Weather Alert: मुंबई में भारी बारिश, IMD ने जारी किया हाई अलर्ट

Last Updated: शनिवार, 12 जून 2021 (09:03 IST)
मुंबई। में बीते 3 दिनों से मूसलधार बारिश जारी है। यहां 11 दिनों में ही इतनी बारिश हो गई जितनी कि
माहभर में होती है। यहां बीते 11 दिनों में 565.2 मिमी (करीब 23 इंच) बारिश दर्ज की जा चुकी है। मुंबई में शुक्रवार रात से जारी बारिश का सिलसिला अभी मंगलवार तक जारी रहने की संभावना है और इस दौरान 200 मिमी बारिश हो सकती है। मौसम विभाग (आईएमडी) ने मुंबई, ठाणे, रायगढ़ और रत्नागिरी में रविवार के लिए हाई अलर्ट घोषित किया है।
राज्य के कुछ हिस्सों में रविवार को 24 घंटों में 204.5 मिमी तक बारिश होने की संभावना है तथा मंगलवार तक शहर के कोंकण इलाके में ऑरेंज अलर्ट जारी रहेगा। सांताक्रूज स्थित वेदर स्टेशन के मुताबिक शुक्रवार रात 8.30 बजे तक 24 घंटों में मुंबई में 107 मिमी बारिश हुई है। मौसम विभाग के अधिकारियों का कहना है कि बंगाल की खाड़ी पर बन रहा कम दबाव वाला क्षेत्र 11 जून शुक्रवार तक पूरा तैयार हो गया। इसके चलते दक्षिण-पश्चिम के मानसून से तेज बारिश आएगी, जो शनिवार सुबह तक महाराष्ट्र के लगभग हर तटीय क्षेत्र को कवर करेगी।


मुंबई और इसके पड़ोसी क्षेत्रों के दूरदराज इलाकों में रविवार को भारी बारिश की 'अत्यधिक संभावना' है। मौसम विज्ञान विभाग ने रविवार शाम में एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी। विभाग ने महाराष्ट्र के रत्नागिरि और रायगढ़ जिलों के लिए भी ऐसा ही 'रेड अलर्ट' जारी किया है।


आईएमडी ने कहा कि मुंबई और पड़ोसी ठाणे के कुछ स्थानों में शनिवार को भी भारी बारिश हो सकती है। 24 घंटे के भीतर 204.55 मिमी से ज्यादा बारिश को अत्यंत भारी बारिश माना जाता है। आईएमडी के क्षेत्रीय मौसम विज्ञान विभाग ने कहा कि मुंबई, ठाणे, रायगढ़ और रत्नागिरि जिलों में रविवार को दूरदराज इलाक़ों में अत्यंत भारी बारिश हो सकती है। रायगढ़ और रत्नागिरि जिलों में शनिवार के लिए भी इसी तरह का अलर्ट जारी है।
आईएमडी की मिली चेतावनी के बाद बृह्न्मुंबई महानगरपालिका एक्शन मोड में आ गई है तथा निचले इलाकों और मीठी नदी के पास रहने वालों को अन्य जगहों पर शिफ्ट करने की तैयारी की जा रही है। इस दौरान वार्ड कार्यालयों को गिरे पेड़ों को हटाने का काम दिया गया है। साथ ही आपातकालीन हालात के लिए तैयार रहने को कहा गया है। महाराष्ट्र हाउसिंग एंड एरिया डेवलपमेंट अथॉरिटी, फायर ब्रिगेड, एनडीआरएफ और राज्य आपदा प्रबंधन बलों को तैयार रहने के लिए कहा गया है।



और भी पढ़ें :