गोलों की बरसात के बीच LOC और LAC दोनों तरफ जूझना होगा भारतीय सेना को

Indian Chinese soldiers
सुरेश एस डुग्गर| Last Updated: बुधवार, 16 सितम्बर 2020 (20:40 IST)
जम्मू। अगले कुछ महीनों में भारतीय सेना (Indian Army) को एलएसी (LAC) तथा एलओसी (LOC) पर एकसाथ दो मोर्चों पर जूझना होगा। एलएसी पर चीनी सेना (Chinese Army) लद्दाख (Ladakh) में मोर्चा खोले हुए है और अब एलओसी पर पाक सेना ने भयानक गतिविधियां आरंभ की हैं। रक्षा अधिकारी भी इस बात को लेकर चिंता प्रकट कर रहे हैं।
पाकिस्तान से सटी 814 किमी लंबी एलओसी तथा 264 किमी लंबी आईबी अर्थात इंटरनेशनल बॉर्डर पर सीजफायर के बावजूद पाक सेना गोले बरसा भयानक माहौल पैदा किए हुए है। (Ceasefire violation) के पीछे का उसका मकसद आतंकियों तथा हथियारों को इस ओर भिजवाना है।

8 महीनों में 3200 बार संघर्ष विराम उल्लंघन : एलओसी पर परिस्थिति कितनी भयानक हैं इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि पिछले 8 महीनों में 3200 बार संषर्घ विराम का उल्लंघन करने वाली पाक सेना को करारा जवाब देने की खातिर सीजफायर के बावजूद भारतीय सेना को कई बार बोफोर्स तोपों का मुंह खोलना पड़ा है। हर बार पाक सेना को जबरदस्त क्षति उठानी पड़ती है पर बावजूद इसके वह ऐसे कामों से बाज नहीं आती है।

एलओसी और आईबी पर सीजफायर के बावजूद युद्ध का माहौल है। फिलहाल एलएसी पर ऐसा तो नहीं है, लेकिन जंग कब छिड़ जाए कहा नहीं जा सकता। सीजफायर के बावजूद एलओसी और आईबी को पाक सेना प्रतिदिन गोलों की बरसात से पाट रही है। ऐसे में लोगों को चिंता इसके प्रति है कि इस साल 26 नवंबर को क्या सीजफायर अपने 17 साल पूरे कर पाएगा।

चिंता का माहौल एलएसी को लेकर भी है, जहां चीनी सेना लगातार अपने सैनिकों की तादाद को बढ़ा रही है। अनुमानतः 70 से 80 हजार चीनी सैनिक लद्दाख सेक्टर में आ जुटे हैं। दोनों पक्ष आमने सामने हैं। बस एक चिंगारी की जरूरत है और दोनों के बीच युद्ध किसी भी समय छिड़ सकता है। चीनी सेना की ओर से ऐसे प्रयास कई बार हो चुके हैं पिछले 3 हफ्तों में जिससे युद्ध की चिंगारी भड़क जाए।

चीन की ओर से 4 बार फायरिंग : अब तो भारतीय सेना ने भी माना है कि इस अवधि में चीन के सैनिकों ने करीब चार बार एलएसी पर गोलियां दागी हैं। चीन का ऐसा ही आरोप भारतीय सेना पर भी है। हालांकि भारतीय सेना कहती थी कि चीनी सैनिकों के अतिक्रमण के प्रयासों को धकेलने की खातिर केवल हवाई फायरिंग की गई थी। यह हवाई फायरिंग कब आमने-सामने की गोलीबारी में बदल जाए कहना मुश्किल है।
हालांकि एलएसी का माहौल एलओसी से भी अधिक भयानक होने जा रहा है। दोनों ओर से करीब डेढ़ लाख सैनिक जमा किए जा चुके हैं। टैंक रेजिमेंटों, तोपखानों के अतिरिक्त मिसाइलों को भी तैनात किया जा चुका है। वायुसेना के लड़ाकू विमान लगातार आसमान पर गरज रहे हैं। ऐसे में सभी की चिंता आने वाले महीनों को लेकर है। खासकर भारतीय पक्ष की चिंता का कारण एकसाथ एलओसी तथा एलएसी के मोर्चों के खुल जाने की है।



और भी पढ़ें :