गाँधीजी थे सबसे महान एनआरआई-पित्रोदा

नई दिल्ली| भाषा| पुनः संशोधित शुक्रवार, 8 जनवरी 2010 (20:05 IST)
प्रधानमंत्री के सलाहकार सैम पित्रोदा ने कहा कि प्रवासी भारतीयों के लिए देश के सूचना प्रौद्योगिकी, ज्ञान तथा इनोवेशन के क्षेत्र में काफी संभावनाएँ हैं। उन्होंने कहा कि गाँधीजी हमारे सबसे महान एनआरआई थे।

शुक्रवार को यहाँ के पूर्ण सत्र को संबोधित करते हुए पित्रोदा ने कहा कि दूरसंचार क्षेत्र में आई क्रांति की बदौलत आज आईटी क्षेत्र ऐसा उद्योग बन चुका है, जिसका निर्यात 60 अरब डॉलर का है।
उन्होंने प्रवासी भारतीयों से कहा कि वे राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी का अनुकरण करें। वे हमारे सबसे महान एनआरआई थे।

पित्रोदा ने शिक्षा क्षेत्र का उल्लेख करते हुए कहा कि 30 नए राष्ट्रीय विश्वविद्यालयों, 14 इनोवेशन विश्वविद्यालयों और कौशल विकास परियोजनाओं में भारतवंशियों के लिए काफी अवसर हैं।

उन्होंने कहा कि गवर्नेंस तथा विकास को सभी लोगों तक पहुँचाने में आईटी क्षेत्र महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। (भाषा)

 

और भी पढ़ें :