बॉर्डर पर किसानों ने बना लिए हैं पक्के मकान, सरकार ने जबरदस्ती हटाया तो मारे जा सकते हैं 10 हजार लोग : राकेश टिकैत

हिमा अग्रवाल| पुनः संशोधित मंगलवार, 12 जनवरी 2021 (22:04 IST)
गाजियाबाद। ने केन्द्रीय कृषि बिल को लागू करने पर फिलहाल रोक लगा दी है। सुप्रीम कोर्ट में किसानों के आंदोलन को लेकर एक याचिका की सुनवाई करते हुए यह फैसला दिया है कि वर्तमान में कृषि कानून को लागू करने से रोक दिया जाए।
ALSO READ:
केंद्र सरकार का दावा, आंदोलन में घुस आए हैं खालिस्तानी, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- दाखिल करे हलफनामा
सुप्रीम कोर्ट के फैसले से न तो किसान खुश है और न ही आंदोलन खत्म करने को तैयार हैं। पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद के राष्ट्रीय प्रवक्ता ने दो टूक शब्दों में कहा है कि हम बॉर्डर छोड़कर नहीं जाएंगे क्योंकि अब तो हमने वहां पक्के मकान बना लिए हैं। अब इन्हें उखाड़कर कहीं दूसरी जगह नहीं ले जाएंगे, न हम घर जाएगे और न कहीं और, बल्कि यही बॉर्डर पर रहेंगे।

टिकैत ने कहा कि सरकार का कहना है कि किसान आंदोलन में 1000 लोगों के मारे जाने की आशंका है, लेकिन अगर सरकार जबरन किसानों को हटाएगी तो 10,000 से ज्यादा लोग इस आंदोलन में मारे जाने की आशंका है।
टिकैत ने कहा कि कृषि कानून रद्द होने तक किसानों का आंदोलन जारी रहेगा। किसानों के संगठन सुप्रीम कोर्ट के आदेश का अध्ययन करेंगे। कोर कमेटी की बैठक बुलाएंगे। इसी के साथ किसान संगठन अपनी लीगल टीम के साथ बातचीत करके आगे की रणनीति तय करेंगे कि आगे क्या करना है।



और भी पढ़ें :