• Webdunia Deals
  1. लाइफ स्‍टाइल
  2. साहित्य
  3. मेरा ब्लॉग
  4. Ankita murder in Dumka and the expressions of her killer

दुमका में अंकिता की हत्या और उसके हत्यारे के हाव-भाव

दुमका में अंकिता की हत्या और उसके हत्यारे के हाव-भाव - Ankita murder in Dumka and the expressions of her killer
झारखंड के दुमका में अंकिता की हत्या ने पूरे देश को अंदर से हिला दिया है। सामान्य स्थिति में इसकी कल्पना नहीं की जा सकती कि एक लड़की अपने घर में सोयी हो और उसे 5 बजे भोर में बाहर से पेट्रोल फेंक कर आग लगा दी जाए। हालांकि अंकिता को जलाए जाने के कुछ घंटे बाद ही यह खबर वायरल हो चुकी थी।

झारखंड सरकार इसकी गंभीरता को समझती और सजग होती तो उसको बेहतर इलाज के लिए एअरलिफ्ट किया जा सकता था। मुख्यमंत्री अन्य मंत्री या सत्तारूढ़ गठबंधन के नेता इस समय चाहे जितना आक्रामक बयान दें, इस जघन्य अपराध के तीन दिनों तक लगा ही नहीं कि झारखंड में कोई जागरूक सरकार भी है। मुख्यमंत्री का वक्तव्य पांचवें दिन आया। यह सामान्य स्थिति नहीं है। हालांकि हेमंत सोरेन सरकार की कानून व्यवस्था संबंधी नीतियां और व्यवहार काफी समय से विरोध और आलोचना के घेरे में है। अभी भी सरकार और प्रशासन ने तय नहीं किया है कि अंकिता हत्याकांड को किस रूप में लिया जाए।

अंकिता बताती थी कि उसके साथ जाते- आते हत्यारा शाहरुख छेड़छाड़ करता था और बात नहीं मानने पर पूरे परिवार को मार डालने की धमकियां भी देता था। वह ऐसा मोहल्ला है, जहां हिंदू और मुसलमान दोनों रहते हैं। ऐसा तो हो नहीं सकता कि मोहल्ले के कुछ लोगों को भी इसका पता नहीं हो। बावजूद कोई शाहरुख को ऐसा दुस्साहस भरा अपराध करने से नहीं रोक सके।

प्रश्न है कि उसने ऐसा क्यों किया होगा? अंकिता की मृत्यु के बाद कई तस्वीरें वायरल हैं, जिनमें शाहरुख के साथ वह खुशी-खुशी घूम रही है, तस्वीरें खिंचवा रही है, गाड़ियों में चल रही है। इसका अर्थ है कि उनके बीच कुछ रिश्ते थे। उनका रिश्ता कैसा था, क्यों था, दोनों एक दूसरे को कितना जानते थे, इसका पता तो सही प्रकार से छानबीन से ही चलेगा। आखिर ऐसी स्थिति क्यों हुई कि अंकिता उससे मिलना- जुलना नहीं चाहती थी और जबरन दबाव बना रहा था?

झारखंड प्रशासन को सोचना चाहिए कि कोई ऐसा दुस्साहस कैसे कर सकता है?किंतु पिछले कुछ वर्षों में झारखंड की घटनाओं को ध्यान रखें तो इसके एक दूसरे खतरनाक पहलू की ओर भी दृष्टि जाती है। पुलिस द्वारा पकड़े जाने के बावजूद जिस ढंग से शाहरूख मुस्कुरा रहा है, ऐसा लगा ही नहीं कि उसे अपने किए जाने पर अफसोस है। कुछ लोग उसे मानसिक रूप से विक्षिप्त साबित करने की कोशिश कर रहे हैं।

शाहरुख के मोहल्ले के लोग बता रहे हैं कि वह बिल्कुल सामान्य लड़का है। सामान्य लड़का अपने ही मोहल्ले में इस तरह का अपराध करके पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद इस ढंग से मुस्कुराए और व्यवहार करे मानो उसने कुछ गलत किया ही नहीं और उसे कुछ होगा ही नहीं या जो होगा उसकी उसे कोई परवाह नहीं तो फिर इसके कारणों की अलग तरीके से भी छानबीन करने की आवश्यकता महसूस होती है।

हमारे देश में कई बार सच बोलना अपराध बन जाता है। दुनिया भर के जिहादी आतंकवादी भय और घबराहट में आतंकवादी घटना को अंजाम नहीं देते हैं। ज्यादातर मानसिक रूप से राहत भरी अवस्था में स्वयं को आत्मघाती विस्फोटक में तब्दील कर देते हैं। ऐसे आतंकवादियों पर की गई छानबीन बताती है कि उन्हें विशेष आनंद की अनुभूति होती है क्योंकि वह मानते हैं कि अल्लाह के आदेश का पालन कर रहे हैं। शाहरुख के बारे में अभी तक ऐसा कोई प्रमाण नहीं मिला है,जिससे मान लिया जाए कि वह अतिवादी मजहबी कट्टरता से भरा हुआ था। किंतु इस संभावना को खारिज भी नहीं किया जा सकता।

झारखंड देश में इस्लामी कट्टरवाद और जिहादी आतंकवाद के साथ लव जिहाद की दृष्टि से हमेशा सुर्खियों में रहा है। झारखंड के जामताड़ा में अनेक स्कूलों में प्रार्थना के तरीके बदले जाने का मामला सामने आया और वहां मुसलमानों के एक समूह ने कहा कि वे यहां बहुमत में है तो उनके अनुसार ही प्रार्थना होनी चाहिए। इसी तरह रविवार की जगह शुक्रवार को स्कूल में छुट्टियां हो रही थी। सामान्य प्रकृति के लोग तो ऐसा नहीं कर सकते। ये घटनाएं सामने आ गईं, लेकिन ऐसी भी कुछ बातें होंगी जो सामने नहीं आई होंगी। झारखंड के पलामू जिले के पांडू थाना क्षेत्र के मुरूमातू गांव में मुसलमानों के समूह ने 20 दलित परिवारों के घरों को ध्वस्त कर सबको गाड़ियों में लात कर जंगल में छोड़ दिया और कहा कि ये मदरसे की जमीन थी जिन पर इनके घर बने हुए थे। जरा सोचिए, झारखंड की क्या स्थिति है।

पिछले मार्च में उत्तर प्रदेश आतंकवाद निरोधक दस्ता यानी एटीएस ने देवबंद से इनामुल हक उर्फ इनाम इम्तियाज़ को गिरफ्तार किया। लश्कर-ए-तैयबा से उसके संबंध के प्रमाण मिले और पता चला कि वह आतंकवादी गतिविधियों में शामिल होने की तैयारी कर रहा था। वह झारखंड के गिरिडीह जिले के पतना गांव का रहने वाला है। यह झारखंड के लिए पहला मामला नहीं है। 2003 में दिल्ली के अंसल प्लाजा विस्फोट मामले में शाहनवाज का नाम सामने आया था जो आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से जुड़ा था और जमशेदपुर में रहता था।

23 सितंबर, 2019 को झारखंड एटीएस ने अलकायदा से जुड़े मोहम्मद कलीमउद्दीन मुजाहिरी को गिरफ्तार किया। एटीएस ने बयान दिया कि इसकी गिरफ्तारी के साथ झारखंड में सक्रिय अलकायदा का स्लीपर सेल पूरी तरह से ध्वस्त हो गया है। कलीमउद्दीन अलकायदा के सक्रिय आतंकवादी मोहम्मद अब्दुल रहमान अली उर्फ कटकी जो तिहाड़ जेल दिल्ली में बंद है, का सहयोगी था।

कटकी के अलावा अब्दुल सामी, अहमद मसूद, राजू उर्फ नसीम अख्तर और जीशान हैदर भी गिरफ्तार हुआ। पीछे लौटे तो 21 अक्टूबर, 2013 में वर्तमान प्रधानमंत्री एवं तब गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की गांधी मैदान सभा 7 जुलाई 2013 को बोधगया में हुए आतंकवादी धमाकों के दोषी झारखंड से ही पकड़े गए थे। इसे रांची मॉड्यूल का नाम दिया गया था। सारी व्यवस्था रांची में हुई थी और वहीं से आतंकवादी आए थे। इंडियन मुजाहिद्दीन का एक बड़ा तंत्र झारखंड में पाया गया था। 2008 से 2011 और 12 के बीच भी काफी संख्या में आईएम के आतंकवादी पकड़े गए। पिछले जुलाई में प्रधानमंत्री की पटना यात्रा के एक दिन पहले 11 जुलाई को पटना से फुलवारी शरीफ तक पीएफआई का जो बहुचर्चित मॉड्यूल पकड़ में आया उसका प्रमुख मोहम्मद जलालुद्दीन झारखंड के कई थानों में साधारण पुलिस कांस्टेबल से लेकर दरोगा के पद पर कार्य कर चुका है।

पिछले 10 जून को जुम्मे की नमाज के बाद रांची में जिस ढंग का उत्पात हुआ वह देश के सामने है। पुलिस ने हिंसा करने वालों में से कुछ की तस्वीरें चौराहे पर लगाई, लेकिन उसे हटा दिया गया। कहा गया कि इसमें कुछ गड़बड़ियां है और दोबारा सही करके लगाया जाएगा जो लगा नहीं। बहरहाल, इस घटना ने फिर इस बात की पुष्टि की कि झारखंड इस्लामी कट्टरपंथ का गढ़ बन चुका है। पिछले 7-8 वर्षों में झारखंड ने लव जिहाद के मामले में कई राज्यों को पीछे छोड़ दिया है। 2014 में तारा शाहदेव नामक अंतरराष्ट्रीय शूटर की घटना ने पूरे देश को चौंकाया था।

रंजीत कोहली के नाम से एक शख्स ने उससे प्रेम जाल में फंसा कर शादी किया जो बाद में रकीबुल हसन निकला। उसके बाद से लगातार ऐसी घटना हो रही है। वर्तमान मामले में भी कई मीडिया संस्थानों ने शाहरुख को अभिषेक के नाम से संबोधित किया है। अभी तक स्पष्ट नहीं है कि वाकई क्या वह अभिषेक के नाम से अंकिता से मिलता था। अगर एक ही मोहल्ले में रहते थे तो शाहरुख का सच अंकिता को मालूम होना चाहिए था। कहने का तात्पर्य कि यह मामला कई दृष्टियों से संदिग्ध हो जाता है।

इन सारी स्थितियों के आलोक में हम खिड़की से पेट्रोल फेंककर आग लगा देने जैसी दुस्साहसी वारदात और पुलिस द्वारा गिरफ्तार करने के बाद की उसकी भाव- भंगिमा को देखकर सहसा अभी सामान्य अपराध मानना जरा कठिन है। शाहरुख की हरकतें जेहादी मानसिकता से भरे इस्लामी कट्टरपंथ की झलक दे रही है। इस तरह इस्लामिक कट्टरवाद के दृष्टिकोण से भी इसकी जांच आवश्यक हो गई है। लेकिन जो सरकार पुलिस तक पर हमला करने वाले हिंसक तत्वों की तस्वीरें लगाकर हटा सकती है वह सच्चाई सामने लाने के लिए प्रतिबद्धता दिखाएगी इसमें संदेह है।

नोट :  आलेख में व्‍यक्‍त विचार लेखक के निजी अनुभव हैं, वेबदुनिया का आलेख में व्‍यक्‍त विचारों से सरोकार नहीं है।
ये भी पढ़ें
श्राद्ध पक्ष 2022 : पितृ भोग में क्या-क्या बनाएं, नोट कर लें ये रेसिपीज