10 ऐसे आविष्कार जो महिलाओं ने किए हैं...


WD|
4. सफेद संशोधक/ वाइट करेक्शन फ्लुइड ( White correction fluid ) : टेक्सास के एक बैंक और ट्रस्ट में सेक्रेटरी के तौर पर काम करने वाली बेट्टे नेस्मिथ ग्राहम (Bette Nesmith Graham ) ने महसूस किया पूराने इलेक्ट्रिक टाइपराटर से होने वाली गलतियों को मिटाना मुश्किल था। एक दिन उन्होंने एक आर्टिस्ट (कलाकार) पर ध्यान दिया जो गलतियों को मिटाता नहीं था बल्कि हमेशा उन पर पैंट कर देता था। उसे देखकर ग्राहम ने फैसला किया वह गलतियों को मिटाने के बदले उन्हें पैंट कर देंगी। वह टेंपरा वाटर-बेस्ड पैंट को एक बोतल में भरकर अपने ऑफिस ले गईं।
 
ग्राहम ने पांच साल तक सफेद रंग से करेक्शन किए। इस दौरान अपने बेटे की कैमिस्ट्री टीचर की मदद से इस कलर को और बेहतर बना लिया। उनके कुछ बॉस ने उन्हें ऐसा करने से मना किया परंतु उनके साथी अक्सर उनसे यह कलर मांगते थे। बाद में 1956 में उन्होंने टाइपराइटर की गलतियों को छुपाने के लिए इस्तेमाल होने वाले रंग को 'मिस्टेक आउट' के नाम से बेचना शुरू कर दिया। जिसका नाम बदलकर 'लिक्विड पेपर' कर दिया गया जब उन्होंने अपनी स्वयं की कंपनी खोली। साल 1979 में उन्होंने लिक्विड पेपर को जिलेट कॉर्पोरेशन को 47.5 मिलियन डॉलर में बेच दिया। इस समय उनकी कंपनी में 200 कर्मचारी काम कर रहे थे जिसमें 25 मिलियन लिक्विड पेपर की बोतल बनतीं थीं।



और भी पढ़ें :