीर में पुलवामा जिले के काकापोरा में आतंकवादियों से लोहा लेते हुए शहीद हो गए। इस मुठभेड़ में कई आतंकवादी भी मारे गए थे। सेना ने हवलदार बलजीत के अदम्य साहस और वीरता की प्रशंसा करते हुए कहा कि उन्होंने न सिर्फ आतंकवादी को मार गिराया बल्कि अपने साथियों की भी जान बचाई।

मुठभेड़ के समय बलजीत सिंह 50 राष्ट्रीय राइफल में हवलदार के पद पर तैनात थे। उनकी उम्र 35 वर्ष थी। वे करनाल के गांव डिंगर माजरा के रहने वाले थे।



और भी पढ़ें :