यूपी चुनाव से पहले अखिलेश ने बताया, क्या है भाजपा की सबसे बड़ी ताकत...

अवनीश कुमार| Last Updated: रविवार, 12 सितम्बर 2021 (13:47 IST)
लखनऊ। उत्तरप्रदेश में 2022 विधानसभा चुनाव के अब मात्र 6 महीने बाकी रह गए हैं जिसके चलते सभी पार्टियां अब एक-दूसरे पर आरोप-पत्यारोप लगाती हुई नजर आ रही हैं। इसी के चलते समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए भाजपा पर निशाना साधे हुए भाजपा पर लगाते हुए कहा है कि भाजपा स्वतंत्रता विरासत की संस्कृति को नष्ट करना चाहती है।
ALSO READ:

केजरीवाल फिर आप के राष्ट्रीय संयोजक, इन खबरों पर आज रहेगी सबकी नजर...

भाजपा की सबसे बड़ी ताकत झूठ : अखिलेश ने कहा कि भाजपा की सबसे बड़ी ताकत झूठ है। भाजपा का मानना है कि विकास संवेदनशील मुद्दा नहीं है। भाजपा हर मामलों में व्यापारिक दृष्टिकोण अपनाती है। भाजपा राजनीति में भी कारोबार ढूंढती रहती है। भाजपा के पास अपने नेताओं के नाम के लिए अपना कोई काम नहीं है। सामाजिक सद्भाव को तोड़ने में भाजपा लगी रहती है। भाजपा कुप्रचार में लगी है। अखिलेश ने कहा कि भाजपा के पास प्रदेश की जनता को बताने के लिए अब कुछ भी नहीं बचा है जिसके चलते सिर्फ और सिर्फ समाजवादी पार्टी को बदनाम करना ही भाजपा का मूल एजेंडा है।


लोकतंत्र बचाने का चुनाव : अखिलेश ने कहा है कि 2022 का चुनाव देश और लोकतंत्र को बचाने का चुनाव है। यूपी से ही बदलाव होगा, जनता ने यह तय कर लिया है। कालाधन, भ्रष्टाचार और आतंकवाद के नाम पर राजनीति करने वाली भाजपा की सच्चाई जनता जान चुकी है। भाजपा लोकतंत्र के विरुद्ध आचरण करती है। भाजपा अलोकतांत्रिक व्यवस्था की पक्षधर है। फासिस्ट ताकतों से देश को बचाना है। महिलाओं की अस्मिता पर हो रहा हमला शर्मनाक है।


बीजेपी सरकार का रवैया दुर्भाग्यपूर्ण: यादव ने कहा कि सामाजिक न्याय के प्रति बीजेपी सरकार का रवैया दुर्भाग्यपूर्ण है। असंगठित क्षेत्र के 6 करोड़ मजदूर आत्महत्या करने को मजबूर हैं। किसान और बेकारी प्रमुख समस्या है। इनके समाधान के प्रति सरकार की कोई चिंता नहीं है। समाजवादी पार्टी लोकतंत्र के लिए समर्पित और संकल्पित है। संवैधानिक अधिकारों की बहाली के लिए समाजवादी सरकार ही एकमात्र विकल्प है। वंचित और उपेक्षित तबके के सम्मान की लड़ाई सपा ही लड़ती है। उत्तरप्रदेश में खुशहाली और तरक्की के लिए समाजवादी पार्टी सरकार का बनना जनहित में है।



और भी पढ़ें :