0

India's Miss TGPC की फाइनलिस्ट आरंभी माणके : मॉडलिंग की दुनिया का उभरता चेहरा

शुक्रवार,अगस्त 23, 2019
Aarambhi Manke
0
1
साल 2018 का सर्वोच्च नागरिक सम्मान और शांति का नोबेल पुरस्कार नादिया मुराद को दिया गया है। नादिया एक ईराकी नागरिक और यजीदी कार्यकर्ता है। उन्हें यह पुरस्कार दुनियाभर के युद्धग्रस्त क्षेत्रों में यौन हिंसा के खिलाफ काम करने के लिए दिया गया है। ...
1
2
इन दिनों जबकि कश्मीर से युवाओं की बस एक ही तस्वीर आ रही है। वह है हाथों में पत्थर, मुंह पर कपड़ा, अजीब से नारे, आर्मी और पुलिस के लिए गालियां... ऐसे डरावने मंजर से कोई एक खबर ऐसी आती है कि लगता है कश्मीर की केसर क्यारियां फिर मुस्कुराने वाली है। ...
2
3
चाहे आप कितने ही सुंदर व आकर्षक क्यों न दिखते हो... यह सब केवल दूर से देखने भर तक ठीक है। लेकिन आपके व्यक्तित्व से कोई व्यक्ति उस समय रूबरू हो जाएगा, जब आप उनसे कुछ बोलेंगे और बात करेंगे यानी कि जब कोई व्यक्ति आपकी बोली और आवाज सुनेगा। अगर उसे आपकी ...
3
4
ज़िंदगी में एक ऐसा समय आता है जब आपको लगने लगता है कि आपके आसपास सभी की शादी हो रही है। फेसबुक, व्हाट्सएप, टीवी, एक्टर, बॉलीवुड और तो और हॉलीवुड में भी सभी की लवलाइफ या शादी पटरी पर है।
4
4
5
हम बात कर रहे हैं नौसेना की जांबाज महिला अफसरों के उस दल की जिन्होंने छोटी पाल नौका से समुद्र का चक्कर लगाया है और 21 मई को वे लौट आई हैं अपने खूबसूरत लेकिन खतरनाक सफर से...
5
6
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर आज हम आपको मिलवा रहे हैं उस होनहार प्रतिभा से जो निश्चित रूप से भविष्य में भारत का परचम लहराएगी। नाम: सावनी भट्ट ...
6
7
ऐसा माना जाता है दुनिया को सारी नई चीजें पुरुषों की ही देन है। हम आपको बताने जा रहे हैं 10 ऐसी बेहतरीन खोज के विषय में जो इस विश्व को महिलाओं की देन हैं।
7
8
अर्पिता राउत ओडिशा के एक छोटे-से अनजान गांव पाल तमुंदाई की एक छोटी-सी लड़की। बचपन से ही इंजीनियर बनना चाहती थी। स्कूल, मां-पिता और शिक्षकों के सहयोग से अपने सपने को पूरा करने में लगी रही।
8
8
9
ये क्या हरकत है, कैसे बैठी हो? ठीक से बैठो। पैर क्रॉस करके बैठो। कम से कम अपने ऐंकल्स को तो क्रॉस करो। ऐसे कई सारे निर्देश हैं जो एक लड़की को अपनी मां, दादी, बुआ, बहन और तो और कभी कभी मिलने वाले रिश्तेदारों से भी सुनने को मिलते रहते है।
9
10
ख्वाब और महत्वाकांक्षाएं भले ही कुछ समय परिस्थतियों के चलते दबकर या बंधकर जाएं...लेकिन दृढ़ संकल्प और साहस का साथ हो, तो उनके होने और भावी संभावनाओं की कोई सीमा नहीं रह जाती। इस बात का जीता जागता उदाहरण हैं, फ्रांस की शिक्षा एवं शोध मंत्री, नजात ...
10
11
अब तक हम सुनते आए हैं कि हर सफल इंसान के पीछे एक महिला का हाथ होता है, लेकिन अब हम कह सकते हैं कि हर सफल अंतरिक्ष मिशन के पीछे भी एक नहीं बल्कि सैकड़ों महिला वैज्ञानिकों का सहयोग होता है।जी हां, यह बात हम यूंहीं नहीं बोल रहे बल्कि इस बात को सच साबित ...
11
12
इसमें अब कोई शक नहीं, कि महिलाएं पुरुषों से किसी भी मामले में पीछे हैं। फिर चाहे वह घर की चार दीवारी में गृहस्थी संभालना हो या फिर बाहरी दुनिया में कंधे से कंधा मिलाकर चलना। यहां तक कि विज्ञान का यह युग, अपनी सफलताओं के लिए नारी के बिन अधूरा है। ...
12
13
इंदौर शहर की जानी-मानी महिला शक्ति स्तंभ-समाज सेविका श्रीमती जनक पलटा मग‍िलिगन को पद्मश्री सम्मान मिल चुका है। 26 जनवरी 2015 को डॉ. जनक पलटा को पद्मश्री से सम्मानि‍त करने की घोषणा की गई, तो अपनी प्रतिक्रिया में समाजसेवी डॉक्टर जनक पलटा मग‍िलिगन ने ...
13
14
जब उड़ने की हो ख्वाहिशें, हौंसलों के पर खुद ब खुद निकल आते हैं, अपनों का हो साथ, तो आप खुद को आसमान में पाते हैं
14
15
खुशनुमा जिंदगी में कभी-कभी ऐसा दौर भी आता है, जब हवा का एक झोंका रेत की तरह सपनों और खुशियों से सजे लम्हों को कोसों दूर ले जाता है। और फिर शुरू होती है एक जद्दोजहद उस जिंदगी से, जो कभी मांगी नहीं थी, लेकिन मिल गई....और उसी में जीना है हर सपने, हर ...
15
16
मिर्जा सलमा बेग भारतीय रेलवे में नजाकत और नफासत के शहर लखनऊ के निकट मल्हौर में गेटमैन के पद पर तैनात हैं। सलमा ने 'गेटमैन' की भूमिका को सहजता से निभाते हुए यह सिद्ध कर दिया है कि वह इस जिम्मेदारी को किसी पुरुष की ही तरह बल्कि उनसे कहीं ज्यादा कुशलता ...
16
17
विश्व की 100 शक्तिशाली महिलाओं की फोर्ब्स ने ताजा सूची जारी की है। इस सूची में भारत की 4 शख्सियतें शामिल हैं। शोभना भरतिया, चंदा कोचर, अरुंधति भट्टाचार्य और किरण मुजूमदार शॉ यह चार ऐसे नाम है जिन्होंने वैश्विक स्तर पर भारत की गरिमा में चार चांद लगाए ...
17
18
जो लोग यह सोचते हैं कि बॉडी बिल्डिंग बनाना सिर्फ पुरुषों का ही शगल है उनके लिए अश्विनी वासकर एक शानदार जवाब है। अश्विनी का नाम अब किसी से अपरिचित नहीं रहा। अश्विनी की पहचान सफल और सशक्त प्रतिस्पर्धी बॉडी बिल्डर के तौर पर उभरी है। अश्विनी मूलतः ...
18
19
गौरतलब है कि आजाद भारत में महिलाएं दिन-प्रतिदिन अपनी लगन, मेहनत एवं सराहनीय कार्यों द्वारा राष्ट्रीय पटल पर अपनी पहचान बनाने में कामयाब हुई हैं। मौजूदा दौर में महिलाएं नए भारत के आगाज की अहम कड़ी दिख रही हैं।
19