1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. एक्सप्लेनर
  4. Controversies in Rahul Gandhi Bharat Jodo Yatra coincidence or experiment
Written By Author विकास सिंह
Last Updated: गुरुवार, 1 दिसंबर 2022 (17:38 IST)

राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा में कंट्रोवर्सी संयोग या प्रयोग !

भारत जोड़ो यात्रा में राहुल के बयान और उनके सहयात्री को लेकर हो रहे विवाद पर वेबदुनिया की पड़ताल

राहुल गांधी के नेतृत्व में कन्याकुमारी से लेकर कश्मीर तक निकाली जा रही भारत जोड़ो यात्रा लगातार सुर्खियों में बनी हुई है। 150 दिन चलने वाली भारत जोड़ो यात्रा अब अपना आधा से अधिक सफर तय कर चुकी है। भारत को एक सूत्र में जोड़ने के सूत्रवाक्य के साथ निकाली जा रही भारत जोड़ो यात्रा इन दिनों मध्यप्रदेश मे है और भाजपा के गढ़ वाले मध्यप्रदेश में भारत जोड़ो यात्रा लगातार नई कंट्रोवर्सी में फंसती हुई दिखाई दे रही है।

मध्यप्रदेश में भारत जोड़ो यात्रा की एंट्री से पहले राहुल गांधी वीर सावरकर के अग्रेजों से माफी मांगने के मुद्दें को उठाकर माहौल का गर्मा दिया था। वहीं मध्यप्रदेश में एंट्री के साथ खरगौन में कथित पर भारत जोड़ो यात्रा में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगने को लेकर भाजपा ने पूरे दम से राहुल गांधी को घेरा। वहीं इंदौर में एक जनसभा में राहुल गांधी के चीन की सेना को लेकर दिए विवादित बयान पर राहुल को घेरने की कोशिश की।

वहीं दूसरी ओर भारत जोड़ो यात्रा में लगातार ऐसे चेहरे शामिल हो रहे है जो अपने विवादित बयानों के लिए चर्चा के केंद्र में रहते है और वह एक लंबे समय से देश की मौजूदा सरकार के खिलाफ खुलकर मोर्चा लेते हुए दिखाई देते है। इनमें बॉलीवुड के साथ समाज के अन्य-अन्य वर्ग से आने वाले चेहरे शामिल है।

गुरुवार को उज्जैन में भारत जोड़ो यात्रा के 85वें दिन राहुल गांधी के साथ फिल्म अभिनेत्री स्वरा भास्कर शामिल हुई। एक्ट्रेस स्वरा भास्कर की छवि मोदी सरकार के विरोधी के तौर पर है और वह लगातार अपने विवादित बयानों के चलते वह चर्चा में रहती है। 

स्वरा भास्कर से पहले मोदी सरकार के खिलाफ खुलकर मोर्चा खोलने वाली अभिनेत्री पूजा भट्ट भी तेलंगाना में भारत जोड़ो यात्रा में शामिल हुई थी। इसके अलावा अभिनेत्री रश्मि देसाई, रिया सेन,अभिनेता अमोल पालेकर और सुशांत सिंह जैसे बालीवुड सेलेब्स
 भी भारत जोड़ो यात्रा में राहुल गांधी के साथ नजर आ चुके है।

वहीं अगर भारत जोड़ो यात्रा में शामिल अन्य चेहरों की बात करें तो देश में किसान आंदोलन की अगुवाई करने वाले योगेंद्र यादव, नर्मदा बचाओ आंदोलन की मेधा पाटकर के साथ रोहित वेमुला की माँ राधिका वेमुला और पत्रकार गौरी लंकेश की माँ इंदिरा लंकेश और बहन कविता लंकेश भी अपनी उपस्थिति दर्ज करवा चुके है।

वहीं तमिलनाडु में भारत जोड़ो यात्रा में राहुल गांधी की हिंदू धर्म को टारगेट करने वाले विवादित पादरी जॉर्ज पोनइया से मुलाकात पर भी खूब हंगामा मचा था। राहुल गांधी ने पादरी से पूछा था कि यीशु मसीह भगवान का एक रूप है? क्या यह सही है? उनके इस सवाल पर पादरी जॉर्ज पोन्निया ने कहा नहीं, वही असली भगवान हैं।

भारत जोड़ो यात्रा में विवादित चेहरों के शामिल होने पर भाजपा के लगातार बैठे बिठाए राहुल गांधी को घेरना का मुद्दा मिल रहा है। भारत जोड़ो यात्रा में नर्मदा बचाओ आंदोलन की नेता मेधा पाटकर के शामिल होने पर खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात की एक चुनावी सभा में तंज कसा था। चुनावी सभा को संबोधित करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि जो लोग गुजरात के लोगों को प्यासा रखना चाहते थे, वो भारत जोड़ो यात्रा में शामिल हैं।
वहीं भारत जोड़ो यात्रा में अपने विवादित बयानों के लिए चर्चा में रहने वाले लोगों के शामिल होने पर मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि राहुल गांधी जी की 'भारत जोड़ो यात्रा' में टुकड़े टुकड़े गैंग की समर्थक स्वरा भास्कर और कन्हैया कुमार जैसे राष्ट्र विरोधी मानसिकता वाले लोगों का शामिल होना इस बात का प्रमाण है कि यह भारत को तोड़ने वालों के समर्थन में निकाली जा रही यात्रा है।नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि यह वहीं स्वरा भास्कर हैं जिन्होंने चड्डा के भारतीय सेना के खिलाफ दिए बयान को स्वरा भास्कर शक्ति दे रही थी। कन्हैया कुमार, सुशांत सिंह, स्वरा भास्कर जैसे टुकड़े-टुकड़े गैंग की मानसकिता वाले राष्ट्र के विरोधी लोगों को समर्थन करने वाले लोग भारत जोड़ो यात्रा मे है। क्या भारत जोड़ो यात्रा, भारत को तोड़ने वाले लोगों के समर्थन में निकाली जा रही यात्रा नहीं है।

कांग्रेस की राजनीति को करीब से देखने वाले वरिष्ठ पत्रकार डॉ. राकेश पाठक कहते हैं कि राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा में पहले दिन से जो विवाद पैदा करने की कोशिश की गई है वह अब तक बूमरैंग साबित हुई है। अगर भारत जोड़ो यात्रा में राहुल गांधी के सहयात्रियों के अतीत और उनकी वैचारिक निष्ठा को लेकर सवाल उठाए जा रहे है तो देखना होगा कि सवाल किस पर उठाया जा रहा है। अगर यात्रा में स्वरा भास्कर के शामिल होने को लेकर विवाद खड़ा हो रहा है तो सवाल यहीं है कि क्या स्वरा भास्कर देशद्रोही है औऱ क्या स्वरा भास्कर पर कोई ऐसा केस चल रहा है कि उनको देशद्रोही ठहराया जा सके।

डॉ. पाठक आगे कहते हैं कि भारत जोड़ो यात्रा में स्वरा भास्कर, पूजा भट्ट या मेधा पाटकर के शामिल होने के आप चाहे संयोग या प्रयोग कहे लेकिन मेरा मानना है कि राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा को लेकर रणनीति एकदम स्पष्ट है। राहुल गांधी लगातार अपनी यात्रा पर आगे बढ़ते जा रहे है और उन पर विवादों का कोई असर नहीं पड़ रहा है। असल में राहुल गांधी एकदम स्पष्ट समाजिक अवधारणा के लेकर उतरे है वह भाजपा से ज्यादा राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के साथ एक वैचारिक लड़ाई है। राहुल गांधी को इस बात की चिंता नहीं है कि उनके साथ कोई चलेगा तो लोग क्या कहेंगे। असल बात यह है राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा शुरु होने से विवाद खड़े करने की कोशिश हो रही है लेकिन वह राहुल के साथ चिपक नहीं रहे है। मेरा मनाना है कि अगर भाजपा और आरएसएस को राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा से मुकाबला करना है तो उन्हें मुद्दों पर बात करना चाहिए न कि प्रतीको के साथ राहुल गांधी को घेरना चाहिए क्यों अब इनकी धार कुंद हो चुकी है।

भाजपा भारत जोड़ो यात्रा में शामिल विवादित चेहरों को देश विरोधी और टुकड़े-टुकड़े गैंग की मानसकिता वाली बताकर इससे भारत तोड़ने वालों को समर्थन में निकाली जा रही यात्रा बात रही है। भारत जोड़ो यात्रा को लेकर कांग्रेस का दावा है कि इसे समाज के हर वर्ग का समर्थन हासिल है। कांग्रेस अपने इस दावे के समर्थन में लगातार ऐसे चहेरों को राहुल गांधी के साथ यात्रा करते हुए अपने सोशल मीडिया हैंडल पर धड़ल्ले से पोस्ट कर रही है और भारत जोड़ो यात्रा लगातार चर्चा के केंद्र में बनी हुई है।
ये भी पढ़ें
Agniveer: रक्षा मंत्रालय ने रक्षा उद्योग के प्रतिनिधियों के साथ सत्र का किया आयोजन