0

जानिए क्‍या होता है बीटिंग द रिट्रीट सेरेमनी? हर साल 29 जनवरी को ही क्‍यों मनाया जाता है?

गुरुवार,जनवरी 27, 2022
0
1
गणतंत्र दिवस (Republic Day 2022) भारत का राष्ट्रीय पर्व है। यह पर्व हर साल बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। 26 जनवरी 2022 को हम अपना 73वां गणतंत्र दिवस मनाने जा रहे हैं। इस दिन का इंतजार पूरे देश को रहता है। यहां पढ़ें रिपब्लिक डे (Republic Day ...
1
2
यह जानना अत्‍यंत रोचक है कि हमारा राष्‍ट्रीय ध्‍वज अपने आरंभ से किन-किन परिवर्तनों से गुजरा। इसे हमारे स्‍वतंत्रता के राष्‍ट्रीय संग्राम के दौरान खोजा गया या मान्‍यता दी गई। फ्रांसीसी क्रांति और उसके नारे स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व का भारतीय ...
2
3
क्या प्रत्येक भारतवासी को वह स्वतंत्रता प्राप्त है, जिसमें वह अपने विचार, अभिव्यक्ति, विश्वास, धर्म और उपासना के अधिकार का मुक्त प्रयोग कर सके? क्या भारतवर्ष के नागरिकों के बीच ऐसी बंधुता का प्रादुर्भाव हो चुका है, जिसमें प्रत्येक व्यक्ति की गरिमा ...
3
4
हममें से प्रत्येक नागरिक किसी न किसी रूप में, प्रत्यक्ष अथवा परोक्ष रूप से देश की सेवा कर सकता है, यदि वह चाहे तो। उदाहरण के लिए देश की उन्नति में सबसे बड़ी बाधक सुरसा के मुख की तरह फैलती जनसंख्‍या पर नियंत्रण करना भी देश की सबसे बड़ी सेवा होगी, ...
4
4
5
गणतंत्र दो शब्दों से मिलकर बनता है जो 'गण' अर्थात् जनता और 'तंत्र' अर्थात् शासन से है। गणतंत्र में जनता का ,जनता के लिए व जनता के द्वारा किया जाने वाला शासन होता है। हमारे देश में जनता के लिए बनाया गया संविधान लचीले संविधान की श्रेणी में भी आता है। ...
5
6
26 जनवरी 2002 को भारतीय ध्‍वज संहिता में संशोधन किया गया और स्‍वतंत्रता के कई वर्ष बाद भारत के नागरिकों को अपने घरों, कार्यालयों और फैक्‍ट‍री में न केवल राष्‍ट्रीय दिवसों पर, बल्कि किसी भी दिन बिना किसी रुकावट के फहराने की अनुमति मिल गई। अब भारतीय ...
6
7
मातृभूमि के प्रति तो हर ना‍गरिक का ऐसा भाव होना लाजमी है, लेकिन भारत की कुछ विशेषताएं ऐसी भी हैं जो पूरी दुनिया में इसे सबसे अलग, आकर्षक और खूबसूरत बनाती हैं। जानिए ऐसी ही 5 विशेषताएं...जिन्हें जानने के बाद आप फिर कह उठेंगे, सारे जहां से अच्छा, ...
7
8
आपकी स्पीच उत्साहित करने वाली और आगे के कार्यक्रम के लिए माहौल तैयार करने वाली होनी चाहिए न कि ऐसी जो कार्यक्रम के माहौल को ठंडा दें।
8
8
9
एक ऐसा गान जो प्रत्येक देशवासी की जुबान पर रहे। ऐसी धुन जिसके बजते ही तन-मन देशप्रेम की भावना में रम जाए। ऐसी प्रस्तुति जिसे सुनकर भाल गर्व से चमक उठे। लेकिन यह पूरा किसे याद है आइए जानते हैं इसके अंतिम पद जो कहीं और नहीं मिलेंगे...
9
10
हम ऐसा देश चाहते हैं जिसमें सभी लोगों को भरपेट पौष्टिक भोजन मिले, साफ पेयजल मिले। मेरा देश मेरी पहचान....
10
11
13 दिसंबर 1946 को पंडित जवाहरलाल नेहरू ने संविधान का उद्देश्य प्रस्ताव सभा में प्रस्तुत किया, जो 22 जनवरी 1947 को पारित किया गया। इसकी मुख्य बातें इस प्रकार हैं-
11
12
वन्दे मातरम्! सुजलाम, सुफलाम् मलयज-शीतलाम् शस्यश्यामलाम् मातरम् वन्दे मातरम् शुभ्र ज्योत्स्ना पुलकितयामिनीम् फुल्लकुसुमित द्रुमदल शोभिनीम्
12
13
26 जनवरी (26 January), गणतंत्र दिवस (gantantra diwas 2022) पर पढ़ें बच्चों के लिए 5 सरल कविताएं...
13
14
गणतंत्र दिवस (Republic Day) भारत का राष्ट्रीय पर्व (National Festival of India) है। यह प्रतिवर्ष 26 जनवरी को मनाया जाने वाला एक ऐसा दिन है, जिसे हर भारतवासी पूरे उत्साह,
14
15
अंग्रेजों के शासनकाल से छुटकारा पाने के 894 दिन बाद हमारा देश स्‍वतंत्र राज्‍य बना। तब से आज तक हर वर्ष समूचे राष्‍ट्र में गणतंत्र दिवस गर्व और हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।
15
16
Mera bharat mahan hai : 26 जनवरी गणतंत्र दिवस के मौके पर जानिए कि आखिर हम क्यों कहते हैं 'मेरा भारत महान'। ऐसी कौनसी बातें है तो भारत को महान बनाती है? ऋषि-मुनियों की भूमि भारत एक रहस्यमय देश है। आओ जानते हैं इसकी महानता के कारण।
16
17
इस वर्ष 26 जनवरी 2022 को भारत का 73वां गणतंत्र दिवस (73rd Republic Day 2022) मनाया जा रहा है। पूरे देशभर में प्रतिवर्ष 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस (Republic Day 2022) के रूप में मानते हैं। इस खास अवसर पर हर प्रमुख संस्थान में भाषण दिए जाते हैं।
17
18
26 जनवरी 2022 को भारत का गणतंत्र दिवस है.. ग्रह,नक्षत्र,सितारों की चाल के अनुसार जानिए इस दिन कैसा होगा आपका भविष्य.....
18
19
विश्‍व में राजतंत्र, धर्मतंत्र, साम्यवाद, कंपनीतंत्र और तानाशाही के बीच भारत में मौजूद गणतंत्र अर्थात लोकतंत्र। बहुत‍ से लोग चाहते हैं कि धर्म का शासन होना चाहिए और बहुत से लोग चाहते हैं कि कम्युनिस्टों का शासन होना चाहिए। जैसा कि चीन या उत्तर ...
19
20
जब एथेंस का अस्तित्व भी नहीं था तब भारत में लोकतंत्र था। लोकतंत्र की अवधारणा भारत की देन है। वेदों में और महाभारत में इसके सूत्र मिलते हैं। बौद्ध काल में वज्जी, लिच्छवी, वैशाली जैसे गंणतंत्र संघ लोकतांत्रिक व्यवस्था के उदाहरण हैं। वैशाली के पहले ...
20
21
26 जनवरी यानी गणतंत्र दिवस देश का राष्ट्रीय पर्व है। 26 जनवरी 1950 का यह दिन भारतीय इतिहास का सबसे महत्वपूर्ण दिन है। क्योंकि इस दिन भारत का संविधान अस्तित्व में आया था। इस दिन भारत पूर्ण रूप से गणतंत्र देश बन गया था। देश के लिए यह संविधान हर आयु ...
21
22
हमारे राष्‍ट्रगान के बारे में बहुत से दिलचस्‍प तथ्‍य हैं....आइए जानते हैं किसने लिखा, कितनी देर में गाया जाता है और आखिर क्‍या है इसका महत्‍व।
22
23
थाली में है रोली-कुमकुम, पीला चंदन है। करें तिरंगे की पूजा, शत-शत अभिनंदन है।। गंगा के पानी से अब तक, श्रद्धा नाता है। विंध्य, हिमालय, अरावली अब भी मुस्कराता है।।
23
24
आज हम सभी 72वां गणतंत्र दिवस मना रहे हैं यहां जानिए इस दिन से जुड़ी विशेष सामग्री
24
25
महाभारत काल में 16 महाजनपदों का उल्लेख मिलता है। महाभारत काल में प्रमुखरूप से 16 महाजनपद और लगभग 200 जनपद थे। 16 महाजनपदों के नाम : 1. कुरु, 2. पंचाल, 3. शूरसेन, 4. वत्स, 5. कोशल, 6. मल्ल, 7. काशी, 8. अंग, 9. मगध, 10. वृज्जि, 11. चे‍दि, 12. मत्स्य, ...
25
26
निवेदन यही कि बाह्य रूप से नहीं बल्कि आंतरिक रूप से गणतंत्र के अर्थ व महत्व को जज़्ब कीजिए और स्वयं से आरंभ कर इसका शेष समाज में उचित रूप से क्रियान्वयन संभव बनाइए। स्मरण रखिए, अपने तंत्र को सही अर्थों में सफल बनाना आपका कर्तव्य भी है और अधिकार भी।
26
27
गणतंत्र दिवस पर पंचमहापुरुष योग में से 2 योग बन रहे हैं। एक तो रुचक योग मंगल के स्वराशि में होने से बन रहा है।
27
28
वर्ष 1931 ध्‍वज के इतिहास में एक यादगार वर्ष है। तिरंगे ध्‍वज को हमारे राष्‍ट्रीय ध्‍वज के रूप में अपनाने के लिए एक प्रस्‍ताव पारित किया गया। यह ध्‍वज जो वर्तमान स्‍वरूप का पूर्वज है, केसरिया, सफेद और मध्‍य में गांधी जी के चलते हुए चरखे के साथ था।
28
29
हम ऐसा देश चाहते हैं जिसमें सभी लोगों को भरपेट पौष्टिक भोजन मिले, साफ पेयजल मिले। आइए जानें 30 महत्वपूर्ण बातें...
29
30
हमें विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश होने का गर्व है। हमारा लोकतंत्र धीरे-धीरे परिपक्व हो रहा है। हम पहले से कहीं ज्यादा समझदार होते जा रहे हैं। धीरे-धीरे हमें लोकतंत्र की अहमियत समझ में आने लगी है। सिर्फ लोकतांत्रिक व्यवस्था में ही व्यक्ति खुलकर ...
30
31
अगर आप भी खुद को देशभक्त मानते हैं तो पहले अपने दिल पर हाथ रखकर इन बातों को पढ़ें क्या आप ऐसा करते हैं? अगर हां, तो आप सच्चे देशभक्त हैं....अगर नहीं तो वक्त है सुधर जाइए....
31
32
अंग्रेजी इतिहास में डेमोक्रेसी शब्द सबसे पहली बार हिरोडोटस (Herodotus) नाम के ग्रीक व्यक्ति द्वार 5वीं सदी में उपयोग किया गया था। परंतु कहा जाता है कि सबसे पहले 507-508 ईसा पूर्व एथेंस में डेमोक्रेसी की जो शुरुआत हुई उसके पीछे क्लेशिथेंस ...
32