श्रीकृष्ण के बारे में 14 रहस्य जानकर रह जाएंगे हैरान

krishna
अनिरुद्ध जोशी|
संकलन : अनिरुद्ध जोशी 'शतायु' 'न कोई मरता है और न ही कोई मारता है, सभी निमित्त मात्र हैं...सभी प्राणी जन्म से पहले बिना शरीर के थे, मरने के उपरांत वे बिना शरीर वाले हो जाएंगे। यह तो बीच में ही शरीर वाले देखे जाते हैं, फिर इनका शोक क्यों करते हो।'- कृष्ण
krishna
जैन धर्म के 22वें तीर्थंकर अरिष्ट नेमिनाथ भगवान के चचेरे भाई थे, कृष्ण इनके पास बैठकर इनके प्रवचन सुना करते थे। हालांकि जैन धर्म ने कृष्ण को उनके त्रैषठ शलाका पुरुषों में शामिल किया है, जो नौ वासुदेव में से एक है।
 
 
3112 ईसा पूर्व हुए भगवान श्रीकृष्ण एक राजनीतिक, आध्यात्मिक और योद्धा ही नहीं थे वे हर तरह की विद्याओं में पारंगत थे। भगवान श्रीकृष्ण से धर्म का एक नया रूप और संघ शुरू होता है। श्रीकृष्ण ने धर्म, राजनीति, समाज और नीति-नियमों का व्यवस्थीकरण किया था।
 
पहले हमने भगवान श्रीकृष्ण के जीवन से जुड़े 11 रोचक तथ्य बताए थे। इस बार पढ़िए 14 रहस्यमयी तथ्य जिन्हें जानकर आप हैरान रह जाएंगे।
 
अगले पन्ने पर पहला रहस्यमयी तथ्य...
 



और भी पढ़ें :