0

महिला दिवस : कोरोनाकाल में लावारिस लाशों का अंतिम संस्कार करने वाली हीरा बुआ, पढ़कर आंसू नहीं रुकेंगे

सोमवार,मार्च 8, 2021
0
1
भोपाल में मानसरोवर ग्लोबल यूनिवर्सिटी में एग्रीकल्चर की असिस्टेंट ‌प्रोफेसर साक्षी भारद्वाज ने अपने पर्यावरण के प्रति प्रेम और जुनून के चलते अपने महज 800 स्क्वायर फीट की जगह में 450 किस्म के 4 हजार पौधों का एक सेल्फ सस्टेंड गार्डन बना डाला और जिसका ...
1
2
मैं भी आयशा ही हूं लेकिन जिंदा आयशा... तुम्हारे और मेरे नसीब में ज्यादा फर्क नहीं है। वही सब कुछ मेरे साथ भी हुआ जो तुम्हारे साथ हुआ। वही दहेज, वही शौहर की बेवफाई, वही घर की औरतों के ताने, वही बार बार की मांग और बार-बार मायके से ससुराल, ससुराल से ...
2
3
भोपाल। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर ‘वेबदुनिया’ आपको उन महिलाओं से मिलवा रहा है जिन्होंने अपनी लगन और परिश्रम के बल पर न केवल अपने जीवन में एक खास मुकाम हासिल किया बल्कि आज देश-दुनिया में एक रोल मॉडल के तौर पर भी जानी पहचानी जा रही है।
3
4
आइए सलाम करें नारी की अदम्य इच्छाशक्ति को... उसके जीवट को... विषम हालात में जीने की उसकी मजबूती को.... महिला दिवस पर वेबदुनिया की विशेष प्रस्तुति....
4
4
5
आप चाहे गृहिणी ही क्यों न हो, लेकिन आपका व्यक्तित्व भी दमदार होना चाहिए, क्योंकि आप पूरा घर और घर के सभी सदस्यों को संभालती हैं, इसलिए आप होम मैनेजर हैं।
5
6
आज महिला जिम्मेदार तो है साथ ही, कितनी जिम्मेदारी अपने कंधों पर लेना है, यह वे अपनी प्राथमिकता अनुसार तय करती हैं। जितना काम वे अच्छी तरह से निभा सकें
6
7
इंदौर शहर की जानी-मानी महिला शक्ति स्तंभ-समाज सेविका श्रीमती जनक पलटा मगिलिगन, जितनी वे स्वयं सरल, सहज और सौम्य हैं उनका परिचय देना उतना ही कठिन है।
7
8
नाजुक सी बेटी जब जन्म के बाद पहली बार पिता के हाथों में आती है तो अरमानों के बादलों पर सवार हो उनका मन ऊंची उड़ान भरने लगता है। और फिर एक दिन उन्हीं अरमानों की उड़ान भर कर बेटी अपना कर्तव्य अदा करती है वाकई सलाम ही किया जा सकता है। जी हां, हम बात ...
8
8
9
महिलाओं का दूसरा नाम है त्याग और समर्पण...मां,बेटी,बहन,बहू,पत्नी के रूप में प्यार लुटाया तो जमीन हो या आसमान या हो सागर की अथाह गहराई हर क्षेत्र में उन्होंने अपनी काबिलियत का दम दिखाया इतना ही नहीं समय आने पर मां दुर्गा का रूप धारण कर दुश्मनों का ...
9
10
विश्वभर में प्रथम अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस 11 अक्टूबर 2012 को मनाया गया। संयुक्त राष्ट्र महासभा ने वर्ष 19 दिसंबर 2011 को इस बारे में एक प्रस्ताव पारित किया था
10
11
लेफ्टिनेंट जनरल माधुरी कानिटकर सशस्त्र बलों में करियर की तलाश में एक युवा महिला के लिए एक प्रेरणास्रोत हैं जिन्होंने लेफ्टिनेंट जनरल का पद ग्रहण किया है। बता दें कि यह सेना में ऐसी तीसरी महिला हैं, जो इस पोस्ट पर पहुंची हैं......
11
12
कहावत तो सात वार नौ त्योहार की है, पर हमारी बई के तो सात वार में नौ बरत आते थे। कभी सोमवार के साथ ग्यारस आ जाती तो कभी गुरुवार के साथ प्रदोष।
12
13
बात ज्यादा पुरानी नहीं है। मेरे पास एक सहायक थी घरेलू कामों में सहायता के लिए। बेहद ईमानदार, मेहनती, दुबली-पतली पर जीवट। नाम था पूनम। आई तो खाना बनाने के लिए थी पर कुछ समय बाद उसने सभी काम करने के लिए मुझसे पूछा।मैंने भी उसे परखा हुआ था, सो उसी को ...
13
14
5 भाई-बहनों में सबसे बड़ी जया ने अभी तक 2 किताबें लिखी हैं- एक कविता संग्रह 'पुरानी डायरी से, दूसरी लघुकथा संग्रह 'आई एम स्पेशल'। इसके साथ ही स्वयं के लिखे, गाए भजनों की सीडी भी रिकॉर्ड कर निकाल चुकी हैं।
14
15
'नकारात्मक तथ्यों को सकारात्मक तरीके से मनुष्य के अंदर प्रवेश कराना चाहते हो तो गीता पढ़ो', ऐसा मैंने कहीं पढ़ा है। पर इस सुंदर, सादी, भोली, निश्छल मुस्कान से सजी गीता से मिलिए। यकीन भी होने लगेगा कि गीता वाकई में केवल पढ़ी-सुनी जाए, जरूरी नहीं। हमारे ...
15
16
डॉ. हेमा काबरा लड्ढा : एक एथलेटिक्स की सफलता का रोमांचक सफर...बात 1972 की है। खेल के मैदान में एक 11 वर्ष की नन्ही-सी गुड़िया अपनी बड़ी बहनों के साथ कौतूहल से सब गतिविधियों को आंखें फाड़-फाड़कर देख रही है। ऐसा नहीं था कि उसके लिए यह सब नया था। उसकी ...
16
17
अहमदाबाद में जन्म लेने वाली 49 वर्षीय केतकी के जीवन में सन् 2010 तक सब कुछ सामान्य था, जैसे सभी का खुशहाल जीवन होता है। पर अचानक से वे 'एलोपेशिया' नाम की बीमारी का शिकार हुईं जिसमें खोपड़ी से बालों के गुच्छे अचानक से गिरने लग जाते हैं, गंजे होने लगते ...
17
18
'अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस' पूरे देश के लिए बहुत महत्व रखता है। इस दिन महिलाओं के विकास, हर जगह महिलाओं की मौजूदगी और उनके साहस को सलाम किया जाता है। मां हो, बहन हो, पत्नी हो या बेटी- जिंदगी के हर मोड़ में नारी मजबूती के साथ आगे बढ़ती रही है....
18
19
जब तक निर्भया के गुनाहगारों को फांसी नहीं होती, मैं महिला दिवस के किसी भी कार्यक्रम में नहीं जाऊंगी। यह कहना है जानीमानी लेखिका ऋचा दीपक कर्पे का।
19