दिल्ली में बेकाबू कोरोना, CM केजरीवाल ने बुलाई इमरजेंसी मीटिंग, कड़े प्रतिबंधों का हो सकता है ऐलान

Arvind Kejriwal
Last Updated: गुरुवार, 1 अप्रैल 2021 (18:01 IST)
नई दिल्ली। देशभर में संक्रमण को लेकर स्थिति भयावह हो गई है। देश की राजधानी में भी कोरोना बेकाबू होता जा रहा है। हर दिन 1500 से अधिक नए मामले सामने आ रहे हैं।

कोरोना के तेजी से बढ़ते मामलों के बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री (Arvind Kejriwal) ने आपातकालीन बैठक बुलाई है। माना जा रहा है कि कोरोना संक्रमण की कड़ी को तोड़ने के लिए बड़े फैसले लिए जा सकते हैं।

केजरीवाल दिल्ली में पिछले कुछ दिनों से बढ़ते कोरोना के केस को लेकर बेहद गंभीर हैं और इस पर खुद नजर बनाए हुए हैं। कल शाम 4 बजे मुख्यमंत्री आवास पर संपन्न होगी। बैठक में स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन, स्वास्थ्य विभाग समेत अन्य संबंधित विभागों के अधिकारी मौजूद रहेंगे।

बैठक में दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन और अन्य अधिकारी भी शामिल होंगे. बैठक के बीच अब ऐसे कयास लगने शुरू हो गए हैं कि क्या दिल्ली में भी लॉकडाउन (Lockdown) लगाया जाएगा? दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल बैठक में कुछ कड़े फैसले ले सकते हैं। इनमें नाइट कर्फ्यू, वीकेंड लॉकडाउन जैसे कुछ प्रतिबंधों की घोषणा की जा सकती है।
बनेगा एक्शन प्लान : बैठक में दिल्ली में बढ़ते कोरोना केस की रोकथाम के लिए एक्शन प्लान, वैक्सीनेशन की मौजूदा स्थिति, कंटेनमेंट जोन, अस्पतालों के बेड़ प्रबंधन और सिरो सर्वे के साथ वर्तमान में कोरोना केस की मैपिंग आदि की मुख्यमंत्री समीक्षा करेंगे। संबंधित विभागीय अधिकारियों को कोरोना से निपटने के लिए विस्तृत प्लान के साथ बैठक में उपस्थित होने का निर्देश दिया गया है।

अधि‍कारियों से लगातार अपडेट : दिल्ली समेत देश भर में पिछले कुछ दिनों से कोरोना के केस में वृद्धि देखी गई है। केजरीवाल खुद दिल्ली में बढ़ रहे कोरोना केस पर कड़ी नजर रखे हुए हैं और अधिकारियों से प्रतिदिन की अपडेट ले रहे हैं। दिल्ली निवासियों को कोरोना की वजह से दिक्कतों का सामना न करना पड़े, इसके लिए सीएम अरविंद केजरीवाल के निर्देश पर स्वास्थ्य विभाग सक्रिय हो गया है।

बढ़ाई गई आईसीयू और बेड्‍स की संख्या : मुख्यमंत्री के आदेश के बाद दिल्ली के 33 बड़े अस्पतालों में 25-25 फीसद आईसीयू और सामान्य बेड बढ़ा दिए गए हैं। इन 33 अस्पतालों में 30 मार्च तक कोविड के 1705 समान्य बेड थे, जो अब बढ़ कर 2547 हो गए हैं। इस तरह 842 कोविड के समान्य बेड बढ़ा दिए गए हैं। इसी तरह, कोविड मरीजों के लिए 30 मार्च तक 608 आईसीयू बेड थे, जिसमें 230 बेड की वृद्धि की गई है और अब दिल्ली में कोविड के लिए 838 आईसीयू बेड हो गए हैं।

सर्विलांस टीमों की तैनाती : सीएम अरविंद केजरीवाल के निर्देश पर जिला स्तर पर सर्विलांस टीमें नजर बनाए हुई हैं। कोरोना से संक्रमित मरीजों के संपर्क में आने वाले लोगों की पहचान की जा रही है। संक्रमितों के संपर्क में आए कम से कम 30 लोगों को ट्रेस किया जा रहा है और जांच कर उन्हें आइसोलेट किया जा रहा है, ताकि उनके जरिए दूसरें लोगों में कोरोना के संक्रमण को रोका जा सके।

लापरवाही पर कार्रवाई : सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के बावजूद कुछ लोग सार्वजनिक स्थानों पर मास्क पहनकर जाने में लापरवाही बरत रहे हैं। मुख्यमंत्री ने बिना मास्क लगाए सार्वजनिक स्थनों पर जाने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। जिला स्तर पर गठित टीमें ऐसे लोगों पर नजर रख रही हैं और बिना मास्क के पाए जाने पर उन पर आवश्यक कार्रवाई कर रही हैं।

टेस्ट और वैक्सीनेशन पर गंभीर : सीएम अरविंद केजरीवाल के निर्देश पर दिल्ली में 80 हजार से अधिक टेस्ट प्रतिदिन किए जा रहे हैं, ताकि कोरोना के फैलाव पर शीध्र काबू किया जा सके।
केजरीवाल सरकार अधिक से अधिक लोगों का वैक्सीनेशन कराने को लेकर बेहद गंभीर है। सीएम अरविंद केजरीवाल के निर्देश पर दिल्ली में वैक्सीनेशन सेंटर को बढ़ाकर 600 के आस-पास कर दिया गया है।

आज से दिल्ली में 45 वर्ष से अधिक उम्र वाले लोगों के लिए वैक्सीनेशन अभियान शुरू कर दिया गया है, जो वैक्सीनेशन के लिए पंजीकरण नहीं करा पाए हैं, दिल्ली सरकार ने उन्हें भी वैक्सीन लगवाने के लिए सहूलियतें प्रदान कर दी है। ऐसे लोग दोपहर 3 बजे से रात 9 बजे के बीच किसी भी वैक्सीनेशन सेंटर पर जाकर वैक्सीन लगवा सकते हैं।



और भी पढ़ें :