फिल्मी सितारों का रोमांस

Shahrukh-gouri khan
IFM
रोमांस के मामले में शाहरुख ने अपने पिता का अनुसरण किया है। उनके पिता ने भी प्रेम-विवाह किया था। शाहरुख ने करीब नौ साल तक गौरी का पीछा किया। दोनों स्कूली छात्र थे। शाहरुख बाहरवीं में और गौरी नौवीं में पढ़ती थीं।

‘बॉब’ फिल्म के ऋषिकपूर और डिम्पल की तरह इनका रोमांस परवान चढ़ा। शुरू में दो परिवारों में खींचतान हुई बाद में शादी की शहनाइयाँ बजीं। आज शाहरुख और गौरी फिल्मी दुनिया के सबसे खुशकिस्मत दम्पत्ति माने जाते हैं। सुपर स्टार पति, निष्ठावान पत्नी, बेटा आर्यन और बेटी सुहाना के साथ इससे अधिक भाग्यशाली परिवार भला और किसका हो सकता है

परिणय-मंगल के सफल खिलाड़ी
akshy - twinkal
IFM
अक्षय कुमार यह कहते फूले नहीं समाते कि 'ऐसी बीवी हर किसी को नहीं मिलती। उसे घर की साज-सज्जा में दिलचस्पी है और मैं सब कुछ उलट-पुलट कर देता हूँ। हमारे बीच एक-दूसरे को चाहने का मजबूत आधार है।'

समय ताम्रकर|
हिन्दी सिनेमा का स्थाई भाव है। भारत में फिल्मों की शुरुआत से लेकर आज तक तमाम फिल्में प्रेके इर्दगिर्द बनती आई हैं। दो लड़के, एक लड़की या फिर दो लड़की और एक लड़का पर सैकड़ों फिल्में बनी हैं। फिल्म का विषय कुछ भी हो, उसमें जरूर दिखाया जाता है और प्रेमी-प्रेमिका गाना जरूर गाते हैं। ये प्यार के तराने बम्बई के चौपाटी से लेकर स्विट्ज़रलैंड की वादियों में गाए जाते हैं। दूरियाँ, नजदीकियों में बदलती है। आँखें चार होती हैं। दिलों की धड़कन आसपास के लोगों तक को सुनाई देने लगती है। और फिर दीवार की तरह तनकर सामने खड़े हो जाते है, एक अदद माँ-बाप, अमीरी-गरीबी, ऊँच-नीच, बड़ा-छोटा, धर्म-अधर्म तथा शहरी-ग्रामीण की बाधाएँ। ये कभी पार हो जाती हैं। कभी नहीं हो पातीं, तो नायक देवदास बनकर गम मिटाने के लिए शराब पीता है और चंद्रमुखी के आँचल में सिर छिपाता है। ऐसा नहीं हुआ, तो फिर दिलवाले दुल्हनियाँ ले जाते हैं। फिल्मों में काम करने वाले कलाकारों की प्रेम कहानियाँ भी फिल्मों से कम दिलचस्प नहीं है। वेलेंटाइन डे पर याद करते हैं उन कलाकारों की प्रेम कहानी, जो युवा प्रेमियों के सामने मिसाल है।
सच हुए सपने : शाहरुख-गौरी
अक्षय की पत्नी ट्विंकल मशहूर सितारा जोड़ी राजेश खन्ना-डिम्पल की बेटी हैं। फिल्म ‘इंटरनेशनल खिलाड़’ की शूटिंग के दौरान दोनों की नजरें चार हुईं और शादी हो गई। शादी के बाद ट्विंकल ने फिल्मों में काम नहीं करने का फैसला किया। छः साल का बेटा अराव अपने पापा की फिल्में देखकर तालियाँ बजाता है। उसे जब कभी अक्षय गोद में उठाते हैं तो वे कहते हैं कि इससे अधिक खूबसूरत अनुभव दुनिया में दूसरा नहीं है।



और भी पढ़ें :