करी पत्ता के नाम से Amazon पर बेचा जा रहा था गांजा, MP पुलिस ने किया रैकेट का भंडाफोड़

Last Updated: सोमवार, 15 नवंबर 2021 (12:31 IST)
भोपाल। ने ई-कॉमर्स पोर्टल (Amazon) को लेकर एक चौंकाने वाला खुलासा किया है। पुलिस के मुताबिक ई-कॉमर्स पोर्टल के माध्यम से 1 करोड़ रुपए से अधिक का (मारिजुआना) गांजा बेचा गया। इसके बदले में उसे 66 प्रतिशत कमीशन मिला।

रैकेट का भंडाफोड़ : मध्यप्रदेश पुलिस ने एक बड़े रैकेट का खुलासा करते हुए 20 किलो गांजे के साथ 2 लोगों को हिरासत में लिया था। गांजे की तस्करी करी पत्ते के नाम पर की जा रही थी। पुलिस के मुताबिक गांजे की इस खेप को विशाखापट्टनम से ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफॉर्म एमेजॉन के जरिए मध्‍यप्रदेश मंगाया गया था।
इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के मुताबिक पकड़े गए लोगों से पूछताछ से पता चलता है कि पिछले 4 महीनों से प्रमुख ऑनलाइन शॉपिंग प्‍लेटफॉर्म के माध्यम के जरिए प्रतिबंधित मादक पदार्थ को मंगाया गया है।

जांच में पता चला है कि पिछले चार महीनों में उनके द्वारा एक ही प्लेटफॉर्म का उपयोग करके लगभग एक टन गांजा (मारिजुआना) पहले ही प्राप्त किया जा चुका है। आरोपियों ने पिछले 4 महीने के दौरान 1 करोड़ 10 लाख रुपए के गांजे की तस्करी को अंजाम दिया गया।
कैट ने की कार्रवाई की मांग : कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने केंद्र सरकार से तत्काल इस संगीन मुद्दे पर तुरंत कार्रवाई की मांग की। कैट ने कहा कि एनसीबी को एमेजॉन के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए। कैट ने इसे आर्यन खान पर लगे आरोपों से भी गंभीर बताया था।
कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रवीन खंडेलवाल ने कहा कि किसी भी विक्रेता को पोर्टल पर रजिस्टर करने से पहले Amazon को विक्रेता की वास्तविकता के बारे में जानने के लिए केवाईसी करना आवश्यक है। इसके अलावा Amazon को गांजा जैसी अवैध वस्तुओं की बिक्री की अनुमति नहीं देनी चाहिए थी।



और भी पढ़ें :