1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. मध्यप्रदेश
  4. BJP victory in the urban body elections in Madhya Pradesh
Written By Author विकास सिंह
Last Updated: रविवार, 17 जुलाई 2022 (21:33 IST)

मध्यप्रदेश के 7 नगर निगम, 27 नगर पालिका और 64 नगर परिषद में भाजपा की जीत

2003 के बाद भाजपा का सबसे बड़ी जीत का दावा, बोले CM शिवराज 80% सीटों पर हुई जीत

भोपाल। मध्यप्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव के पहले चरण में भाजपा ने बड़ी जीत हासिल करने का दावा किया है। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नगरीय निकाय चुनाव में भाजपा की ऐतिहासिक जीत का दावा करते हुए कहा कि साल 2003 के बाद से जब से मध्यप्रदेश में भाजपा ने सरकार बनाई है, निकाय चुनाव में ऐसी शानदार जीत कभी नहीं मिली। 
 
भाजपा कार्यालय में जीत के जश्न में शामिल होने पहुंचे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि भाजपा चुनाव पहले भी जीतती थी, लेकिन उसमें जीत का अनुपात 55-45 का ही रहता था, लेकिन इस बार भाजपा 80 प्रतिशत सीटों पर जीत हासिल की है। यह जीत ऐतिहासिक है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन 86 नगर पंचायतों के परिणाम घोषित हुए हैं, उनमें से 64 में हमने पूर्ण बहुमत प्राप्त किया है। वहीं 36 नगर पालिकाओं में से 27 में हमें पूर्ण बहुमत मिला है और 5 में निर्दलीयों के साथ मिलकर नगर सरकार बनाने जा रहे हैं। 
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि नगर निगम चुनाव में भी भारतीय जनता पार्टी का प्रदर्शन शानदार रहा है। प्रदेश की जिन नगर निगमों में भारतीय जनता पार्टी के मेयर जीते हैं, वहां वार्डों में भी भारतीय जनता पार्टी ने बहुमत हासिल किया है। लेकिन प्रदेश की ग्वालियर, जबलपुर, सिंगरौली जैसी जिन नगर निगमों में कांग्रेस, आम आदमी पार्टी के उम्मीदवारों ने बढ़त ली है, उनमें भी पार्षद भाजपा के ही ज्यादा हैं। कांग्रेस के ज्यादातर पार्षद हारे हैं और वार्डों में कमल के फूल वाली बटन ही दबाई गई है।

मुख्यमंत्री ने प्रदेश की जनता का आभार जताते हुए कहा कि जो विश्वास जनता ने भाजपा पर जताया है, उसे टूटने नहीं देंगे। उन्होंने चुनावों में अथक परिश्रम करने वाले पार्टी कार्यकर्ताओं, पदाधिकारियों, जनप्रतिनिधियों को बधाई देता हूं और यह आह्वान करता हूं कि हम सब मिलकर पूरी विनम्रता के साथ जनता की सेवा करेंगे और विकास का नया इतिहास रचेंगे।
ये भी पढ़ें
Indore Municipal Election 2022 : पुष्यमित्र भार्गव बने इंदौर के महापौर, भाजपा के 'गढ़' को ढहाने में नाकाम हुई कांग्रेस