शनिवार, 13 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. प्रादेशिक
  4. Flood situation worsens in Assam, over 3.5 lakh affected
Written By
Last Modified: सोमवार, 30 अगस्त 2021 (23:39 IST)

असम में बाढ़ की स्थिति और बिगड़ी, 3.5 लाख से ज्यादा प्रभावित

असम में बाढ़ की स्थिति और बिगड़ी, 3.5 लाख से ज्यादा प्रभावित - Flood situation worsens in Assam, over 3.5 lakh affected
गुवाहाटी। असम में बाढ़ की स्थिति सोमवार को और बिगड़ गई जिससे दो लोगों की जान चली गई और 17 जिलों में 3.63 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं। यह जानकारी एक आधिकारिक बुलेटिन में दी गई।
 
असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) के अनुसार, बारपेटा जिले के चेंगा और मोरीगांव के मायोंग में बाढ़ के पानी में एक-एक बच्चे डूब गए।
 
उसने कहा कि बारपेटा, विश्वनाथ, कछार, चिरांग, दरांग, धेमाजी, धुबरी, डिब्रूगढ़, गोलाघाट, जोरहाट, कामरूप, पश्चिम कार्बी आंगलोंग, लखीमपुर, माजुली, मोरीगांव, नागांव, नलबाड़ी, शिवसागर, सोनितपुर, दक्षिण सलमारा और तिनसुकिया जिलों में बाढ़ से 3 लाख 63 हजार 100 से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं।
लखीमपुर सबसे अधिक प्रभावित जिला है, जहां 1.3 लाख से अधिक बाढ़ से प्रभावित हैं, इसके बाद माजुली में लगभग 65,000 लोग और दरांग में 41,300 से अधिक लोग प्रभावित हैं। रविवार तक राज्य के 14 जिलों में बाढ़ से 2.58 लाख से अधिक लोग प्रभावित थे।
 
एएसडीएमए ने कहा कि इस समय 950 गांव जलमग्न हैं और पूरे असम में 30,333.36 हेक्टेयर फसल क्षेत्र को नुकसान पहुंचा है। उसने कहा कि अधिकारी 10 जिलों में 44 राहत शिविर और वितरण केंद्र चला रहे हैं, जहां 321 बच्चों सहित 1,619 लोग शरण लिए हुए हैं।
 
बुलेटिन में कहा गया है कि विभिन्न राहत एजेंसियों ने राज्य के विभिन्न हिस्सों से 470 लोगों को निकाला है। प्राधिकारियों ने 621.34 क्विंटल चावल, दाल और नमक, 578.82 लीटर सरसों तेल, 100 क्विंटल पशु चारा और अन्य बाढ़ राहत सामग्री वितरित की है।
 
बुलेटिन में कहा गया है कि बारपेटा, विश्वनाथ, बोंगाईगांव, डिब्रूगढ़, गोलपारा, मोरीगांव, नलबाड़ी और दक्षिण सलमारा जिले में बड़े पैमाने पर कटाव हुआ है।
 
एएसडीएमए ने कहा कि बारपेटा, दरांग, गोलाघाट, मोरीगांव, नगांव, शिवसागर, लखीमपुर और तिनसुकिया में बाढ़ के पानी से सड़कें और अन्य बुनियादी ढांचे को नुकसान पहुंचा है। उसने कहा कि बाढ़ से कुल 2,56,144 घरेलू जानवर और कुक्कुट प्रभावित हुए हैं।
केंद्रीय जल आयोग द्वारा जारी एक रिपोर्ट के अनुसार, डिब्रूगढ़, जोरहाट, सोनितपुर, गोलपारा, कामरूप और धुबरी जिलों में ब्रह्मपुत्र ‘सामान्य से ऊपर से गंभीर बाढ़ की स्थिति में बह रही है।’
 
उसने कहा कि इसके अलावा ब्रह्मपुत्र की सहायक नदियां, अर्थात बारपेटा में बेकी, सोनितपुर में जिया भराली, शिवसागर में दिखाऊ, धुबरी में संकोश, लखीमपुर में सुबनसिरी, गोलाघाट में धनसिरी, कोकराझार में गौरांग और कामरूप जिले में पुथिमारी सामान्य से लेकर गंभीर बाढ़ की स्थिति में बह रही हैं।
 
 
उसने कहा कि करीमगंज में कुशियारा नदी (बराक और अन्य) सामान्य से ऊपर बाढ़ की स्थिति में बह रही है।
 
ये भी पढ़ें
J&K में सेना की नेक पहल, बच्चों के लिए शुरू कीं ट्यूशन कक्षाएं...