अपहरण, धर्मांतरण, जबरन शादी और फिर गैंगरेप, युवती के परिजनों ने बताई पूरी कहानी

पुनः संशोधित शुक्रवार, 1 जुलाई 2022 (21:36 IST)
हमें फॉलो करें
गोंडा (उप्र)। गोंडा जिले के परसपुर थाना क्षेत्र से एक महिला को कथित तौर पर अगवा करने, कराकर उससे जबरन शादी करने और सामूहिक दुष्कर्म के मामले में 4 लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है।

लड़की के पिता ने बताया कि 14 जून को जब उनकी बेटी नित्यकर्म के लिए बाहर गई थी, तो जावेद के भाई बहादुर ने उसे पकड़कर कुछ नशीला पदार्थ सुंघाकर बेहोश कर दिया और उसे मुंबई ले जाकर एक कमरे में बंद कर दिया।

पुलिस अधीक्षक (एसपी) संतोष कुमार मिश्रा ने 23 वर्षीय महिला के पिता द्वारा दी गई तहरीर का हवाला देते हुए बताया कि उसके गांव का ही निवासी जावेद मुंबई में नौकरी करता है। वह फोन से उसकी बेटी से बातचीत किया करता था और उसे घूमने के लिए मुंबई बुलाता था, किन्तु वह कभी जावेद के झांसे में नहीं आई।
जबरन निकाह : आरोप के मुताबिक 14 जून को जब उनकी बेटी नित्यकर्म के लिए बाहर गई थी, तो जावेद के भाई बहादुर ने उसे पकड़कर कुछ नशीला पदार्थ सुंघाकर बेहोश कर दिया और उसे मुंबई ले जाकर एक कमरे में बंद कर दिया।

वहां एक मौलवी को बुलाकर उसका जबरन धर्म परिवर्तन कर जावेद से निकाह करा दिया गया। पिता ने शिकायत में कहा कि वहां महमूद, इबरार और जावेद ने उसकी बेटी के विरोध के बावजूद उसके साथ कई बार सामूहिक दुष्कर्म किया।
इस बीच जावेद को पता चल गया था कि लड़की के परिजनों को घटना के बारे में विस्तृत जानकारी हो गई है, तो वे लोग मुकदमा दर्ज होने और गिरफ्तार किए जाने के भय से उसकी बेटी को 23 जून को कर्नलगंज रेलवे स्टेशन पर छोड़ गए।

जावेद ने उसकी बेटी को इस बारे में मुंह खोलने पर अंजाम भुगतने की धमकी भी दी है। एसपी के निर्देश पर चारों आरोपियों के खिलाफ संबंधित धाराओं में मामला दर्ज किया गया है।
प्रभारी निरीक्षक शमशेर बहादुर सिंह ने शुक्रवार को बताया कि अभियोग पंजीकृत कर बालिका को चिकित्सीय परीक्षण तथा अन्य कानूनी औपचारिकताओं के लिए जिला मुख्यालय भेजा गया है। जल्द ही अभियुक्तों को गिरफ्तार किया जाएगा। (भाषा)




और भी पढ़ें :