फनी बाल कविता : मेला

mela fair
अम्मा यह है कैसा मेला
धक्कम-मुक्की रेलम-पेला,
अम्मा यह कैसा है मेला।

ऊंचे-ऊंचे लगे हिंडोले।
एक तरफ हैं चकरी-झूले।
भीड़ लगी है दुकानों में।

शोर चुभ रहा है कानों में।
चाट-पकौड़ी खूब बिक रही।
देखो कितनी भीड़ जुट रही।

खेल तमाशे ढोल-ढमाके,
लोग दिख रहे चंग बजाते।
हम भी जरा हिंडोला झूलें।
थोड़ी चाट-पकौड़ी ले लें।

(वेबदुनिया पर दिए किसी भी कंटेट के प्रकाशन के लिए लेखक/वेबदुनिया की अनुमति/स्वीकृति आवश्यक है, इसके बिना रचनाओं/लेखों का उपयोग वर्जित है...)



और भी पढ़ें :