बुधवार, 27 सितम्बर 2023
  1. समाचार
  2. व्यापार
  3. समाचार
  4. Sticky bombs were sent from Pakistan to Jammu and Kashmir
Written By सुरेश एस डुग्गर
Last Updated : सोमवार, 3 अक्टूबर 2022 (14:19 IST)

स्टिकी बम धमाकों के तार पाकिस्तान से जुड़े, जानिए सीमापार से कैसे जम्मू कश्मीर पहुंचे ये बम?

जम्मू। पुलिस के अनुसार, उधमपुर में 8 घंटे के भीतर दो बसों में हुए शक्तिशाली बम धमाकों की गुत्थी को सुलझा लिया गया है। इन बम धमाकों के एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने 5 स्टिकी बम भी बरामद किए हैं। पकड़े गए आरोपी का नाम असलम शेख है। वह पूर्व में आतंकवादी रहा है।
 
माना जा रहा है कि इसी ने बसों में स्टिकी बम लगाए थे। यह भी दावा किया जा रहा है कि धमाकों में इस्तेमाल विस्फोटक कठुआ जिले के हीरानगर से लाया गया था। विस्फोटक ड्रोन के जरिए पाकिस्तान में बैठे आतंकियों के आका ने भेजा था।
 
पुलिस ने साफ तौर पर कहा है कि आतंकी साजिश रचने वाला मुख्य साजिशकर्ता पाकिस्तान में बैठा हुआ है। इसके साथ ही जिसे गिरफ्तार किया गया है, उसमें अपने गुनाह कुबूल कर लिए हैं। जम्मू के एडीजीपी मुकेश सिंह ने बताया कि 28 सितंबर को उधमपुर में दो अलग-अलग जगह बस में ब्लास्ट हुए थे। दोषी को पकड़ लिया गया है।
 
मोहम्मद अमीन भट्ट जो पाकिस्तान में रहता है उसने बसंतगढ़ उधमपुर के असलम शेख नामक आतंकवादी से सोशल मीडिया पर संपर्क किया। असलम शेख ने ये बम लगाए। 5 स्टिकी बम भी बरामद किए गए हैं।
 
सूत्रों के अनुसार, बसंतगढ़ से दबोचा गया मुख्य आरोपित कई आतंकी घटना में संलिप्त रहा है। वह लगभग 10 वर्षों तक जेल भी रहा है। वह हिमाचल प्रदेश के शिमला से आगे रामपुर में मजदूरी का काम करता है। उसके साथ पकड़ा गया एक अन्य आरोपी भी शिमला के रामपुर में काम करता था।
 
बताया जाता है कि इस आरोपित का एक भाई सीमा पार पाकिस्तान चला गया था, जहां शादी करके वह वहीं पर बस गया था। उनकी अपने भाई से पाकिस्तान में अक्सर बात होती रही है। इन आरोपियों के बैंक खाते भी खंगाले जा रहे हैं।
 
उधमपुर में गत बुधवार रात 10:35 बजे दोमेल में एक बस में धमाका हुआ था। इसमें बस का कंडक्टर व साथ खड़ी मिनी बस में बैठा व्यक्ति घायल हो गया था। वहीं, अगले दिन सुबह 5:40 बजे दो किलोमीटर दूर उधमपुर बस स्टैंड में भी एक बस में विस्फोट हुआ, हालांकि इसमें कोई घायल नहीं हुआ था।
Edited by: Vrijendra Singh Jhala
ये भी पढ़ें
कहीं आप नकली दवाई तो नहीं खा रहे? अब QR कोड से हो सकेगा खुलासा