जब हिन्दी न आने के बावजूद हिन्दी में बोले रतन टाटा, ध्यान से सुनते रहे PM मोदी

पुनः संशोधित गुरुवार, 28 अप्रैल 2022 (22:57 IST)
हमें फॉलो करें
in Hindi: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने असम में आज 7 कैंसर देखभाल केंद्रों का उदघाटन किया। दिग्‍गज इंडस्ट्रियलिस्‍ट टाटा ट्रस्ट्स के अध्यक्ष रतन टाटा टाटा इस मौके पर बेहद भावुक दिखाई दिए। उन्‍होंने पहले तो हिन्दी में न बोल पाने के लिए माफी मांगी और कहा कि मैं हिन्दी में भाषण नहीं दे सकता, इसलिए अंग्रेजी में बोलूंगा।
कुछ देर अंग्रेजी में बोलने के बाद उन्होंने टूटी-फूटी ही सही लेकिन हिन्दी में बोलने लगे। रतन टाटा ने कहा कि 'संदेश एक ही होगा। मेरे दिल से निकला हुआ। मैं अपनी जिदंगी के आखिरी साल स्‍वास्‍थ्‍य को समर्पित करता हूं। असम को ऐसा राज्‍य बनाएं जो सबको पहचाने और जिसको सब पहचानें।

रतन टाटा जब अपनी बात रख रहे थे, तब मंच पर पीएम मोदी के अलावा असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्‍व सरमा, पूर्व सीएम सर्वानंद सोनोवाल भी मौजूद थे। उन्होंने कहा कि असम के इतिहास में आज का दिन बहुत महत्वपूर्ण है। कैंसर के उपचार के लिए उच्चतर स्तर की स्वास्थ्य देखभाल सुविधा, जो अब तक राज्य में उपलब्ध नहीं थी वह यहां लाई गई है।
टाटा ने कहा कि असम यह अब कह सकता है कि भारत का एक छोटा राज्य भी विश्व स्तरीय कैंसर उपचार सुविधाओं से लैस है। इन केंद्रों का विकास राज्य सरकार और टाटा ट्रस्ट्स के संयुक्त उद्यम असम कैंसर केयर फाउंडेशन द्वारा किया जा रहा है।

नेटवर्क के तहत अन्य तीन अस्पताल इस साल के अंत में खोले जाएंगे। परियोजना की आधारशिला जून 2018 में रखी गई थी। लकड़ी की धुआं युक्त आंच पर सेंके गए मांस, तंबाकू और सुपारी के उपभोग के चलते असम में कैंसर रोग की अधिक मौजूदगी है।



और भी पढ़ें :