रामगोपाल, अखिलेश बन सकते हैं मंत्री : अमर सिंह

नई दिल्ली| भाषा|
हमें फॉलो करें
समाजवादी पार्टी से निष्कासित राज्यसभा सांसद ने और केंद्रीय वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी के बीच मुलाकात पर चुटकी लेते हुये कहा है कि रेल मंत्री ममता बनर्जी की मंत्रिमंडल से विदाई की सूरत में एवं अखिलेश यादव केंद्र में मंत्री बन सकते हैं।


अमर सिंह ने अपने ब्लॉग में लिखा ‘मुलायम सिंह जी कल प्रणव मुखर्जी से मिले थे। अफवाह है कि रामगोपाल और अखिलेश, भाई तथा बेटा दोनों ही ममता बनर्जी की विदाई की हालत में संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन मंत्रिमंडल के नए चेहरे होंगे।’

उन्होंने कहा कि बेचारी बहनजी (मायावती) ने प्रतिभा पाटिल को राष्ट्रपति बनाने के लिये मतदान किया। कटौती प्रस्ताव पर भी उन्होंने वोट दिया लेकिन उन्हें क्या मिला ? अमर ने प्रश्न किया कि अगर भाई और बेटा मंत्री बने तो 2012 के कांग्रेसी सपने का क्या होगा ?

समाजवादी पार्टी के पूर्व महासचिव ने दावा किया ‘सत्ता के संतुलन में माया और मुलायम दोनों एक दूसरे को केंद्रीय सत्ता के लड्डू से दूर रखने के लिए कांग्रेस का समर्थन करने को विवश हैं। लालू जी को चारा और नेता जी को आय से अधिक संपत्ति का घोटाला भूत बनकर सता रहा है।’


अमर सिंह ने मुलायम सिंह से प्रश्न किया ‘आदरणीय नेता जी आपके गैर कांग्रेसवाद की अब हवा क्यों निकल गई ?’ उन्होंने कहा ‘आज राज्यसभा के बजट सत्र में मेरा पहला दिन था और वहाँ पर समाजवादी दल के नए दूल्हे रामगोपाल का पूरा जलवा दिख रहा था। हर विदा ले रहा समाजवादी सांसद रामगोपाल चालीसा पढ़ रहा था।’
अमर सिंह ने सपा पर कथनी करनी में अंतर का आरोप लगाते हुये कहा कि सपा ने कभी अनिल अम्बानी और संजय डालमिया को राज्यसभा तथा अतीक एवं अफजल को लोकसभा भेजा था।

उन्होंने कहा कि आज उसी के अवकाश ले रहे सांसद नंद किशोर यादव प्रधानमंत्री से पूँजीपति और अपराधी संसद में न आएँ इसके लिये कानून बनाने की माँग कर रहे हैं। कथनी करनी का क्या भयंकर भेद, किसको मूर्ख बना रहे हैं ? (भाषा)



और भी पढ़ें :