1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. राष्ट्रीय
  4. Mohan Bhagwat said - Will make homecoming of those who leave Hinduism
Written By
पुनः संशोधित गुरुवार, 16 दिसंबर 2021 (00:44 IST)

RSS चीफ मोहन भागवत ने कहा- हिन्दू धर्म छोड़ने वालों की घर वापसी कराएंगे, लोगों को जोड़ेंगे

चित्रकूट में चल रहे 3 दिवसीय हिन्दू एकता महाकुंभ में राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ (RSS) के प्रमुख मोहन भागवत ने हिन्दू धर्म छोड़ने वालों की घरवापसी का आह्वान किया। हिन्दू एकता महाकुंभ के मंच से भागवत ने सभी को शपथ दिलाई कि उन लोगों की घर वापसी के लिए काम करें, जो लोग हिन्दू धर्म को छोड़ चुके हैं और दूसरे धर्म में परिवर्तित हो चुके हैं। गौरतलब है कि चित्रकूट में हिन्दू महाकुंभ की शुरुआत मंगलवार को 1100 शंखों के नाद से हुई।

खबरों के अनुसार, हिन्दू एकता महाकुंभ में राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि भय ज्‍यादा दिन तक बांध नहीं सकता है। अहंकार से एकता टूटती है। हम लोगों को जोड़ने के लिए काम करेंगे। भागवत ने कहा, स्वार्थ की एकता ज्यादा दिन नहीं टिकती। अहंकार भूल अपनों के लिए प्रेम से कार्य करें। जो हिन्दू घर छोड़ गए उन्हें वापस बुलाकर परिवार का सदस्य बनाएंगे।

इस बीच महाकुंभ में लोगों ने संकल्‍प लेते हुए RSS प्रमुख के साथ कहा, मैं हिन्दू संस्कृति का धर्मयोद्धा मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम की संकल्प स्थली पर सर्वशक्तिमान परमेश्वर को साक्षी मानकर संकल्प लेता हूं कि मैं अपने पवित्र हिन्दू धर्म, हिन्दू संस्कृति और हिन्दू समाज के संरक्षण संवर्धन और सुरक्षा के लिए आजीवन कार्य करूंगा। मैं प्रतिज्ञा करता हूं कि किसी भी हिन्दू भाई को हिन्दू धर्म से विमुख नहीं होने दूंगा।

जो भाई धर्म छोड़कर चले गए हैं, उनकी भी घर वापसी के लिए कार्य करूंगा। उन्हें परिवार का हिस्सा बनाऊंगा। मैं प्रतिज्ञा करता हूं कि हिन्दू बहनों की अस्मिता, सम्मान व शील की रक्षा के लिए सर्वस्व अर्पण करूंगा। जाति, वर्ग, भाषा, पंथ के भेद से ऊपर उठकर हिन्दू समाज को समरस सशक्त अभेद्य बनाने के लिए पूरी शक्ति से कार्य करूंगा। भारत माता की जय।

3 दिवसीय हिन्दू एकता महाकुंभ की औपचारिक शुरुआत मंगलवार को हुई। पहले दिन हनुमत महायज्ञ व रुद्राभिषेक से पहले नव कुंडीय गोस्वामी तुलसीदास यज्ञशाला में 11 सौ कलश की स्थापना हुई। रामघाट पर हिन्दू एकता का संकल्प लेने के बाद कलश यात्रा निर्मोही अखाड़ा से शुरू हुई थी।

वासुदेवानंद सरस्वती जी महाराज ने कहा कि हिंदुओं को बिखरना नहीं चाहिए। उन्‍होंने कहा, हमें खरबूजा दिखना चाहिए, संतरा नहीं। बाहर भले ही धारियां हों, लेकिन भीतर से एक हों। गऊ माता को जिंदा दफना दिया जा रहा है। सड़क पर बेहाल घूम रही हैं, गऊ और ब्राह्मण की रक्षा होनी जरूरी है। हर व्यक्ति घर में गाय-बैल जरूर पालें।

इस दिवसीय महाकुंभ में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के अलावा देश की कई बड़ी हस्तियां मौजूद हैं। महाकुंभ का आयोजन तुलसीपीठाधीश्वर श्री रामभद्राचार्य कर रहे हैं। कार्यक्रम में मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ भी शामिल होंगे। कार्यक्रम को श्री श्री रविशंकर ने भी संबोधित किया।
ये भी पढ़ें
देश में कोरोना टीकाकरण 135 करोड़ के पार