कोरोना का असर, महाकाल की महाआरती में श्रद्धालुओं के प्रवेश पर प्रतिबंध

Last Updated: बुधवार, 18 मार्च 2020 (14:01 IST)
उज्जैन। कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए देश के कई बड़े मंदिरों में श्रद्धालुओं के जाने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। 12 ज्योतिर्लिंगों में शामिल में भस्म आरती में श्रद्धालुओं के आने पर पाबंदी लगा दी गई है।
ALSO READ:
effect : सिद्धि विनायक मंदिर बंद, महाकालेश्वर समेत बड़े मंदिरों पर कोरोना का साया
आम दिनों में यहां 1,800 श्रद्धालु बैठकर भस्म आरती के करते हैं, लेकिन मंगलवार तड़के नंदी हॉल, गणेश व कार्तिकेय मंडपम पूरी तरह खाली रहा। प्रवेश प्रतिबंधित होने पर कुछ श्रद्धालुओं ने बाहर लगी एलईडी पर भस्म आरती के दर्शन किए।
करीब 4,000 श्रद्धालुओं ने बाहर लगी एलईडी पर महाकाल के शिवलिंग के दर्शन किए। महाकाल मंदिर में रोजाना करीब 15,000 श्रद्धालु दर्शन के लिए आते हैं।

अभयारण्यों में प्रवेश पर प्रतिबंध की तैयारी : प्रदेश के सभी टाइगर रिजर्व, नेशनल पार्क और अभयारण्यों में पर्यटन गतिविधि रोकने की तैयारी हो गई है। वाइल्ड लाइफ मुख्यालय ने राज्य शासन से इस संबंध में मार्गदर्शन मांगा है।
अगर शासन इस संबंध में हरी झंडी दे देता है तो इसी हफ्ते से प्रदेश के सभी संरक्षित क्षेत्रों में पर्यटन बंद कर दिया जाएगा। संरक्षित क्षेत्रों में पर्यटकों के उपयोग में आने वाले वाहनों, रेस्ट हाउस सहित अन्य संसाधनों को सैनेटाइज किया जा रहा है।



और भी पढ़ें :