नौकरी पुलिस की, गुणगान आतंकियों का, नतीजा बर्खास्तगी...

सुरेश एस डुग्गर| पुनः संशोधित शुक्रवार, 16 अप्रैल 2021 (18:58 IST)
जम्मू। में यह पहली बार नहीं है कि किसी पुलिसकर्मी ने पुलिस की नौकरी करते हुए आतंकियों की मदद की हो या फिर उनका गुणगान किया हो। लेकिन यह जरूर पहली बार है कि पुलिस की नौकरी करने वाली किसी महिला पुलिसकर्मी ने ऐसा करके सभी को चौंकाया है। हालांकि पुलिस की नौकरी करते हुए आतंकियों का गुणगान करने का नतीजा वह अब भुगत रही है। उसे नौकरी से बर्खास्त कर कर लिया गया है।
अधिकारियों ने बताया कि पुलिस ने एक आतंकरोधी अभियान में रुकावट डालने और आतंकियों के महिमामंडन की आरोपित एक को सेवामुक्त करते हुए गिरफ्तार कर लिया है। आरोपित महिला एसपीओ दक्षिण कश्मीर में फ्रिसल कुलगाम की रहने वाली है। फिलहाल, उससे पूछताछ जारी है।

जानकारी के अनुसार, 14 अप्रैल को कुलगाम के करेवा, फ्रिसल में आतंकियों के एक मकान में छिपे होने की सूचना पर सेना व पुलिस के एक संयुक्त कार्यदल ने तलाशी अभियान चलाया था। तलाशी ले रहे सुरक्षाबलों ने जब एक मकान में दाखिल होने का प्रयास किया तो वहां मौजूद एक महिला ने उनका प्रतिरोध किया।
ALSO READ:
आतंकी मलिक उमैद ने दीं कई सनसनीखेज जानकारियां, बताया- पंजाब से हथियार कश्मीर तक पहुंचाने थे ISJK आतंकी को
उसने सुरक्षाबलों को तलाशी के लिए अपने घर के आंगन में दाखिल होने से रोका। उनके साथ दुर्व्यवहार किया और उसने कई भड़काऊ बातें कहीं। उसने आतंकियों को सही ठहराते हुए उनका महिमामंडन भी किया। महिला ने इस दौरान अपने निजी मोबाइल फोन से एक वीडियो भी शूट किया और बाद में उसे इंटरनेट मीडिया पर वायरल भी किया।
महिला के व्यवहार से न सिर्फ सुरक्षाबलों को अपना अभियान रोकना पड़ा, बल्कि कानून व्यवस्था का संकट पैदा होने की आशंका हो गई। पुलिस ने इस मामले का संज्ञान लिया और मामला दर्ज कर लिया। जांच के दौरान महिला के पुलिस में एसपीओ होने का तथ्य भी सामने आया। उसी समय उसे सेवामुक्त कर दिया गया। उसकी पहचान सैयमा अख्तर के रूप में हुई है। उसे गिरफ्तार कर लिया गया और कुलगाम में महिला पुलिस स्टेशन में उससे पूछताछ जारी है।



और भी पढ़ें :