सफलता का शॉटकर्ट नहीं

WD|
Subrato ND  
एक रास्ता जो अनेक गलियों और पगडंडियों से मिलकर बना होता है। ऐसे अनेक रास्ते जो इंसान को अपने गंतव्य स्थलों पर ले जाते हैं। इन रास्तों पर होती है सिर्फ भीड़ जो इंसानों, वाहनों और अन्य पशुओं की होती है। लेकिन इस भीड़ का हर इंसान एक-दूसरे से अलग है और प्रत्येक का गंतव्य स्थल भी अलग है। कोई नौकरी के लिए कार्यालय, तो कोई अन्य किसी कार्य से इन रास्तों से गुजरता है। > > देखा जाए तो हर रास्ता इतना सुगम नहीं होता सिर्फ सीमेंट व कांक्रीट के रास्तों को इंसान सुगम बनाने की कोशिश करता है जिससे उसे कोई कठिनाई नहीं आए लेकिन इंसान की जिंदगी भी तो एक लंबे रास्ते के समान है, जो हर समय सुगम नहीं होती। अनेक पगडंडियाँ यहीं हैं जिसमें कठिनाइयाँ हर डगर पर आती हैं और इन कठिनाइयों को पार करने के लिए आवश्यकता होती है धैर्य की।
प्रत्येक इंसान का उद्देश्य अलग होता है और जीवन जीने का ढंग भी अलग होता है। कुछ व्यक्ति जीवन में आने वाले दुःखों को हँसते-हँसते झेल जाते हैं, लेकिन कुछ व्यक्तियों के लिए सुगम जीवन भी दुर्गम के समान होता है।

जीवन की हर डगर को सुगम या दुर्गम बनाने का काम इंसान स्वयं ही करता है। उसी प्रकार स्वयं की प्रगति या अपकर्ष भी इंसान स्वयं करता है। यह उसके स्वयं के विचारों एवं भावनाओं पर निर्भर करता है कि उसे अपना रास्ता, अपने उद्देश्य का निर्धारण स्वयं करना है। उसकी सकारात्मक सोच, जीवन को जीने का ढंग सभी सफलता प्राप्ति में सहायक होते हैं।

 

और भी पढ़ें :