ममता ने कहा, ‘एक्सपायरी प्रधानमंत्री’ से बातचीत नहीं करूंगी

पुनः संशोधित सोमवार, 6 मई 2019 (18:24 IST)
गोपीबल्लवपुर। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने चक्रवाती तूफान फोनी पर कालिकुंडा में प्रस्तावित बैठक में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात करने से इंकार करते हुए कहा है कि वह मोदी (एक्सपायरी प्रधानमंत्री) के साथ मंच साझा नहीं करेंगी।
सुश्री बनर्जी ने विभिन्न मुद्दों पर मोदी की आलोचना करते हुए सोमवार को कहा कि प्रधानमंत्री से चक्रवाती तूफान ‘फोनी’ के बारे में बात करने के लिए विचार कर सकती थी, यदि उन्होंने खासकर तूफान को लेकर बैठक बुलाई होती, लेकिन वह यहां चुनावी प्रचार के लिए आए थे इसलिए वह एक ‘एक्सपायरी प्रधानमंत्री’ के साथ एक भी मंच साझा नहीं करेंगी।

मुख्यमंत्री ने कहा पिछले 48 घंटों के दौरान वह खड़गपुर में थी और दिल्ली से फोन कोलकाता के लिए आया था। उन्होंने कहा कि मेरी सरकार तूफान प्रभावित लोगों के लिए उपाय करने और उनकी क्षति-पूर्ति करने के लिए सक्षम है। हमें केन्द्र से कोई सहायता नहीं चाहिए।

उन्होंने कहा कि यदि जरूरत पड़ी तो हम नए प्रधानमंत्री से बातचीत करेंगे जो केन्द्र का कार्यभार संभालेंगे। सुश्री बनर्जी ने कहा कि वह मोदी से दो बार मिल चुकी हैं और राज्य के धनराशि की मांग की, लेकिन मोदी सरकार ने बंगाल के लिए कुछ भी नहीं किया।

तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ने कहा कि दिल्ली संघीय ढांचे को दरकिनार कर रही है और मुझसे परामर्श किए बिना वे सीधे मुख्य सचिव और अन्य शीर्ष पुलिस अधिकारियों से बात कर रहे हैं।
उन्होंने कहा राज्य का मुख्य सचिव मुख्यमंत्री के अधीन आता है। सुश्री बनर्जी ने कहा कि मौजूदा ‘एक्सपायरी प्रधानमंत्री’ के कारण चुनाव को दो महीने तक खींचा गया है और इससे लोगों को काफी नुकसान हो रहा है। सुश्री बनर्जी ने कहा कि वर्तमान प्रधानमंत्री को कुछ भी करने का अधिकार है क्योंकि वह अब शक्तिविहीन हैं और उन्होंने पिछले पांच वर्षों में देश को काफी नुकसान पहुंचाया है।
क्या कहा था मोदी ने : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को आरोप लगाया कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी चक्रवाती तूफान फानी पर राजनीति कर रही हैं। मोदी ने कहा “स्पीडब्रेकर दीदी’ (ममता बनर्जी) तूफान पर राजनीति करने की कोशिश कर रही है। मैंने चक्रवाती तूफान के संबंध में ममता दीदी से दो बार बात करने की कोशिश की, लेकिन उनमें इतनी अकड़ है कि उन्होंने मुझसे बात करने से इंकार कर दिया, मैंने फिर से प्रयास किया लेकिन उन्होंने फोन पर बात करने से इंकार ‍कर दिया।

प्रधानमंत्री ने राज्य के पूर्व मेदिनीपुर जिले में यहां एक सार्वजनिक जनसभा को संबोधित करते हुए आरोप लगाया कि सुश्री बनर्जी बंगाल के लोगों के लिए बहुत कम चिंतित है। मोदी ने कहा “दीदी की इस राजनीति के बावजूद मैं राज्य की जनता को फिर से विश्वास दिलाता हूं कि केंद्र सरकार पूरी ताकत के साथ राज्य के लोगों के साथ खड़ी है और राज्य सरकार को हर तरह से अपना समर्थन दे रही है।
प्रधानमंत्री ने
अपने भाषण की शुरुआत उन लोगों के बारे में बात करते हुए की जो चक्रवात फानी से प्रभावित हैं। उन्होंने कहा कि ममता दीदी इन दिनों इतनी निराश हैं कि वह भगवान के बारे में बात करना या सुनना भी नहीं चाहती हैं और स्थिति यह है कि दीदी उन लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज रही हैं जो जय श्री राम जप रहे हैं।

 

और भी पढ़ें :