0

सरकार ने माना, भारत में कोविड 19 का सामुदायिक प्रसार

मंगलवार,अक्टूबर 20, 2020
0
1
बिहार विधानसभा चुनाव की प्रक्रिया जैसे-जैसे आगे बढ़ रही है वैसे-वैसे सभी राजनीतिक दलों को बगावत से जूझना पड़ रहा है। कभी उनके अपने रहे ये बागी चुनौती का सबब बनते जा रहे हैं।
1
2
बिहार विधानसभा चुनाव की प्रक्रिया जैसे-जैसे आगे बढ़ रही है, वैसे-वैसे सभी राजनीतिक दलों को बगावत से जूझना पड़ रहा है। कभी उनके अपने रहे ये बागी चुनौती का सबब बनते जा रहे हैं। बिहार में 3 चरणों में विधानसभा के चुनाव हो रहे हैं। सभी पार्टियों में टिकट ...
2
3
दिल्ली में प्रदूषण का स्तर बढ़ने के साथ ही पराली जलाने का मुद्दा भी सामने आ जाता है। हवा की गुणवत्ता को खराब होने के लिए पराली जलाने को जिम्मेदार ठहराया जाता है। किसान अपनी लागत कम करने के लिए पराली जला देते हैं।
3
4
बिहार में बाहुबल की तरह ही परिवारवाद भी राजनीति का पर्याय बन चुका है। नेताओं व कार्यकर्ताओं के समर्पण पर रिश्तेदारी-नातेदारी भारी पड़ती जा रही है। भाजपा को छोड़ यहां अन्य पार्टियां इस दौड़ में काफी आगे दिख रहीं हैं।
4
4
5
अमेरिका में 3 नवंबर को राष्ट्रपति चुनाव हो रहे हैं। चुनाव में अब बस कुछ ही दिन बचे हैं और ताजा सर्वे के अनुसार अमेरिका में रह रहे भारतीय मूल के लोगों को डोनाल्ड ट्रंप की तुलना में जो बिडेन ज्यादा पसंद आ रहे हैं।
5
6
फिनलैंड की प्रधानमंत्री सना मारीन ने फैशन पत्रिका के लिए तस्वीरें क्या खिंचवाई, उनके पेशेवर बर्ताव पर सोशल मीडिया में बहस छिड़ गई। उनकी शुरू में तो आलोचना हुई फिर समर्थक भी खड़े हो गए। कैसी तस्वीर खिंचवाई प्रधानमंत्री ने?
6
7
पिछले कुछ महीनों में ज्वेलरी की दुकानों में लूट की कई घटनाएं सामने आई हैं। दुकान वालों का आरोप है कि मास्क लगाने के चक्कर में चोरों को ज्यादा मौका मिल रहा है।
7
8
जर्मनी की प्रमुख विमान कंपनी लुफ्थांसा ने विश्व भर में फैले अपने एयरपोर्ट लाउंजों में 5 को स्थायी रूप से बंद करने का फैसला किया है। इनमें से चार जर्मनी के अंदर है और एक भारत की राजधानी दिल्ली में।
8
8
9
दिल्ली सरकार ने वृक्ष-प्रत्यारोपण यानी ट्री प्लांटेशन नीति को मंजूरी दी है। इससे पहले मुंबई जैसे शहरों में यह प्रयोग नाकाम हो चुका है, तो क्या हरियाली बचाने की यह नीति सिर्फ सरकार का इमेज मेकओवर है? दिल्ली सरकार ने राजधानी में पेड़ बचाने के उद्देश्य ...
9
10
भारत में महिलाओं के खिलाफ हिंसा रुकने का नाम नहीं ले रही है। एक ओर सरकार महिला सशक्तिकरण के कदम उठा रही है तो दूसरी ओर घर से बाहर निकलने वाली महिलाओं को सुरक्षा देने में नाकाम है। सोच और हकीकत में इतना अंतर क्यों?
10
11
पूर्वी एशिया के साथ भारत के संबंधों में म्यांमार की भूमिका पुल की है। इलाके में चीन के इरादों को देखते हुए भारत के लिए म्यांमार जैसे पड़ोसियों के साथ रिश्तों को मजबूत करना जरूरी है। म्यांमार न सिर्फ भारत का एक महत्वपूर्ण पड़ोसी देश है बल्कि सुरक्षा ...
11
12

औरत के शरीर पर अधिकार किसका?

शनिवार,अक्टूबर 10, 2020
मुंबई पुलिस ने एक स्टिंग ऑपरेशन में देह व्यापार के एक रैकेट का पर्दाफाश किया। लेकिन उसके बाद जो हुआ उससे यह सवाल खड़ा होता है कि भारत का कानून और समाज देह व्यापार के बारे में क्या सोचता है?
12
13
ताइवान को लेकर भारतीय मीडिया में कवरेज से चीन बौखला गया है। दिल्ली में चीनी दूतावास ने पत्रकारों को सलाह दी थी कि वे 'एक चीन' नीति के सिद्धांत का पालन करें। इस सलाह के बाद भारत ने कहा है कि यहां मीडिया स्वतंत्र है।
13
14
कोरोना महामारी ने भारत की डायमंड राजधानी सूरत में हीरा उद्योग को खोखला कर दिया है। कारखाने खुले हैं, लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग ने उत्पादन क्षमता घटा दी है। श्रमिकों का कहना है कि उनका वेतन घटाकर आधा कर दिया गया है।
14
15
आंकड़े बताते हैं कि भारत में पिछले वित्त वर्ष में 1.10 लाख करोड़ रुपए से अधिक की सब्सिडी बिजली उपभोक्ताओं को दी गई लेकिन सवाल है कि इसका फायदा किसे मिल रहा है? बिजली सब्सिडी भारत में राजनीतिक रूप से हमेशा एक संवेदनशील मुद्दा रहा है। इसीलिए अकसर ...
15
16
कोरोना महामारी के कारण दुनियाभर में मंदी का दौर चल रहा है लेकिन स्वास्थ्य सेवाओं में निवेश करने के चलते रईसों को लगातार मुनाफा हो रहा है।
16
17
गूगल ने कहा है कि वो न्यूज कंपनियों को अगले 3 सालों में 1 अरब डॉलर देगा। इसे कंपनी के न्यूज व्यापार पर वर्चस्व को लेकर बने हुए तनाव को कम करने की कोशिश के रूप में देखा जा रहा है।
17
18
दिल्ली के निर्भया कांड के बाद कानूनों में सुधार के बावजूद रेप की बढ़ती घटनाओं ने सरकार और पुलिस को कठघरे में खड़ा कर दिया है। उत्तरप्रदेश और राजस्थान में रेप और हत्या की घटनाओं ने इस मुद्दे को सुर्खियों में ला दिया है।
18
19
बिहार चुनाव की चर्चा हो और बाहुबलियों का जिक्र न हो, ऐसा हो नहीं सकता। उनकी अहमियत का पता इससे लगता है कि वे हर राजनीतिक दल को प्रिय हैं। इन्हीं पार्टियों के सहारे वे सत्ता का सुख भोगते हैं और इलाके में सरकार चलाते हैं।
19