महिलाओं को लेकर विवादित बयान देने पर ट्रोल हुए मुकेश खन्ना, तो सफाई में कही यह बात

पुनः संशोधित सोमवार, 2 नवंबर 2020 (16:01 IST)
अभिनेता मुकेश खन्ना इन दिनों अपने एक बयान की वजह से विवादों में बने हुए हैं। एक इंटरव्यू के उन्होंने कहा था कि 'औरत का काम है घर संभालना। मीटू की परेशानी तभी से शुरू हुई है जब औरतों ने भी काम करना शुरू कर दिया।' अपने इस बयान के बाद मुकेश खन्ना खूब ट्रोल हो रहे हैं।

अब मुकेश खन्ना ने मामले को तूल पकड़ता देख इस पर अपनी सफाई दी है। उनका कहना है कि उनकी बात को सही तरीके से पेश नहीं किया गया। अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर एक वीडियो के माध्यम से मुकेश खन्ना ने कहा कि यह उनको बदनाम करने की साजिश है।

ALSO READ:

‍डिजिटल डेब्यू करने जा रहीं सोनाक्ष‍ी सिन्हा, राजस्थान में जल्द शुरू होगी शूटिंग!


मुकेश खन्ना ने कहा, मुझे सचमुच हैरानी हो रही है कि मेरे एक स्टेटमेंट को बहुत ही गलत तरीके से लिया जा रहा है। मुझे औरतों के खिलाफ बताया जा रहा है। जितनी इज्जत मैं नारियों की करता हूं शायद ही कोई करता होगा। इसीलिए मैंने लक्ष्मी बॉम्ब नाम का विरोध किया। मैं नारियों की सुरक्षा को लेकर चिंतित हूं। हर रेप कांड के खिलाफ मैं बोला हूं। मेरे एक इंटरव्यू की क्लिपिंग को लेकर लोगों ने शोर मचा दिया है।
उन्होंने कहा, मैंने कभी नहीं कहा कि औरतों को काम नहीं करना चाहिए। मैं सिर्फ ये बताना चाह रहा था कि मीटू की शुरुआत कैसे होती है। हमारे देश में औरतों ने हर फील्ड में जगह बनाई है। फिर चाहे वो डिफेन्स मिनिस्टर हो, फाइनेंन्स मिनिस्टर हो, विदेश मंत्री हो या स्पेस में हो, हर जगह नारी ने अपना परचम लहराया है। तो मैं नारी के काम करने के खिलाफ कैसे हो सकता हूं।
उस वीडियो इंटरव्यू में मैं सिर्फ नारी के बाहर जाकर काम करने से क्या दिक्कतें आ सकती हैं, उस पर रोशनी डाल रहा था। जैसे घर के बच्चे अकेले पड़ जाते हैं। मैं पुरुष और नारी धर्म की बात कर रहा था जो हजारों सालों से चला आ रहा है। मैंने यह नहीं कहा कि नारी बाहर जाती है तो मीटू होता है।

उन्होंने कहा, मैंने एक साल पहले इसी टॉपिक पर एक वीडियो बनाया था, जो मैं आप लोगों को दिखाना चाहता हूं कि तब भी मैंने यही कहा था कि नारियों को अपने काम करने की जगह पर अपनी सुरक्षा कैसे करनी चाहिए। मैंने तब भी नहीं कहा कि नारियां काम पर ना जाएं, तो आज कैसे कह सकता हूं।

मुकेश खन्ना ने कहा, मैं अपने सभी दोस्तों से यही कहना चाहता हूं कि मेरे स्टेटमेंट को गलत तरीके से मत पेश करें। मेरा पिछला चालीस साल, मेरा फिल्मी सफर इस बात की पुष्टि करता है कि मैंने हमेशा नारियों की इज्जत की है। अगर कोई भी नारी मेरे इस स्टेटमेंट से आहत हुई हो तो मुझे अफसोस है कि मैं अपनी बात सही ढंग से नहीं रख पाया।



और भी पढ़ें :