ओवैसी के बाद निकाय चुनाव में अरविंद केजरीवाल की भी एंट्री, 2023 विस चुनाव पर टिकी AAP की निगाहें

Author विकास सिंह| Last Updated: बुधवार, 29 जून 2022 (15:26 IST)
हमें फॉलो करें
भोपाल। के नगरीय में ओवैसी के बाद अब दिल्ली के मुख्यमंत्री की एंट्री होने जा रही है। अरविंद केजरीवाल सिंगरौली नगर निगम के लिए पार्टी की महापौर उम्मीदवार रानी अग्रवाल के समर्थन में 2 जुलाई को चुनावी सभा करेंगे। अरविंद केजरीवाल के अलावा दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसौदिया, राज्यसभा संसाद संजय सिंह, पार्टी की विधायक आतिशी भी नगरीय निकाय चुनाव में चुनाव प्रचार करने के लिए मध्यप्रदेश के दौरे पर आ रहे है।


आम आदमी पार्टी के प्रदेश संयोजक पंकज सिंह कहते हैं मध्यप्रदेश की राजनीति में बदलाव की शुरुआत करने के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल मध्यप्रदेश आ रहे है और वो 2 जुलाई को सिंगरौली में चुनावी सभा और रोड शो करेंगे। इसके अलावा पार्टी के अन्य वरिष्ठ नेताओं के भी प्रदेश के दौरे करवाएं जा रहे है।

महापौर के लिए चुनावी मैदान में AAP-प्रदेश के 16 नगर निगम में से आम आदमी पार्टी ने 14 नगर निगम में अपने चुनाव चिन्ह पर उम्मीदवार उतारे है। भोपाल नगर निगम में आप के घोषित उम्मीदवार ने नाम वापसी के आखिरी दिन अपना नाम वापस ले लिया था वहीं जबलपुर में आप उम्मीदवार का नामांकन जांच में खारिज हो गया था। ग्वालियर से रूचि राय, इंदौर से कमल गुप्ता, सतना से बंसत कुमार विश्वकर्मा, बुरहानपुर से प्रतिभ संतोष दीक्षित,रीवा से दीपक सिंह पटेल, देवास से चाना ज्ञानेश, उज्जैन से संतोष वर्मा कटनी से शशि प्रभा तिवारी को मैदान में उतारा है।


भाजपा और कांग्रेस के बागी APP के साथ-मध्यप्रदेश में निकाय चुनाव में आम आदमी पार्टी ने भाजपा और कांग्रेस के बागी उम्मीदवारों को चुनावी मैदान में उतारा है। ग्वालियर में आम आदमी पार्टी की प्रत्याशी रूचि राय गुप्ता महिला कांग्रेस की पूर्व
जिला अध्यक्ष और प्रदेश महिला मोर्चा की सदस्य थी। इसके अलावा कई जिलों में आम आदमी पार्टी ने भाजपा औऱ कांग्रेस के बागियों को अपने चुनाव चिन्ह पर पार्षद चुनाव के लिए मैदान में उतारा है।
वहीं पंचायत चुनाव में भी आम आदमी पार्टी ने अपना खाता खोल लिया है। सिंगरौली जिले के जिला पंचायत में वार्ड -1 से आम आदमी पार्टी के युवा विंग के प्रदेश अध्यक्ष संदीप शाह चुनाव जीत चुके है।दिल्ली और पंजाब के बाद आम आदमी पार्टी अब मध्यप्रदेश में अपने पैर जमाने की तैयारी कर रही है। पार्टी नगरीय निकाय चुनाव के जरिए हर जिले में अपना संगठन खड़ा कर 2023 विधानसभा चुनाव में लोगों के सामने विकल्प की राजनीति तैयार कर रही है।



और भी पढ़ें :