Tauktae का असर : उत्तर भारत के कुछ हिस्सों में बारिश की चेतावनी, 50-60 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से हवा चलेगी

पुनः संशोधित बुधवार, 19 मई 2021 (00:59 IST)
नई दिल्ली। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने बताया कि ताउते चक्रवात के और कमजोर पड़ने के साथ अगले दो दिन में दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर भारत के विभिन्न हिस्सों में मध्यम स्तर की बारिश होने का अनुमान है। विभाग के स्थानीय केन्द्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा कि ताउते के उत्तर भारत की ओर बढ़ने पर दक्षिणी राजस्थान में बारिश हुई है।
श्रीवास्तव ने कहा कि कल यह राजस्थान और हरियाणा के हिस्से में पहुंचेगा। इसके कारण पूर्वी और पश्चिमी उत्तर प्रदेश, पूर्वी राजस्थान और दिल्ली-एनसीआर में मध्यम स्तर की बारिश होगी। दिल्ली के कुछ इलाकों में भारी बारिश होने का अनुमान है।'

विभाग ने राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के लिये बुधवार को 'ऑरेंज' चेतावनी जारी की है। साथ ही उसने बारिश तथा 50-60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने का अनुमान जताया है। उत्तर भारत में पश्चिमी विक्षोभ का भी प्रभाव है और दोनों मौसमी गतिविधियों के चलते बारिश होने का अनुमान है। ताउते चक्रवात के सोमवार रात गुजरात के तट पर दस्तक देने के बाद राज्य में भारी बारिश हुई है। इससे पहले यह चक्रवात पूरे पश्चिमी तट को प्रभावित कर चुका था।
राजस्थान में भारी बारिश की आशंका : चक्रवात ताउते के मंगलवार देर रात तक राजस्थान में प्रवेश करने पर सात जिलों में भारी से अतिभारी बारिश होने की संभावना जताई है। विभाग ने जालौर, सिरोही, उदयपुर, पाली, डूंगरपुर, चित्तोडगढ और राजसमंद जिलो में बुधवार को भारी से अतिभारी बारिश होने की संभावना जताई है।
जयपुर मौसम केन्द्र के क्षेत्रीय निदेशक राधेश्याम शर्मा ने बताया कि वर्तमान में चक्रवाती तूफान का केंद्र सौराष्ट्र, गुजरात में है तथा पिछले 6 घंटों के दौरान 26 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से उत्तर उत्तर-पूर्वी दिशा (सिरोही-उदयपुर) की तरफ बढ़ा है।

उन्होंने बताया कि बुधवार को दक्षिणी राजस्थान और जयपुर संभाग के कुछ हिस्सों में भारी से अति भारी बारिश होने का अनुमान है। इस दौरान 45 से 55 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से तेज हवाओं के चलने की संभावना है। राज्य सरकार ने राज्य आपदा सहायता बल (एसडीआरएफ) के दलों को राज्य के दक्षिण और पश्चिमी जिलों में तैनात किया है। (भाषा)



और भी पढ़ें :