सुरीला करियर संगीत का

म्यूजिक थैरेपिस्ट
संगीत उपचारक एक विशिष्ट तथा अद्भुत कार्य करते हैं। इनका कार्य संगीत से लोगों का उपचार करना होता है जिसके लिए ये विशेष प्रशिक्षण प्राप्त करते हैं तथा लय और माधुर्य का प्रयोग कर मानसिक तथा भावनात्मक रोगों का उपचार करते हैं। सक्षम म्यूजिक थैरेपिस्ट के लिए भावनात्मक स्थिरता तथा बोध अनिवार्य गुण माना जाता है। उनमें ध्वनियों को खोजने, उनकी व्याख्या करने तथा सृजनात्मक उपयोग विकसित करने की क्षमता होती है।


म्यूजिक थैरेपिस्ट सभी आयु वर्ग के लोगों की मानसिक विकृतियों, मानसिक अवसादों तथा विकासात्मक अपंगता, गूँगा तथा बहरापन, शारीरिक विकलांगता तथा न्यूरोलॉजिकल समस्याओं का संगीत से निदान करते हैं। यह एक चुनौतीपूर्ण करियर विकल्प है जिसमें मानवीय संवेदनाएँ तथा भावनाएँ जुड़ी हुई हैं। आमतौर पर म्यूजिक थैरेपिस्ट मानसिक चिकित्सालयों, सामुदायिक मानसिक स्वास्थ्य संस्थाओं, पुनर्वास केंद्रों, नर्सिंग होमों पर कार्य करते हैं या अपना खुद का केंद्र भी संचालित कर सकते हैं।

म्यूजिकोलॉजिस्
जिन्हें संगीत का अच्छा ज्ञान हो तथा रिसर्च में दिलचस्पी हो तथा बेहतरीन सम्प्रेषण कौशल हो वे अनुसंधान संस्थानों में म्यूजिकोलॉजिस्ट के रूप में काम कर सकते हैं।

वीडियो जॉकी (वीजे) तथा डिस्क जॉकी (डीजे)
विभिन्न म्यूजिक चैनलों के आगमन के साथ ही वीजे एक रोमांचक करियर विकल्प बनकर उभरा है। इनके काम में म्यूजिक वीडियो को इंट्रोड्यूस करना, आर्टिस्टों और संगीत की हस्तियों से इंटरव्यू लेना शामिल है। वीजे या डीजे बनने के लिए किसी खास शैक्षणिक पृष्ठभूमि की आवश्यकता नहीं है। फिर भी जनसंचार, विजुअल कम्युनिकेशंस या परफार्मिंग आर्ट्‌स की पृष्ठभूमि इसमें मददगार साबित होती है।
इस विजुअल मीडियम का खास गुण है बेहतरीन प्रस्तुतीकरण कौशल, साफ आवाज, हाजिरजवाबी तथा संगीत की विभिन्न शैलियों का गहन ज्ञान। इसके अलावा उनकी बॉडी लैंग्वेज तथा ड्रेस सेंस भी अच्छा होना चाहिए।

म्यूजिक लाइबे्ररियन
कॉलेजों तथा पब्लिक लाइब्रेरियों द्वारा प्रशिक्षित म्यूजिक स्पेशलिस्टों को जिनके पास लाइब्रेरी का ज्ञान तथा रिसर्च तकनीक हो म्यूजिक लाइब्रेरियन के रूप में करियर निर्माण के अवसर प्रदान किए जाते हैं। रेडियो, टेलीविजन तथा मोशन पिक्चर्स के क्षेत्र में भी म्यूजिक लाइब्रेरियन के लिए रोजगार के अवसर उपलब्ध हैं। इसके लिए उनके पास संगीत की किसी योग्यता के अतिरिक्त लाइबे्ररी साइंस में डिग्री होना चाहिए।
म्यूजिक जर्नलिस्ट
इनका काम परफॉर्मेंस और रिकॉर्डिंग्स की समीक्षा करना, आर्टिस्टों से साक्षात्कार करना तथा संगीत समीक्षा लिखना होता है। वे न्यूज रिलीज और परफॉर्मर्स और न्यूज तथा अपडेट्स देते हैं। कुछ संगीत समालोचक के रूप में भी काम करते हैं। संगीत के क्षेत्र में यह एक फ्रीलांसिंग क्षेत्र है।
वे समाचार पत्रों-पत्रिकाओं तथा वेबसाइटों के लिए भी काम कर सकते हैं। इस क्षेत्र में करियर बनाने के लिए व्यक्ति को संगीत का अच्छा ज्ञान तथा उसमें दिलचस्पी होनी चाहिए। साथ ही उनमें लेखन प्रतिभा और भाषा पर अच्छी पकड़ भी होनी चाहिए।

स्त्रोत : नईदुनिया अवसर



और भी पढ़ें :