गुरुवार, 28 सितम्बर 2023
  1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. राष्ट्रीय
  4. 70% of people who took booster dose did not get corona infection
Written By
Last Updated : मंगलवार, 26 अप्रैल 2022 (20:29 IST)

बूस्टर डोज लेने वाले 70% लोगों को नहीं हुआ कोरोना संक्रमण, Study में बड़ा खुलासा

नई दिल्ली। भारत में कोविड-19 (Covid-19) रोधी टीके की बूस्टर खुराक लेने वालों में से 70 प्रतिशत लोग महामारी की तीसरी लहर के दौरान कोरोना वायरस से संक्रमित नहीं हुए। यह बात एक अध्ययन में कही गई, जिसमें लगभग 6000 लोगों को शामिल किया गया।
 
कोरोनावायरस पर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की राष्ट्रीय टास्क फोर्स के सह-अध्यक्ष डॉक्टर राजीव जयदेवन के नेतृत्व में किए गए अध्ययन में कहा गया है कि टीकाकरण कराने वाले लेकिन बूस्टर खुराक नहीं लेने वाले 45 प्रतिशत लोग तीसरी लहर के दौरान कोरोना वायरस से संक्रमित हुए।
 
सर्वेक्षण में टीकाकरण करा चुके 5,971 लोगों को शामिल किया गया, जिनमें से 24 प्रतिशत लोग 40 साल से कम आयु वर्ग के थे और 50 प्रतिशत लोग 40-59 आयु वर्ग के थे। अध्ययन में शामिल लोगों में 45 फीसदी महिलाएं थीं, जबकि 53 फीसदी स्वास्थ्यकर्मी थे।
 
अध्ययन में शामिल 5,971 लोगों में से 2,383 ने बूस्टर खुराक ली थी और उनमें से 30 प्रतिशत को तीसरी लहर के दौरान कोविड हुआ। अनुसंधानकर्ताओं ने यह भी निष्कर्ष निकाला कि दूसरी खुराक के बाद एक लंबा अंतराल तीसरी लहर के दौरान संक्रमण की उच्च संभावना से जुड़ा था।
Koo App
आदरणीय प्रधानमंत्री जी के मार्गदर्शन, आपके ऊर्जावान नेतृत्व व हमारे वैज्ञानिकों के परिश्रम से भारत कोविड से लड़ाई में हर दिन मजबूत हो रहा है। विभिन्न आयु वर्ग के बच्चों हेतु कोविड वैक्सीन को DCGI द्वारा उपयोग हेतु अनुमति, उसकी एक कड़ी है। कोरोना हारेगा, देश जीतेगा! https://www.kooapp.com/koo/mansukhmandviya/b044aa5c-96f1-4117-83e4-bb293360a22a - Yogi Adityanath (@myogiadityanath) 26 Apr 2022
अध्ययन में कहा गया कि इसके अलावा छह महीने के अंतराल से पहले तीसरी खुराक देने से संक्रमण दर में कोई फर्क नहीं पड़ा। इसमें यह भी कहा गया है कि तीसरी लहर ने 40 वर्ष से कम उम्र के लोगों को सबसे ज्यादा प्रभावित किया और उनमें से लगभग 45 प्रतिशत इस बीमारी की चपेट में आए।
 
अध्ययन के अनुसार, तीसरी लहर के दौरान 40-59 आयु वर्ग में लगभग 39.6 प्रतिशत और 60-79 आयु वर्ग में लगभग 31.8 प्रतिशत लोग कोविड से पीड़ित हुए, जबकि 80 साल से ऊपर के 21.2 फीसदी लोग ही संक्रमित हुए। अनुसंधानकर्ताओं ने कहा कि को-वैक्सीन और कोविशील्ड लगवाने वालों में तीसरी लहर के दौरान संक्रमण की दर समान थी।