हिन्दी के बारे में विद्वानों के विचार

WD|
टॉमस रोबक ने 1807 ई.में लिखा-

'जैसे इंग्लैण्ड जाने वाले को लैटिन सेक्सन या फ़्रेंच के बदले अंग्रेजी सीखनी चाहिए,वैसे ही भारत आने वाले को अरबी-फारसी या संस्कृत के बदले हिन्दुस्तानी सीखनी चाहिए।'



और भी पढ़ें :