रविवार, 14 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. समाचार
  2. शेयर बाजार
  3. समाचार
  4. BSE
Written By
Last Updated : सोमवार, 20 सितम्बर 2021 (12:15 IST)

शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 350 अंक से ज्यादा लुढ़का, निफ्टी भी 17,500 के नीचे

शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 350 अंक से ज्यादा लुढ़का, निफ्टी भी 17,500 के नीचे | BSE
मुंबई। वैश्विक बाजारों में कमजोर कारोबार के बीच और टाटा स्टील, एचडीएफसी, एचडीएफसी बैंक और आईसीआईसीआई बैंक के शेयरों में नुकसान के साथ सोमवार को शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स में 350 अंक से अधिक की गिरावट दर्ज की गई।

 
30 शेयरों वाला सेंसेक्स 355.27 अंक या 0.60 प्रतिशत की गिरावट के साथ 58,660.62 पर कारोबार कर रहा था। इसी तरह शुरुआती सौदों में निफ्टी 108.50 अंक या 0.62 प्रतिशत गिरकर 17,476.65 पर आ गया। सेंसेक्स में टाटा स्टील लगभग छह प्रतिशत की गिरावट के साथ शीर्ष पर था, इसके बाद बजाज ऑटो, एमएंडएम, एचडीएफसी, पॉवरग्रिड और मारुति के शेयर आते हैं। दूसरी ओर टेक महिंद्रा, एचयूएल, एचसीएल टेक और टीसीएस के शेयरों को लाभ हुआ।

 
पिछले सत्र में 30 शेयरों वाला सूचकांक 125.27 अंक या 0.21 प्रतिशत की गिरावट के साथ 59,015.89 पर और निफ्टी 44.35 अंक या 0.25 प्रतिशत की गिरावट के साथ 17,585.15 पर बंद हुआ था। विदेशी संस्थागत निवेशक (एफआईआई) पूंजी बाजार में शुद्ध खरीदार थे और अस्थायी विनिमय आंकड़ों के अनुसार उन्होंने शुक्रवार को 1,552.59 करोड़ रुपए के शेयर खरीदे। जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वी के विजयकुमार के अनुसार बाजार में अब से उतार-चढ़ाव बना रह सकता है।
 
उन्होंने कहा कि विस्तारित क्षेत्र में मूल्यांकन के साथ सुधार संभव है। विशेष रूप से व्यापक बाजार में सुधार की संभावना है। सकारात्मक बात यह है कि एफआईआई बाजारों को मजबूती प्रदान करते हुए खरीदारी करना जारी रखते हैं। लेकिन यह जल्दी बदल सकता है। विजयकुमार ने कहा कि निवेशक स्पष्टता आने तक 'इंतजार करो और देखो' की रणनीति अपना सकते हैं। एशियाई शेयर बाजारों में हेंग सेंग (हांगकांग) भारी नुकसान के साथ कारोबार कर रहा था, वहीं चीन, जापान और टोकियो में शेयर बाजार बंद रहे। इस बीच अंतरराष्ट्रीय तेल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड 0.66 प्रतिशत फिसलकर 74.84 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया।(भाषा)
ये भी पढ़ें
चरणजीत सिंह चन्नी के मुख्यमंत्री बनने से पंजाब की आधी आबादी को खतरा,BJP ने MeToo के आरोपों को बनाया मुद्दा