कमी हिन्दी में नहीं, हिन्दीभाषियों में है

SubratoWD
-डॉ. वेदप्रताप वैदि
हिन्दी और संस्कृत मिलकर संपूर्ण कम्प्यूटर-विश्व पर राज कर सकती हैं। वे इक्कीसवीं सदी की विश्वभाषा बन सकती हैं। जो भाषा कम से कम पिछले एक हजार साल से करोड़ों-अरबों लोगों द्वारा बोली जा रही है और जिसका उपयोग फिजी से सूरिनाम तक फैले हुए विशाल विश्व में हो रहा है, उस पर शब्दों की निर्धनता का आरोप लगाना शुद्ध अज्ञान का परिचायक है।

यह बात सही है कि उसके पास फ्रांसीसी और अँग्रेजी की तरह सुललित, विविध और मानक कोश नहीं है लेकिन इसके लिए दोषी कौन है? क्या हिन्दी है? बिलकुल नहीं! उसके दोषी हम हिन्दीभाषी हैं।

क्या हिन्दी में कोई ऐसा जन्मजात खोट है कि वह भारत की राजभाषा नहीं बन सकती? क्या कमी है उसमें? क्या उसके बोलने वाले बहुत कम हैं? क्या वह बहुत निर्धन भाषा है? क्या उसकी शब्द संपदा नगण्य है? क्या उसका अपना कोई व्याकरण नहीं है, लिपि नहीं है, इतिहास नहीं है, शास्त्र नहीं है? क्या नहीं है, हिन्दी के पास? हिन्दी के पास वह सब कुछ है, जिसके होने से कोई भी भाषा राष्ट्रभाषा और राजभाषा बनती है बल्कि उसके पास वे गुण भी हैं, जिनके कारण कोई भाषा पर-राष्ट्रभाषा, अंतरराष्ट्रीय भाषा और विश्व भाषा बनती है।

जहाँ तक हिन्दी के बोलने और समझने वालों का प्रश्न है, हिन्दी आज दुनिया की नंबर एक भाषा है। दुनिया की कोई अन्य भाषा हिन्दी का मुकाबला नहीं कर सकती। दुनिया के कुछ ताकतवर देशों ने अपनी प्रचार तोपें यह सिद्ध करने पर भिड़ा रखी हैं कि अँग्रेजी न केवल विश्व की श्रेष्ठतम भाषा है बल्कि सबसे बड़ी भाषा भी है। बड़ी वह है, इसमें शक नहीं लेकिन वह सबसे बड़ी कैसे है?

जो भाषा सिर्फ अमेरिका, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और आधे कनाडा में बोली जाए, उसे दुनिया की सबसे बड़ी भाषा कैसे माना जा सकता है? इन साढ़े चार देशों की जनसंख्या कितनी है? मुश्किल से पचास करोड़। दुनिया के ज्यादातर देशों में आजकल इक्का-दुक्का प्रतिशत अँग्रेजी ज्ञाता भी मिल जाते हैं। इनमें अगर भारत, श्रीलंका, घाना, सिंगापुर जैसे ब्रिटेन के पुराने गुलाम देशों के अँग्रेजीभाषियों की संख्या भी जोड़ लें तो वह भी दस करोड़ से ज्यादा नहीं हो सकती है। वे वास्तव में अँग्रेजीभाषी नहीं हैं। वे केवल मानसिक गुलामी या व्यावसायिक विवशता के कारण अँग्रेजी का इस्तेमाल करते हैं। इतना ही नहीं, जिन साढ़े चार देशों में अँग्रेजी लोकभाषा है, वहाँ भी सभी लोग अँग्रेजी नहीं बोलते।

खुद अँग्रेजी के गढ़ ब्रिटेन में कई ऐसे इलाके हैं, जहाँ अगर आप अँग्रेजी बोलें तो या तो लोग समझेंगे ही नहीं और अगर समझेंगे तो आपको उत्तर नहीं देंगे। अभी-अभी ब्रिटेन की वेल्श, स्कॉटिश और आयरिश भाषाओं ने सदियों से संघर्ष के बाद अपने-अपने क्षेत्रों से अँग्रेजी को अपदस्थ किया है।

इसी प्रकार अमेरिका में बसे लाखों लातिनी लोग हिस्पानी बोलते हैं। उनमें से कई तो अँग्रेजी बिलकुल नहीं समझते। यही हाल जापान, विएतनाम, अफगानिस्तान और चीन से आकर बसे हुए अमेरिकियों का है। ऐसे में अँग्रेजी जब संख्या बल के आधार पर हिन्दी को चुनौती देती है तो उसका दावा हास्यास्पद लगता है।

अकेले भारत में सत्तर करोड़ से ज्यादा लोग हिन्दी बोलते और समझते हैं। पूरे ब्रिटेन में जितने लोग अँग्रेजबोलते हैं, उससे ज्यादा तो अकेले उत्तरप्रदेश में ही हिन्दी बोलते हैं। पूरा पाकिस्तान हिन्दी बोलता है। बांग्लादेश, नेपाल, भूटान, तिब्बत, म्यांमार, अफगानिस्तान और मध्य एशियाई गणतंत्रों में भी आपको हजारों से लेकर लाखों लोग हिन्दी बोलते और समझते हुए मिल जाएँगे। इसके अलावा फिजी, मॉरिशस, गयाना, सूरिनाम, ट्रिनिडाड जैसे देश तो हिन्दीभाषियों के बसाए हुए ही हैं।

दुनियाभर में फैले हुए लगभग दो करोड़ भारतीय भी हिन्दी ही बोलते हैं। इसके अलावा दुनिया के लगभग डेढ़ सौ विश्वविद्यालयों में हिन्दी पढ़ाई जाती है। दूसरे शब्दों में, हिन्दी समाज की जनसंख्या लगभग एक अरब का आँकड़ा छूती है। ऐसे में उसे संख्या के हिसाब से बलहीन बताना तथ्यों की अनदेखी करना है। सचाई तो यह है कि हिन्दी केवल अँग्रेजी से ही नहीं, चीनी भाषा से भी आगे है।

चीन की 'मंडारिन भाषा' (मानक चीनी) पूरे चीन में नहीं बोली जाती। जो भाषा लोग पेइचिंग में समझते हैं, वह शंघाई में नहीं समझते और जो शंघाई में समझते हैं, वह सियान में नहीं समझते हैं। हर जगह की चीनी अलग-अलग है। चीन की 90 अल्पसंख्यक जातियाँ भी चीनी भाषा नहीं बोलतीं। यह मैं लगभग संपूर्ण चीन की यात्रा करने के बाद कह रहा हूँ। इसके अलावा हिन्दी की तरह चीनी भाषा दर्जनभर देशों में भी नहीं बोली जाती।

ND|
उसकी लिपि इतनी कठिन है कि गैर-चीनी उसे आसानी से सीख नहीं पाते जबकि हिन्दी की लिपि सरल और वैज्ञानिक है। इसीलिए वह कई अन्य भाषाओं की भी लिपि है, जैसे संस्कृत, पालि, प्राकृत, मराठी, नेपाली आदि। देवनागरी में जैसा लिखा जाता है, वैसा ही बोला जाता है और जैसा बोला जाता है, वैसा ही लिखा जाता है।


और भी पढ़ें :