सब्जी, खाद्य तेल के आयात में तीव्र वृद्धि

नई दिल्ली| भाषा| पुनः संशोधित शनिवार, 7 जनवरी 2012 (14:44 IST)
उच्च मुद्रास्फीति के बीच खाद्य तेल, फल और सब्जी समेत संवेदनशील जिंसों का आयात चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-अक्टूबर के दौरान 41.8 प्रतिशत बढ़कर 57,399 करोड़ रुपए का रहा।


संवेदनशील उत्पादों में वैसे जिंस शामिल हैं जिससे किसानों तथा छोटे उद्यमियों के हित जुड़े हैं। इन वस्तुओं के आयात में वृद्धि से उनके हित प्रभावित हो सकते हैं।

आलोच्य अवधि में देश का कुल आयात 30.9 प्रतिशत बढ़ा। यहां जारी आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार अप्रैल-अक्टूबर के दौरान फल एवं सब्जियों का आयात 94.1 प्रतिशत बढ़कर 5,921 करोड़ रुपए रहा। खाद्य तेल का आयात भी 67.6 प्रतिशत बढ़कर 26,621 करोड़ रुपए रहा। भारत खाद्य तेलों का दुनिया का सबसे बड़ा आयातक और उपभोक्ता देश है।

देश में कुल खाद्य तेल की जरूरतों को करीब 50 प्रतिशत आयात से पूरा किया जाता है। भले ही खाद्य मुद्रास्फीति अभी कम हुई है, लेकिन चालू वित्त वर्ष में अबतक यह ऊंची बनी रही। 29 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह के दौरान यह 11.81 प्रतिशत थी।


जिन अन्य वस्तुओं के आयात में वृद्धि हुई है, उनमें मसाला (73.6 प्रतिशत) शामिल है। (भाषा)



और भी पढ़ें :