0

14 अप्रैल 2020 : सूर्य के परिवर्तन का होगा हम सब पर असर, 5 राशियों का चमकेगा करियर

शुक्रवार,मार्च 27, 2020
sun transit in aries
0
1
बृहस्पति ग्रह अभी धनु राशि में है। ये ग्रह 29 मार्च को राशि बदलकर धनु से मकर में प्रवेश कर रहा है। आइए जानें 12 राशियों पर असर...
1
2
आगामी 29-30 मार्च को देवगुरु बृहस्पति राशि परिवर्तन करने जा रहे हैं। बृहस्पति के इस गोचर से सभी राशियों पर प्रभाव होगा। आइए जानते हैं, गुरु के गोचर का आपकी राशि पर कैसा असर होगा...
2
3
गौरी तृतीया, गणगौर उत्सव, सौभाग्य सुंदरी पर्व चैत्र शुक्ल तृतीया, 27 मार्च 2020 के दिन मनाया जा रहा है।
3
4
चैत्र कृष्ण पक्ष की एकादशी को प्रातः स्नान करके गीले वस्त्रों में ही रहकर घर के ही किसी पवित्र स्थान पर लकड़ी की बनी टोकरी में जवारे बोना चाहिए।
4
4
5
स दिन भगवान शिव ने पार्वतीजी को तथा पार्वतीजी ने समस्त स्त्री-समाज को सौभाग्य का वरदान दिया था। इस दिन सुहागिनें दोपहर तक व्रत रखती हैं। महिलाओं नाच-गाकर, पूजा-पाठ कर हर्षोल्लास से यह त्योहार मनाती हैं।
5
6
इस वर्ष गौरी तृतीया या गणगौर उत्सव चैत्र शुक्ल तृतीया, 27 मार्च 2020 के दिन मनाया जाएगा। ‘गण’ का अर्थ है शिव और ‘गौर’ का अर्थ पार्वती है। इस दिन इस दिव्य युगल की महिलाओं द्वारा पूजा की जाती है।
6
7
28 मार्च 2020 से गोचरवश शुक्र राशि परिवर्तन कर अपनी स्वराशि वृषभ में प्रवेश करेंगे। शुक्र को नैसर्गिक भोगविलास व दाम्पत्य का कारक माना जाता है।
7
8
इस माह की 29-30 तारीख से तीन बड़े ग्रहों का मकर राशि में संयोग होगा। सब से बड़े ग्रह गुरु यानी बृहस्पति मकर राशि में प्रवेश करेंगे। आइए जानते हैं मकर राशि के गुरु का 12 राशियों पर क्या होगा प्रभाव...
8
8
9
देव गुरु बृहस्पति रविवार, 29-30 मार्च को मकर राशि में प्रवेश कर रहे हैं। मकर में स्वराशि के शनिदेव और उच्च के मंगल पहले से ही स्थित है।
9
10
गुड़ी पड़वा का पर्व इस बार 25 मार्च, बुधवार को मनाया जा रहा है। यह एक ऐसा पर्व है, जिसकी शुरुआत के साथ सनातन धर्म की कई सारी कहानियां जुड़ी हैं। इस बार नव संवत्सर 2077 का स्वामी बुध है। इस संवत्सर का नाम प्रमादी है।
10
11
कोरोना से बचाव के लिए 21(इक्कीस) दिनों का ‘लॉक डॉउन’ - 21 दिन' इस 21 की संख्या से कई सारे 21 ध्यान आने लगे। हिन्दी गिनती में 20 के बाद 1 जोड़ कर आने वाले योग की इस संख्या 20+1, जिसको संस्कृत में ‘एकविंशति’, अंग्रेजी में ‘ट्वेंटी वन’ व रोमन में XXI ...
11
12
प्रतिवर्ष आने वाला यह गुड़ीपड़वा पर्व फिर आया। बधाइयां लाया, पर हम तो वहीं हैं जहां कल खड़े थे। समय बदल गया,कैलेंडर बदल गया, हम नहीं बदले। बधाई दे देना, नव वर्ष शुभ हो कहने भर से खुशियां कभी नहीं बरसतीं। नया बनना होगा, नया भाव जगाना होगा।
12
13
चैत्र नवरात्रि के नौ दिन माता भगवती को अपराजिता का फूल अर्पित कर बाधाओं को दूर करने की प्रार्थना करें। आइए जानें इन 9 दिनों में क्या करें, क्या न करें...
13
14
नवरात्रि पूजन तथा कलश स्थापना चैत्र शुक्ल प्रतिपदा के दिन सूर्योदय के पश्चात 10 घड़ी तक अथवा अभिजीत मुहूर्त में करना चाहिए। कलश स्थापना के साथ ही नवरात्र आरंभ हो जाता है।
14
15
29 मार्च से बृहस्पति ग्रह का मकर नीच राशि में गोचर रहेगा परंतु सूर्य अपनी उच्च राशि में 14 अप्रैल से आने पर ही इस संक्रमण का असर कम दिखाई देने लगेगा।
15
16
मां दुर्गा की आराधना में सभी राशियों के लिए कमल, गुडहल, गुलाब, एवं कनेर प्रजातियों के सभी पुष्प शुभ माने गए हैं। इन पुष्पों के द्वारा का पूजन करने से देवी मां को प्रसन्न किया जा सकता है। आइ ए जानते हैं राशि अनुसार कौन सा फूल शुभ है आपके लिए...
16
17
इस बार चैत्र नवरात्रि 25 मार्च 2020 से शुरू हो रहे हैं और 2 अप्रैल 2020 को समाप्त होंगे। इस बार नवरात्र में बेहद खास संयोग बन रहे हैं। बुधवार होने के कारण मां इस बार नौका पर विराजमान होकर आएंगी और हाथी पर सवार होकर जाएंगी।
17
18
24 तारीख को भौमवती अमावस्या मनाई जा रही हैं। अमावस्या तिथि सोमवार, 23 मार्च को दोपहर 12 बजकर 31 मिनट से शुरू हो गई, मंगलवार के दिन दोपहर 2 बजकर 58 मिनट पर इसका समापन होगा।
18
19
25 मार्च 2020 नवरात्रि के साथ हिन्दू नववर्ष गुड़ी पड़वा प्रारंभ हो रहा है। इस दिन सूर्य को अर्घ्य देना चाहिए। इस दिन नीम की पत्तियां, पूरनपोळी, ध्वजा आदि का विशेष महत्व होता है। चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को ही सृष्टि का आरंभ हुआ था और इसी दिन भारतवर्ष में ...
19