त्रिपोली में प्रदर्शनकारियों पर हमला, कई मरे

काहिरा| भाषा| पुनः संशोधित शुक्रवार, 25 फ़रवरी 2011 (23:24 IST)
हमें फॉलो करें
PTI
लीबियाई नेता मुअम्मर गद्दाफी के खिलाफ चल रहे व्यापक विरोध प्रदर्शनों के बीच शुक्रवार को विरोध प्रदर्शनों में कई लोगों के मारे जाने की खबर है। कज्जाफी के समर्थक सुरक्षा बलों ने देश की राजधानी त्रिपोली में प्रदर्शनकारियों पर अत्याधुनिक हथियारों से हमले किए हैं।


अल जजीरा के अनुसार त्रिपोली में प्रदर्शनकारियों के खिलाफ कार्रवाई सघन होती जा रही है। आज सुरक्षा बलों ने प्रदर्शनकारियों पर ताबड़तोड़ गोलियाँ चलाई जिसमें कम से कम छह लोगों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए। त्रिपोली के फाशलोम, अशौर, जम्हूरिया और शौक अल आदि कई जिलों में ऐसी गोलीबारी की खबरें हैं।

एक प्रत्यक्षदर्शी ने अल जजीरा को बताया कि सुरक्षा बलों ने प्रदर्शनकारियों पर अंधाधुंध गोलियाँ चलाईं। सग अल-जोमा की गलियों में मौत नाच रही थी। इससे पहले कल जवियाह में गद्दाफी समर्थक सुरक्षा बलों ने मशीनगनों से प्रदर्शनकारियों पर हमले किए थे और एक मस्जिद पर ग्रेनेड से हमले किए थे। इस गोलीबारी में 100 से ज्यादा लोग मारे गए थे।

गौरतलब है कि पूर्वी लीबिया के कई शहर पहले ही विद्रोहियों के कब्जे में जा चुके हैं। विद्रोही अब कज्जाफी के मजबूत गढ़ त्रिपोली की ओर बढ़ रहे हैं और उनके समर्थक सुरक्षा बल प्रदर्शनकारियों को खदेड़ने के लिए पूरी कोशिश कर रहे हैं।


दूसरी तरफ लीबिया में विरोध प्रदर्शनों की अगुवाई करने वाले शहर बेनगाजी में आज प्रदर्शनकारियों ने शुक्रवार की नमाज अदा की और हिंसा में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि अर्पित की। अभी भी यह स्पष्ट नहीं है कि देश में पिछले कई दिनों से चल रहे विरोध प्रदर्शनों के दौरान कितने लोग मारे गए हैं।
फ्रांस एक शीर्ष मानवतावादी अधिकारी ने कहा है कि मरने वालों की संख्या दो हजार तक हो सकती है। त्रिपोली के निकट के शहर मिसराता से भी भीषण संघर्ष की खबरें मिल रही हैं। यहाँ एक हवाई अड्डे पर कब्जे के लिए गद्दाफी समर्थक और विरोधी आमने-सामने हैं।

राजधानी त्रिपोली से मिल रही खबरों के मुताबिक शहर की सड़कों पर पड़े शवों को हटा दिया गया है। सड़कों पर गद्दाफी समर्थक सैनिक गश्त कर रहे हैं। प्रमुख सरकारी इमारतों के बाहर भी सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि विद्रोहियों की तलाश के लिए अस्पतालों और मकानों की छापेमारी की जा रही है।
गद्दाफी का साथ उनके रिश्तेदार और निकट सहयोगी अहमद कादाफ अल-दाम ने भी छोड़ दिया है। उन्होंने हिंसा का विरोध करते हुए सभी महत्वपूर्ण पदों से इस्तीफा दे दिया है।

उधर, अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपने फ्रांसीसी समकक्ष निकोलस सरकोजी, ब्रिटिश प्रधानमंत्री डेविड कैमरन और इटली के प्रधानमंत्री सिल्वियो बर्लुस्कोनी से फोन पर लीबिया के हालात पर चर्चा की। (भाषा)



और भी पढ़ें :