वसंत ऋतु पर कविता : बसंती रंग का जादू

Poem on Vasant Panchami
पीली पत्ते
पेड़ों ने उतारे
और नए हरे
शाखाओं पर सगवारे!

बसंती रंग का जादू
सब पर छाया।
वसंत ऋतु ने
सबकों भरमाया।

हल्की-हल्की
गुनगुनी धूप,
तन-मन को
भाए खूब।

सर्दियों के
उठने लगे डेरे
मौसम के भी
पूरे हुए फेरे

पीली सरसों
खेतों में इठलाई,
पलास की जाग
उठी तरुणाई।
देख-देख जिसे
धरा खुशी से



और भी पढ़ें :