ब्रिटेन में रहेंगे परवेज मुशर्रफ-रिपोर्ट

लंदन (भाषा)| भाषा|
के पूर्व राष्ट्रपति द्वारा दो साल पहले लगाए गए को द्वारा असंवैधानिक करार दिए जाने के बाद एक मीडिया रिपोर्ट में शनिवार को बताया गया है कि मुशर्रफ संभवत: ब्रिटेन में और अधिक समय तक निर्वासन में रहेंगे।

इस बाबत प्रतिक्रिया के लिए मुशर्रफ से संपर्क नहीं हो सका। खबरों के मुताबिक मुशर्रफ ने लंदन में एक फ्लैट खरीदा है। खबरें बताती हैं कि वे फिलहाल एक लक्जरी क्रूज पर हैं।

‘द गार्जियन’ की एक खबर के अनुसार 14 न्यायाधीशों की एक पीठ द्वारा मुशर्रफ के कदम को असंवैधानिक करार दिए जाने के बाद वकीलों ने खुशी मनाई थी। चीफ जस्टिस इफ्तिखार चौधरी ने यह व्यवस्था दी, जिन्हें खुद भी मुशर्रफ ने मार्च 2007 में पद से हटा दिया था।
रिपोर्ट ने एक सेवानिवृत्त जनरल और मुशर्रफ के पूर्व सहयोगी तलत मसूद के हवाले से कहा कि उनके जल्दी पाकिस्तान लौटने की संभावना नहीं है। उन्होंने कहा कि वह बाहर ही रहेंगे और सेना उन्हें वहीं रहने की सलाह देगी। मैंने सुना है कि वे एक लक्जरी क्रूज पर हैं। मुझे लगता है कि इसमें विस्तार किया जा सकता है।

व्यवस्था के अनुसार आपातकाल के समय पारित किए गए सभी 37 कानूनों की समीक्षा भी संसद द्वारा की जाएगी। रिपोर्ट कहती है कि पाँच घंटे तक चले विचार विमर्श के बाद आया फैसला चौधरी के लिए सांकेतिक जीत है, जिन्हें पिछले गत मार्च में एक बड़े प्रदर्शन के बाद बहाल किया गया था।
अखबार के अनुसार माना जाता है कि सेना ने इसमें भूमिका निभाई और कियानी ने राजनीतिक स्थिरता के लिए जरदारी से चौधरी को बहाल करने का अनुरोध किया था।

राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी के प्रवक्ता फरहतुल्ला बाबर के हवाले से खबर में इस फैसले को लोकतांत्रिक सिद्धांतों की जीत करार दिया गया है। अदालत में सुनवाई के दौरान न तो मुशर्रफ मौजूद थे और ना ही उनके वकील मौजूद थे। मुशर्रफ खबरों के मुताबिक सेना प्रमुख जनरल अशफाक कियानी के अनुरोध पर दो महीने पहले पाकिस्तान से ब्रिटेन के लिए रवाना हो गए।
सऊदी अरब दे सकता है शरण : मुशर्रफ के फैसले को सुप्रीम कोर्ट के असंवैधानिक करार दिए जाने के बाद पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति जहाँ नए संकट में नजर आ रहे हैं, वहीं सऊदी अरब ने कहा कि अगर पूर्व सैन्य शासक अनुरोध करते हैं तो वह उन्हें राजनीतिक शरण देने के बारे में विचार कर सकता है।


और भी पढ़ें :