कभी गर्म, कभी तल्ख रिश्तों के बीच मोदी की चीन के प्रधानमंत्री से मुलाकात

mo chi
पुनः संशोधित गुरुवार, 13 नवंबर 2014 (23:37 IST)
-शोभना जैन
 
नई दिल्ली। चीन के साथ कभी गर्म तो कभी तल्ख रिश्‍तों के बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को यहां चीन के प्रधानमंत्री के साथ शिष्ट्मंडल स्तर की वार्ता की, जिसमें चीन के प्रधानमंत्री ने मोदी को चीन यात्रा का न्योता दिया। दोनों नेताओं के बीच यह पहली मुलाकात थी। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल भी इस बैठक में मौजूद थे।  
विदेश मंत्रालय के प्रवक्त्ता सैयद अकबरुद्दीन ने इस मुलाकात और न्योते के बारे में ट्वीट कर कहा कि ली ने मोदी से कहा, मैं आपकी चीन यात्रा को लेकर आप से वहां मिलने को उत्सुक हूं।
 
यह मुलाकात यहां चल रहे भारत-आसियान तथा पूर्व एशिया शिखर सम्मेलनों के मंच से अलग हटकर म्यांमार अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन केन्द्र में हुई। प्रवक्ता ने कहा कि दोनों नेताओं की राय थी कि दोनों देश मिलकर आर्थिक विकास के लिए काम करें, साथ ही उन्होंने एक-दूसरे को अपने-अपने देशों में हो रहे आर्थिक सुधारों की भी जानकारी दी। 
 
गौरतलब है कि विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने इस यात्रा से पहले गत सोमवार को दिल्ली में बताया था कि प्रधानमंत्री एवं चीनी प्रधानमंत्री के बीच म्यांमार में मुलाकात पूर्व निर्धारित है और इस दौरान दोनों के बीच शिष्टमंडल स्तर की बातचीत होगी। चीन की कम्युनिस्ट पार्टी में राष्ट्रपति शी के बाद ली दूसरे स्थान पर हैं।
 
गौरतलब है कि ली ने प्रधानमंत्री मोदी को इस साल मई में प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने के बाद उन्हें सबसे पहले फोन कर बधाई दी थी। उन्होंने उस समय मोदी सरकार के साथ मजबूत संबंध कायम करने की प्रतिबद्धता भी जताई थी। मोदी ब्रिस्‍बेन में चीन के राष्ट्रपति के साथ आपसी मसलों पर अहम मुलाकात करेंगे, सूत्रों के अनुसार इसमें आपसे रिश्‍ते बेहतर करने के साथ-साथ आपसी विवाद के मसले प्राथमिकता से होंगे। उम्मीद है कि चीनी नेतृत्व के साथ बातचीत दो टूक होगी। 
 
आज ली से मुलाकात के दौरान मुलाकात मोदी ने चीनी राष्ट्रपति की इस साल सितंबर में भारत यात्रा का जिक्र करते हुए कहा कि इसे स्मरणीय यात्रा के रूप में याद किया जाएगा। मोदी की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए ली ने कहा कि राष्ट्रपति शी की यात्रा बेहद सफल रही।
 
प्रधानमंत्री की ली से उस समय मुलाकात हुई जब उनकी दस दिवसीय विदेश यात्रा के तीसरे दिन आज यहां कई द्विपक्षीय बैठकें चल रही थीं। तीन देशों के इस दौरे में प्रधानमंत्री म्यांमार के बाद ऑस्ट्रेलिया एवं फिजी जाएंगे। देर रात प्रधानमंत्री म्यांमार की दो दिवसीय यात्रा के बाद ऑस्ट्रेलिया रवाना हो गए। मोदी की आज रूसी प्रधानमंत्री दिमित्री मेदवेदेव एवं फिलीपीनी राष्ट्रपति बेनिग्नो एक्यूइनो सहित अन्य विश्व नेताओं के साथ बैठक हुई। 
 
मोदी ब्रिस्बेन में समूह-20 शिखर सम्मेलन से इतर पांच देशों के समूह ब्रिक्स के नेताओं की अनौपचारिक बैठक के दौरान राष्ट्रपति ली से मुलाकात करेंगे। सूत्रों को उम्मीद है कि  इस मुलाकात से मोदी और शी के बीच आपसी समझ और मजबूत होगी, जो इस साल जुलाई में ब्राजील में ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के दौरान उनकी बैठकों एवं सितंबर में चीनी राष्ट्रपति की भारत यात्रा के दौरान बनी थी। 
 
हालांकि शी की भारत यात्रा के समय वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास चुमार में दोनों देशों की सेनाओं के बीच तनातनी का मुद्दा छाया रहा था। सूत्रों के अनुसार सीमा विवाद और सीमा पर तनातनी के बावजूद भारतीय एवं चीनी अधिकारी सकारात्मक पक्षों पर ध्यान केन्द्रित करना चाहते हैं। (वीएनआई)



और भी पढ़ें :