युवा दिवस पर पीएम मोदी बोले, स्वामी विवेकानंद ने दिया एक और अनमोल उपहार

पुनः संशोधित मंगलवार, 12 जनवरी 2021 (11:46 IST)
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को राष्ट्रीय पर वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से दूसरे राष्ट्रीय महोत्सव के समापन समारोह को संबोधित किया। पीएम मोदी ने कहा कि ने एक और अनमोल उपहार दिया है। ये उपहार है, व्यक्तियों के निर्माण का, संस्थाओं के निर्माण का। इसकी चर्चा बहुत कम ही हो पाती है स्वामीजी आज भी हमारे बीच हैं, प्रेरणा देते हैं।
नरेंद्र मोदी ने कहा कि विवेकानंद के विचारों में दुनिया को बदलने की ताकत। उनके विचार हमें प्रेरणा देते हैं। स्वामीजी शारीरिक और मानसिक ताकत दोनों पर बल देते थे। उन्होंने आजादी के आंदोलन को भी नई दिशा दी।

उन्होंने कहा कि लोग स्वामी जी के प्रभाव में आते हैं, संस्थानों का निर्माण करते हैं, फिर उन संस्थानों से ऐसे लोग निकलते हैं जो स्वामी जी के दिखाए मार्ग पर चलते हुए नए लोगों को जोड़ते चलते हैं।
स्वामी जी कहते थे, पुराने धर्मों के मुताबिक नास्तिक वो है जो ईश्वर में भरोसा नहीं करता। लेकिन नया धर्म कहता है, नास्तिक वो है जो खुद में भरोसा नहीं करता।

उन्होंने कहा कि हमारा युवा खुलकर अपनी प्रतिभा और अपने सपनों के अनुसार खुद को विकसित कर सके इसके लिए आज एक वातावरण और इकोसिस्टम तैयार किया जा रहा है। शिक्षा व्यवस्था हो, सामाजिक व्यवस्था हो या कानूनी बारीकियां, हर चीज में इन बातों को केंद्र में रखा जा रहा है।
मोदी ने कहा कि
पहले देश में ये धारणा बन गई थी कि अगर कोई युवक राजनीति की तरफ रुख करता था तो घर वाले कहते थे कि बच्चा बिगड़ रहा है। क्योंकि राजनीति का मतलब ही बन गया था- झगड़ा, फसाद, लूट-खसोट, भ्रष्टाचार। लोग कहते थे कि सब कुछ बदल सकता है लेकिन सियासत नहीं बदल सकती।




और भी पढ़ें :