सोमवार, 22 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. खेल-संसार
  2. क्रिकेट
  3. समाचार
  4. My bank balance would have increased had I not fought with Gautam Gambhir says Manoj Tiwary
Written By WD Sports Desk
Last Modified: बुधवार, 21 फ़रवरी 2024 (11:42 IST)

अगर Gautam Gambhir से मेरी लड़ाई......Manoj Tiwary ने KKR के पूर्व कप्तान को लेकर किया बड़ा खुलासा

Manoj Tiwary ने अपने पूरे करियर में 96 IPL मैच खेले और इस दौरान उन्होंने 7 अर्द्धशतक के साथ 1686 रन बनाए

अगर Gautam Gambhir से मेरी लड़ाई......Manoj Tiwary ने KKR के पूर्व कप्तान को लेकर किया बड़ा खुलासा - My bank balance would have increased had I not fought with Gautam Gambhir says Manoj Tiwary
Manoj Tiwary Gautam Gambhir KKR Fight News in hindi : बंगाल के लिए अपना आखिरी Ranji Trophy मैच खेलने के बाद संन्यास ले चुके मनोज तिवारी (Manoj Tiwary) कई विषयों पर चर्चा का विषय बने हुए हैं, एक बार फिर वह चर्चा में आ गए हैं और इस बार यह मुद्दा उनकी पूर्व IPL टीम Kolkata Knight Riders (KKR) से संबंधित है।
 
Manoj Tiwary 2010 और 2013 के बीच Kolkata Knight Riders (KKR) के खिलाड़ी थे इससे पहले वे 2008 और 2009 के बीच Delhi Daredevils (अब Delhi Capitals) फ्रेंचाइजी का हिस्सा थे।। 2012 में, Chennai Super Kings (CSK) के खिलाफ फाइनल में, उन्होंने एम.ए. चिदंबरम स्टेडियम में ड्वेन ब्रावो के खिलाफ एक चौका लगाकर विनिंग रन स्कोर किया था और कोलकाता नाइट राइडर्स ने अपना पहला IPL खिताब जीता था। उन्होंने उसके बाद एक और सीजन खेला लेकिन अभी उन्होंने अभी गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) से उनकी लड़ाई को लेकर एक खुलासा किया है। 
 
 
 मनोज तिवारी ने खुलासा किया कि अगर उन्होंने IPL 2013 में गौतम गंभीर के साथ लड़ाई नहीं की होती तो शायद वह दो-तीन साल और खेलते।
 
आनंदबाजार पत्रिका से बात करते हुए, Manoj Tiwary ने खुलासा किया कि 2013 में ड्रेसिंग रूम में उनका Gautam Gambhir के साथ बड़ा झगड़ा हुआ था, जो अब KKR के Mentor के रूप में वापस आ गए हैं। उन्होंने आगे स्वीकार किया कि अगर ऐसा नहीं हुआ होता तो उन्हें केकेआर के लिए कुछ और सीज़न खेलने मिलते हालांकि उन्हें इसका अफसोस नहीं है।
 
उन्होंने कहा, ''केकेआर में मेरे समय के दौरान, ड्रेसिंग रूम में गंभीर के साथ मेरी बड़ी लड़ाई हुई थी। वह कभी सामने नहीं आया. 2012 में केकेआर चैंपियन बनी थी. उस वक्त मैं चौका लगाने में कामयाब रहा था, इसलिए टीम जीत गई थी. मुझे केकेआर के लिए एक और साल खेलने का मौका मिला। अगर 2013 में मैं गंभीर से नहीं लड़ा होता तो शायद मैं दो-तीन साल और खेलता। इसका मतलब है कि अनुबंध के अनुसार मुझे जो राशि मिलनी थी वह बढ़ गई होती। बैंक बैलेंस मजबूत होता  लेकिन मैंने इसके बारे में कभी नहीं सोचा।''
 
उन्होंने यह भी खुलासा किया कि प्लेइंग एलेवन चुनने के मामले में फ्रेंचाइजी के कामकाज से वे इतना खुश नहीं थे। उनका मानना ​​था कि बेहतर खिलाड़ियों को लगातार नजरअंदाज किया गया। अवसरों की कमी से निराश होकर, तिवारी ने प्रबंधन से उन्हें रिहा करने के लिए कहा, जिसका बाद में उल्टा असर हुआ और इसके बाद उन्हें अपना अनुबंध खोना पड़ा।

उन्होंने कहा “जब मैं दिल्ली कैपिटल्स (Delhi Capitals) के लिए खेलता था तो Gary Kirsten कोच थे। एक के बाद एक मैच में मैं अपनी आंखों के सामने देख रहा था कि पहली एकादश अच्छी नहीं चल रही थी. कॉम्बिनेशन सही नहीं है. योग्य क्रिकेटरों को खेलने का मौका नहीं मिल रहा था. कई लोग चोट लगने के कारण बाहर हो गए. टीम के नतीजे अच्छे नहीं रहे. मैं सीधे गया और कहा, अगर आप मुझे एकादश में नहीं रख सकते तो मुझे छोड़ दो। तब मेरा अनुबंध 2.8 करोड़ था। मैंने कभी नहीं सोचा था कि अगर मैंने ऐसा कहा तो वे मुझे गलत समझेंगे और मुझे छोड़ देंगे. मेरे नुकसान के बारे में कभी नहीं सोचा,''
 
Manoj Tiwary ने अपने पूरे करियर में 96 IPL मैच खेले और इस दौरान उन्होंने 7 अर्द्धशतक के साथ 1686 रन बनाए।
ये भी पढ़ें
चौथे टेस्ट से बाहर हुए जसप्रीत बुमराह और केएल राहुल, मुकेश कुमार की हुई वापसी