0

कबीर जयंती : वक्त की सीढ़ियों पर लेटे हैं इस सदी के कबीर हैं हम लोग...

बुधवार,जून 23, 2021
0
1
महामना संत कबीर भारतीय संत परंपरा और संत-साहित्य के महान हस्ताक्षर हैं। हमारे यहां संत-साहित्य का एक विशिष्ट महत्व रहा है। क्योंकि इस साहित्य ने कभी भोग के हाथों योग को नहीं बेचा, धन के बदले आत्मा की आवाज को नहीं बदला तथा शक्ति और पुरुषार्थ के स्थान ...
1
2
सती, सावित्री, सीता एवं अनुसुइया जैसे नारी चरित्र जो हजारों वर्षों से भारतीय समाज के समक्ष आदर्श बने रहे हैं, क्या धर्म-निरपेक्षता के इस युग में आकर नकार दिए जाने चाहिए ? क्या ये पौराणिक युग के नारी चरित्र भारतीय नारियों की कमजोरी के प्रतीक हैं ?
2
3
म्हारा राजस्थान। नाम सुनते ही अभूतपूर्व, वैभवशाली इतिहास के कई सुनहरे पन्नों से स्वत: ही साक्षात्कार होता है। साकार हो उठते हैं रणभूमि में खड़े कतारबद्ध वे रणबांकुरे, जो अपनी रगों में बहने वाले राजपुताना रक्त की आन के लिए अपने को न्योछावर करने के लिए ...
3
4
मंत्रिमंडल में भले ही नरोत्तम मिश्रा नंबर दो की भूमिका में हों लेकिन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के संकटमोचक तो अब सहकारिता मंत्री डॉ अरविंद सिंह भदौरिया बन गए हैं।
4
4
5
यह एक तरह का ईंधन है, जो पेट्रोल के साथ मिलकर वाहनों की दुनिया में एक नई क्रांति लाएगा। इसीलिए भारत सरकार ने साल 2025 तक पेट्रोल में करीब 20 प्रतिशत एथेनॉल के मिश्रण का लक्ष्‍य रखा है। इसके साथ ही दुनिया के और भी देश इसके इस्‍तेमाल के लिए प्रयास कर ...
5
6
जगतगुरु स्वामी रामानंदाचार्य के बारह शिष्यों में से एक संत कबीर सभी से अलग थे। उन्होंने गुरु से दीक्षा लेकर अपना मार्ग अलग ही बनाया और संतों में वे शिरोमणि हो गए। कुछ लोग कबीर को गोरखनाथ की परम्परा का मानते हैं, जबकि उनके गुरु रामानंद वैष्णव धारा से ...
6
7
कोरोना वायरस एक ऐसी महामारी जिसने दुनिया के बुनियादी ढ़ांचे को ही हिला कर रख दिया। पहली लहर में तो दुनिया ने इस बीमारी को समझने की कोशिश ही की थी कि कोरोना की दूसरी लहर ने समूचे विश्व का इंतकाल ही ले लिया। धीरे- धीरे कोरोना वायरस का आंकड़ा नीचे गिर ...
7
8
लोकतंत्र के यह पहरुए आम चुनावों के जरिए चुने जाकर देश-प्रदेश की सरकारों से लेकर गांव की पंचायतों तक में पक्ष-विपक्ष में बैठकर आमजन के हित के कानून और सुख, सुविधाओं की जिम्मेदारियां निभाते हैं। निश्चित रूप से संविधान बनाते समय यही सोच इसके केन्द्र ...
8
8
9
संतों की संगत कभी निष्फल नहीं होती । मलयगिर की सुगंधी उड़कर लगने से नीम भी चन्दन हो जाता है, फिर उसे कभी कोई नीम नहीं कहता।
9
10
भारतीय राजनीति इस समय अपने इतने निकृष्टतम दौर से गुजर रही है कि वह देश की समस्याओं का समाधान करने के बजाय खुद अपने आप में एक गंभीर समस्या बन चुकी है। किसी भी लोकतंत्र के लिए इससे ज्यादा बुरा दौर और क्या हो सकता है कि जब महंगाई पूरी तरह लूट में ...
10
11
पापा मेरी नन्ही दुनिया, तुमसे मिल कर पली-बढ़ी आज तेरी ये नन्ही बढ़कर, तुझसे इतनी दूर खड़ी तुमने ही तो सिखलाया था, ये संसार तो छोटा है तेरे पंखों में दम है तो, नील गगन भी छोटा है कोई न हो जब साथ में तेरे, तू बिलकुल एकाकी है मत घबराना बिटिया, ...
11
12
मैं हम चार भाई-बहनों में सबसे छोटी हूं ‌। पापा का स्नेह और साथ ज्यादा मिला। बात 2003 की जब मैं अपने पापा के साथ द्वारका गई थी सुबह मंगला दर्शन के बाद द्वारकाधीश मंदिर के के किनारे हम लोग स्नान के लिए गए। मैं और मेरी मम्मी पानी में पैर डाल कर बैठ गए ...
12
13
स्त्री मां होती है पर पुरुष पिता बनते हैं, बहुत धीमे, गढ़े जाते हैं, समय की आंच पर| कांपते सख्त हाथों में नन्हें जीव को लिए, नया कोरा पिता सृष्टि का सबसे सुकुमार हृदय है.... बच्चे के लिए रोटी कमाने निकला पिता सबसे साहसी योद्धा, और अपनी ...
13
14
हो सके तो इस खत को पढ़कर ''फादर्स डे'' पर घर आना मैं अच्छा पिता बनना चाहता हूं तुम्हारे लिए...एक बार सच्चे दिल से सॉरी कहना चाहता हूं... आओगी ना? खूब सारा प्यार तुम्हारा पापा
14
15
ग़ैर-भाजपाई विचारधारा वाले दलों से चुनिंदा नेताओं को भाजपा में शामिल कर विपक्षी सरकारों को गिराने या चुनाव जीतने की कोशिशों पर जताई जाने वाली नाराज़गी और नज़रिए में थोड़ा-सा बदलाव कर लिया जाए तो जो चल रहा है, उसे बेहतर तरीक़े से समझा जा सकता है। ...
15
16
पिता! एक निश्‍चिंतता का नाम है पिता। पिता छत है, पिता आकाश है। पिता वह सुरक्षा कवच भी है, जो अपनी छाती पर तूफान झेलकर संतान की रक्षा करता है। पिता के होते संतान को ज्यादा चिंता नहीं होती, उसे पता होता है 'पिता सब संभाल लेंगे।' डाँटेंगे-डपटेंगे, ताना ...
16
17
उस जनगणना के अनुसार करीब दस करोड़ लोग 60 वर्ष से ज्यादा उम्र के थे। हर वर्ष इसमें करीब 3 प्रतिशत की वृद्धि हो रही है। इसके अनुसार ऐसे लोगों की संख्या वर्तमान 8.9 प्रतिशत से बढ़कर 2050 में 19.4 प्रतिशत यानी करीब 30 करोड़ हो जाएगी।
17
18
रात में आइसक्रीम ही तो खाई थी बस, कहीं बाहर नहीं गया किसी से नहीं मिला, फिर मुझे कोरोना कैसे हो गया। ऐसे ही कई और सवालों के साथ , सिम्टम आने के दो दिन बाद , टेस्टिंग ने बता दिया था की मेरे शरीर में कोरोना मौजूद है। बचपन से ही खेलने कूदने का शौक रहा ...
18
19
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपने दूसरे कार्यकाल के 2 वर्ष पूरे कर चुके हैं लेकिन इन 2 सालों में वे अपने मंत्रिपरिषद को भी पूरी तरह आकार नहीं दे पाए हैं। उनकी सरकार का तीसरा साल शुरू हो चुका है लेकिन अभी भी आधी-अधूरी मंत्रिपरिषद से ही काम चल रहा है। ...
19