Tiktok, UC सहित 59 चायनीज ऐप्स पर भारत सरकार ने लगाया प्रतिबन्ध

नई दिल्ली। भारत ने सोमवार को चीन से संबंध रखने वाले 59 मोबाइल ऐप पर प्रतिबंध लगा दिया, लोकप्रिय (TikTok Apps), (UC Browser) शेयरइट और वीचैट जैसे ऐप भी शामिल हैं। सरकार ने कहा कि ये ऐप देश की संप्रभुता, अखंडता और राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए हानिकारक हैं।
Last Updated: सोमवार, 29 जून 2020 (23:16 IST)
 
 
ये प्रतिबंध लद्दाख क्षेत्र में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चीनी सैनिकों के साथ मौजूदा तनावपूर्ण स्थितियों के बीच लगाए गए हैं। प्रतिबंधित सूची में वीचैट, बीगो लाइव, हैलो, लाइकी, कैम स्कैनर, वीगो वीडियो, एमआई वीडियो कॉल- शाओमी, एमआई कम्युनिटी, क्लैश ऑफ किंग्स के साथ ही ई-कॉमर्स प्लेटफार्म क्लब फैक्टरी और शीइन शामिल हैं।
 
ऐसे में इस फैसले ने चीनी प्रौद्योगिकी कंपनियों की बड़ी सफाई कर दी है। भारत में टिकटॉक के 20 करोड़ से अधिक उपयोगकर्ता हैं, जबकि शाओमी सबसे बड़ा मोबाइल ब्रांड है।
 
अलीबाबा का यूसी ब्राउजर एक मोबाइल इंटरनेट ब्राउजर है, जो 2009 से भारत में उपलब्ध है। इसका दावा है कि सितंबर 2019 में दुनिया भर (चीन को छोड़कर) में उसके 1.1 अरब उपयोगकर्ता थे, जिसमें आधे भारत से थे।
Chinese Apps
आईटी मंत्रालय ने सोमवार को जारी एक आधिकारिक बयान में कहा कि उसे विभिन्न स्रोतों से कई शिकायतें मिली हैं, जिनमें एंड्रॉइड और आईओएस प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध कुछ मोबाइल ऐप के दुरुपयोग के बारे में कई रिपोर्ट शामिल हैं। इन रिपोर्ट में कहा गया है कि ये ऐप ‘‘उपयोगकर्ताओं के डेटा को चुराकर, उन्हें गुपचुक तरीके से भारत के बाहर स्थित सर्वर को भेजते हैं।’’
 
बयान में कहा गया, भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा के प्रति शत्रुता रखने वाले तत्वों द्वारा इन आंकड़ों का संकलन, इसकी जांच-पड़ताल और प्रोफाइलिंग अंतत: भारत की संप्रभुता और अखंडता पर आधात होता है, यह बहुत अधिक चिंता का विषय है, जिसके खिलाफ आपातकालीन उपायों की जरूरत है।
 
सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने आईटी कानून और नियमों की धारा 69ए के तहत अपनी शक्तियों का इस्तेमाल करते हुए इन ऐप्स पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया। गृह मंत्रालय के तहत आने वाले भारतीय साइबर अपराध समन्वय केंद्र ने इन दुर्भावनापूर्ण ऐप्स पर व्यापक प्रतिबंध लगाने की सिफारिश भी की थी।
बयान में कहा गया है, ‘इनके आधार पर और हाल ही में विश्वसनीय सूचनाएं मिलने पर कि ऐसे ऐप भारत की संप्रभुता और अखंडता के लिए खतरा हैं, ने मोबाइल और गैर-मोबाइल इंटरनेट सक्षम उपकरणों में उपयोग किए जाने वाले कुछ ऐप के इस्तेमाल को बंद करने का निर्णय लिया है।’
 
बयान में कहा गया है कि यह कदम ‘करोड़ों भारतीय मोबाइल और इंटरनेट उपयोगकर्ताओं के हितों की रक्षा करेगा। यह निर्णय भारतीय साइबरस्पेस की सुरक्षा और संप्रभुता सुनिश्चित करने की दिशा में एक कदम है।’ फैसले पर इन कंपनियों की टिप्पणी फिलहाल नहीं मिल सकी है।
 
वेंचर इंटेलिजेंस के अनुसार अलीबाबा, टेंसेंट, टीआर कैपिटल और हिलहाउस कैपिटल सहित चीनी निवेशकों ने 2015 से 2019 के बीच भारत के स्टार्टअप कंपनी क्षेत्र में 5.5 अरब डॉलर से अधिक निवेश किया है।
 
> भारत में बैन किए गए 59 ऐप्स की सूची
1. टिकटॉक
2. शेयरइट
3. Kwai
4. यूसी ब्राउजर
5. Baidu map
6. शीन
7. क्लैश ऑफ किंग्स
8. डी यू बैटरी सेवर
9. हेलो
10. लाइक
11. यूकैम मेकअप
12. Mi Community
13. सीएम ब्राउजर्स
14. वायरस क्लीनर
15. APUS Browser
16. ROMWE
17. क्लब फैक्टरी
18. न्यूजडॉग
19. ब्यूट्री प्लस
20. वीचैट
21. यूसी न्यूज़
22. QQ Mail
23. वीबो
24. ज़ेन्डर
25. QQ Music
26. QQ Newsfeed
27. बिगो लाइव
28. से​ल्फीसिटी
29. मेल मास्टर
30. पैरेलल स्पेस
31. Mi Video Call — Xiaomi
32. WeSync
33. ईएस फाइल एक्सप्लोरर
34. वीवा वीडियो
35. Meitu
36. वीगो वीडियो
37. न्यू वीडियो स्टेटस
38. डीयू रिकॉर्डर
39. वॉल्ट हाइड
40. कैशे क्लीन
41. डीयू क्लीनर
42. डीयू ब्राउजर
43. Hago Play With New Friends
44. कैमस्कैनर
45. क्लीन मास्टर
46. वंडर कैमरा
47. फोटो वंडर
48. QQ Player
49. वी मीट
50. स्वीट सेल्फी
51. बैदु ट्रांसलेट
52. वीमेट
53. QQ International
54. QQ Security Center
55. QQ Launcher
56. यू वीडियो
57. V fly Status Video
58. मोबाइल लीजेन्ड्स
59. डीयू प्राइवेसी



और भी पढ़ें :